बिहार के बाहर भी भाजपा से चार राज्यों में हिस्सा चाहती है जदयू : नीतीश कुमार

- in बिहार, राजनीति
नीतीश कुमार और उनकी जनता दल (यूनाइटेड) अब बिहार से निकलकर दूसरे राज्यों में अपना पैर पसारना चाहती है और भाजपा के सहारे राष्ट्रीय पार्टी बनने की जुगत में लग गई है। आगामी 2019 के लोकसभा चुनाव को देखते हुए जदयू के राष्ट्रीय प्रवक्ता केसी त्यागी ने कहा कि जदयू को बिहार के अलावा दूसरे राज्यों जैसे झारखंड, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में भी सम्मानित सीटें दी जानी चाहिए। त्यागी ने इशारों-इशारों में कहा कि समय आ गया है कि भाजपा नीतीश कुमार की अधिकतम सेवाएं ले लेकिन हमें दूसरे राज्यों में सम्मानित सीटें भी दे।बिहार के बाहर भी भाजपा से चार राज्यों में हिस्सा चाहती है जदयू : नीतीश कुमार

पिछले कुछ महीनों से बिहार में भाजपा और जदयू के बीच आगामी चुनाव में सीट बंटवारे को लेकर तल्खी सामने आती रही है। ऐसे में जदयू के राष्ट्रीय प्रवक्ता का यह बयान चौंकाता है। बता दें कि भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष 11 जुलाई को पटना जा रहे हैं और वहां उनकी मुलाकात मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से होने की संभावना जताई जा रही है। 

आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर जदयू ने पार्टी का बिहार प्लस योजना बनाई है। जिसके तहत वह क्षेत्रीय पार्टी के इतर अपना पांव फैलाने को लेकर काम कर रही है और बिहार के बाहर भी भाजपा से अपने लिए सीटों की मांग कर रही है। यह पूछे जाने पर कि जिस तरह से भाजपा और जेडीयू के बीच सींट बंटवारे को लेकर तल्खी चल रही है क्या वो कायम रहेगी? इसके जवाब में त्यागी ने कहा कि सीट बंटवारे को लेकर पार्टी के शीर्ष के नेता बातचीत करेंगे। उन्होंने आगे कहा कि इस बीच अमित शाह और नीतीश कुमार जब साथ बैठकर गंभीर मुद्दों पर चर्चा करेंगे तो समाधान जरूर निकलेगा।

वहीं दूसरी तरफ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के कांग्रेस के हाथ मिलाने की अटकलों को केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने सिरे से खारिज कर दिया है। उन्होंने कहा कि राजग के घटक दल उसके साथ मजबूती से खड़े हैं, जिनमें से एक नीतीश कुमार हैं। 

बता दें कि पिछले दिनों नीतीश अपने पुराने साथी और राजनीतिक दुश्मन लालू यादव से उनका हाल चाल जानने के लिए फोन किया था। जिसके बाद अटकलें तेज हो गईं थीं कि नीतीश कांग्रेस के महागठबंधन का दामन थाम सकते हैं। इस बात को भी रामविलास पासवान नेसिरे से खारिज कर दिया है और उसे सरासर निराधार और गलत बताया है।   

पासवान ने बिहार में सीटों के बंटवारे पर कहा कि फिलहाल यह कोई मुद्दा नहीं है, क्योंकि इस पर चुनाव से पहले पक्षों की सहमति से निर्णय लिया जाता है। बिहार के मुख्यमंत्री से बातचीत का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि नीतीश ने मुझे बताया कि उन्होंने एक नहीं, बल्कि चार बार लालू यादव का हालचाल लिया। लालू जेल में बंद हैं और लंबे समय तक राजनीति में सक्रिय रहे हैं। ऐसे में उनके ऑपरेशन के बाद तबीयत के बारे में पूछना मानवता है। कोई राजनीतिक फेरबदल नहीं है।

पासवान ने कहा कि ऐसा नहीं है कि किसी नेता ने दूसरे नेता का हालचाल लेने के लिए फोन किया हो। राजनीतिक और निजी जीवन का घालमेल कर उसे तूल दिया जाना उचित नहीं है। उन्होंने स्पष्ट किया कि राजग के सभी घटक दल उसके साथ हैं और 2019 में सब मिलकर चुनाव लड़कर फिर सरकार बनाएंगे।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

राहुल गाँधी के बचाव में आये ये नेता, बोले- पहले अपना ज्ञान बढ़ाये अमित शाह

नई दिल्‍ली। भारत में आगामी चुनाव बेहद काफी नजदीक