चीन से मुकाबले के लिए जापान उठा रहा ये कदम

पूर्वी चीन सागर में जापान के मुकाबले चीन का वर्चस्‍व बढ़ता जा रहा है। जापान इसे लेकर काफी चिंतित है। सूत्रों ने बताया कि इन चिंताओं के समाधान के लिए जापान ने अपना पहला ऑयल टैंकर खरीदने की योजना बनाई है। जापान की समुद्री स्व रक्षा बल (एमएसडीएफ) को एक टैंकर की जरूरत है, जो ओकिनावा में व्हाइट बीच बंदरगाह तक 300,000 बैरल ईंधन को ले जाने में सक्षम हो। यह वो क्षेत्र है, जहां जापान के गश्त करने वाले युद्धपोतों के लिए ईंधन रखा जाता है।

सूत्रों ने बताया कि ऑयल टैंकर खरीदने की यह योजना अप्रैल 2019 से शुरू होने वाले पांच वर्षों के लिए उपकरण खरीद की रूपरेखा की रक्षा समीक्षा में शामिल की जाएगी। बताया जा रहा है कि जापान के गश्‍ती युद्धपोतों को ईंधन भरने के लिए क्यूशु(मुख्य भूमि) में लौटने के लिए बहुत लंबा समय लगता है। लेकिन ऑयल टैंकर खरीदने के बाद ये समय घटेगा और युद्धपोतों की क्षमता में भी इजाफा होगा।

बड़ा चेतावनी: अमेरिका में भारतीय दूतावास की टेलीफोन लाइन का इस्तेमाल कर रहे ठग

पूर्वी चीन सागर में जापान और चीन के बीच द्वीपों के समूह के स्वामित्व पर क्षेत्रीय विवाद चल रहा है। लेकिन यहां चीन की सैन्य शक्ति बढ़ती जा रही है, जापान को ऐसे में अपनी दावेदारी घटती नजर आ रही है। जापान ने इसलिए पूर्वी चीन सागर में अपनी शक्ति बढ़ाने के लिए ऑयल टैंकर खरीदने की योजना बनाई है। हालांकि जापान के रक्षा मंत्रालय के प्रवक्‍ता से जब ऑयल टैंकर के विषय में पूछा गया, तो उन्‍होंने इस पर कुछ भी कहने से इनकार कर दिया।

 

You may also like

पाक ने की वर्ल्ड बैंक से शिकायत, कहा सिंधु जल संधि का उल्लंघन कर रहा भारत

पाकिस्तान के संयुक्त राष्ट्र मिशन के एक बयान