अभी-अभी: भारत को लेकर चीन बोला- हाथी और ड्रैगन लड़ाई छोड़ साथ-साथ नृत्य करें

चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने बुधवार को कहा कि चीन और भारत को अपने मानसिक संकोच को छोड़ने और आपसी मतभेदों को दूर करते हुए द्विपक्षीय संबंधों को बढ़ावा देने का प्रयास करना चाहिए। उन्होंने कहा कि यहां तक कि हिमालय भी दोनों देशों के दोस्ताना रिश्ते को रोक नहीं सकता है यदि उनके बीच राजनीतिक विश्वास है। भारत-चीन के रिश्तों को लेकर वांग ने टिप्पणी सालाना प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कीं।

 

अभी-अभी: भारत को लेकर चीन बोला- हाथी और ड्रैगन लड़ाई छोड़ साथ-साथ नृत्य करेंजब वांग से पूछा गया कि दोकलम सहित पिछले साल कई मुद्दों को लेकर भारत के साथ चीन के तनावपूर्ण रिश्तों के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा- कुछ परीक्षण और कठिनाइयों के बावजूद, भारत और चीन के रिश्तों को लगातार बढ़ना है। चीनी ड्रैगन और भारतीय हाथी को आपस में लड़ाई करने के बजाय एक-दूसरे के साथ डांस करना चाहिए। चीन का यह बयान बताता है कि वह भारत की लगातार बढ़ती ताकत को समझ रहा है।

द्वीपक्षीय वार्ता पिछले साल कई मामलों की वजह से प्रभावित हुए थे। जिसमें दोकलम गतिरोध, चीन-पाकिस्तान का इकोनॉमिक कॉरिडोर विवाद, चीन द्वारा संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान बेस्ड आतंकी मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित करने में अड़ंगा लगाने और भारत की परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह में एंट्री करने से रोक लगाना शामिल है। दोकलाम में भारत और चीनी सेना के बीच 73 दिनों तक गतिरोध जारी रहा। यह गतिरोध 28 अगस्त को तब खत्म हुआ था जब चीन ने रोड बनाने का काम चिकन नेक कॉरिडोर में रोक दिया था। इस कॉरिडोर पर भूटान अपना दावा करता है।

वांग ने हालांकि कहा कि दोनों देशों को अपने मानसिक संकोच को छोड़ने, अपने मतभेदों का प्रबंधन करने और एक दूसरे के साथ मिलना चाहिए। चीन अपने अधिकारों और वैध हितों का समर्थन कर रहा है और भारत के साथ अपने संबंधों को बनाए रखने का ख्याल रख रहा है। भारत और चीन के नेताओं के पास भविष्य के रिश्तों को बनाए रखने के लिए रणनीतिक दृष्टि है। यदि चीन और भारत मिल जाते हैं तो एक और एक मिलकर दो की बजाए ग्यारह बन जाएंगे।

You may also like

आधार की वैधता पर सुप्रीम कोर्ट बुधवार को सुनाएगा फैसला

नई दिल्लीः सुप्रीम कोर्ट बुधवार को आधार की वैधता पर