एर्दोआन पर जमकर बरसे इटली के प्रधानमंत्री मारियो ड्रैगी, तुर्की ने भी उठाया ये कदम

इटली और तुर्की के बीच राजनयिक विवाद छिड़ गया है. तुर्की के साथ हुई एक बैठक में यूरोपीय कमीशन की अध्यक्ष उर्सुला वॉन डेर लेयेन का अपमान होने के बाद इटली के प्रधानमंत्री मारियो ड्रैगी ने तुर्की के राष्ट्रपति रेचेप तैयप एर्दोआन को ‘तानाशाह’ करार दिया है. 

असल में, मंगलवार को तुर्की की राजधानी अंकारा में आयोजित एक बैठक में हिस्सा लेने के लिए यूरोपीय संघ की अध्यक्ष उर्सुला वॉन डेर लेयेन और कई अन्य अधिकारी पहुंचे थे. उस दौरान जब उर्सुला मीटिंग में पहुंचीं तो हॉल में सिर्फ दो कुर्सियां पड़ी थीं, जिन पर तुर्की के राष्ट्रपति तैयप एर्दोआन और यूरोपीय परिषद के अध्यक्ष मिशेल बैठे हुए थे. इसे देखकर उर्सुला हैरत में पड़ गईं और थोड़ी देर वहीं खड़ी रहीं. कुर्सी पर बैठे दोनों नेता ये सब देखते हुए भी चुपचाप बैठे रहे और किसी ने भी उन्हें कुर्सी ऑफर करने की जहमत नहीं उठाई. बाद में उन्हें एक सोफे पर बिठाया गया.

इटली के प्रधानमंत्री मारियो ड्रैगी ने गुरुवार को कहा, ‘मैं यूरोपीय संघ की अध्यक्ष उर्सुला वॉन डेर लेयेन के साथ एर्दोआन के बर्ताव से बिल्कुल सहमत नहीं हूं. मेरा मानना है कि यह ठीक नहीं है. यह उचित व्यवहार नहीं है. मुझे अफसोस है कि वॉन डेर लेयेन का निरादर हुआ और उन्हें परेशानी का सामना करना पड़ा.’ उर्सुला वॉन डेर लेयेन यूरोपीय कमीशन की पहली महिला अध्यक्ष हैं. 

मारियो ड्रैगी ने कहा कि उन्हें (एर्दोआन) को वही बुलाना चाहिए जो वो हैं- तानाशाह – जिनके साथ लोगों को किसी तरह सांमजस्य बिठाना पड़ता है, उनके सामने अलग विजन और राय रखते समय पूरी तरह से स्पष्ट होना चाहिए.

मारियो ड्रैगी की इस टिप्पणी के बाद अंकारा में इटली के राजदूत को तुर्की के विदेश मंत्रालय ने तलब कर लिया. तुर्की की सरकारी समाचार एजेंसी एनाडोलू के मुताबिक विदेश मंत्री मेवलुत कावासोग्लू ने इटली के पीएम की टिप्पणी को खारिज कर दिया है. 

मेवलुत कावासोग्लू ने ट्वीट किया, ‘हम अपने चुने हुए राष्ट्रपति के बारे में इतालवी प्रधानमंत्री की राय को खारिज करते हैं. उनके लोकलुभावन प्रवचन और अनर्गल टिप्पणियों की कड़ी निंदा करते हैं

इससे पहले, विदेश मंत्री ने कहा था कि मीटिंग के लिए बैठने की व्यवस्था अंतरराष्ट्रीय प्रोटोकॉल के मुताबिक की गई थी. तुर्की पर इस तरह के आरोप लगाना अन्यायपूर्ण है. तुर्की ने कहा है कि यूरोपीय संघ ने अपने प्रोटोकॉल को लागू करने पर जोर दिया था. लेकिन यूरोपीय काउंसिल के प्रमुख ने कहा कि उनकी टीम उस कमरे का निरीक्षण नहीं कर सकी जहां यह घटना हुई.

यूरोपीय संघ के डोमिनिक मार्रो ने सार्वजनिक नोट में लिखा कि अगर हम बैठक स्थल का दौरा कर पाए होते तो मेजबान को बता पाते कि यूरोपीय संघ की अध्यक्ष के लिए सोफे की जगह कुर्सी का इंतजाम किया जाए.

बहरहाल, यूरोपीय कमीशन की अध्यक्ष होने के नाते उर्सुला वॉन डेर लेयन को अपने साथ ऐसे व्यवहार की उम्मीद नहीं थी. हैरत करने वाला बर्ताव तुर्की के राष्ट्रपति का था जिन्होंने न तो अपने मेहमान को कोई तवज्जो नहीं दी, ना ही महिला के प्रति सम्मान दिखाया. सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो में, उर्सुला वॉन डेर लेयन को कमरे में हुई इस अजीब घटना पर अपना हाथ हिलाते हुए हैरान होते देखा जा सकता है.

Ujjawal Prabhat Android App Download Link
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button