राजस्थान में किसान आंदोलन से जनजीवन अस्त-व्यस्त, बढ़े दूध और सब्जियों के दाम

- in राजस्थान, राज्य

जयपुर। राजस्थान में पिछले तीन दिन से चल रहे किसान आंदोलन का असर रविवार को तीसरे दिन भी देखने को मिला। आंदोलन का सबसे अधिक असर चार जिलों में देखने को मिल रहा है। बीकानेर, श्रीगंगानगर, चुरू और हनुमानगढ़ जिलों में किसानों आंदोलन के दौरान अराजकता फैलने लगी है। इन चारों जिलों में रविवार को उग्र किसानों ने सब्जी और दूध मंडी में लूटपाट की।राजस्थान में किसान आंदोलन से जनजीवन अस्त-व्यस्त, बढ़े दूध और सब्जियों के दाम

दूध और सब्जियां लेकर शहरों की तरफ जा रहे ट्रकों को किसानों ने रोक कर सड़कों पर ही दूध और सब्जी फैला दी। कुछ स्थानों पर ट्रक चालकों के साथ मारपीट भी की गई। श्रीगंगानगर और बीकानेर जिला मुख्यालय पर राहगीरों के साथ बदसलूकी भी की गई। किसानों ने रविवार को तीसरे दिन भी गांवों के रास्ते जाम रखे। अधिकांश गांवों से सब्जियां और दूध बाहर नहीं निकलने दिया।

जयपुर में सबसे बड़ी फल-सब्जी मुहाना में सब्जियों की आवक कम हो गई है। आवक नहीं होने के कारण सब्जियों के दामों में 25 प्रतिशत तक की बढ़ोतरी हो गई। गांवों से दूध बाहर नहीं निकलने के कारण जयपुर सहित प्रदेश के कई बड़े शहरों में लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

Patanjali Advertisement Campaign

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

हरियाणा जाट आंदाेलन: एक बार फिर हुआ शुरू, इस बार तरीका बदला

जेएनएन, चंडीगढ़। हरियाणा में जाटाें ने एक बार