कच्छ में पीएम मोदी ने दुनिया के सबसे बड़े रिन्यूएबल एनर्जी पार्क का किया शिलान्यास, जानें यह एनर्जी पार्क कितना होगा खास

कच्छ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को गुजरात के कच्छ में बनने वाले दुनिया के सबसे बड़े रिन्यूएबल एनर्जी पार्क (नवीकरणीय ऊर्जा पार्क) का शिलान्यास किया। इसके साथ ही, उन्होंने मांडवी में डिसैलिनेशन प्लांट की भी आधारशिला रखी। भारत-पाकिस्तान बॉर्डर के पास बनने वाला एनर्जी पार्क 72 हजार से अधिक हेक्टेयर जमीन पर फैला होगा। यह लगभग सिंगापुर और बहरीन जैसे देशों के बराबर है। गुजरात सरकार ने भुज से 72 किलोमीटर उत्तर की ओर खावड़ा में बंजर जमीन एनर्जी पार्क बनाने के लिए मुहैया करवाई है। अप्रैल, 2020 में रक्षा मंत्रालय ने 72,600 हेक्टेयर जमीन पर पार्क बनाने के लिए हरी झंडी दी थी। 30,000 मेगावाट के इस एनर्जी पार्क में सौर पैनल और विंडमिल की मदद से ऊर्जा पैदा की जाएगी।

रिन्यूएबल एनर्जी पार्क दो जोन्स में बंटा हुआ होगा। पहला- 49,600 हेक्टेयर हाइब्रिड पार्क जोन होगा, जिसमें 24,800 मेगावॉट के विंड और सोलर पावर प्लांट्स होंगे, जबकि दूसरा विंड पार्क होगा, जोकि 23 हजार हेक्टेयर जमीन पर बना होगा। भारत-पाकिस्तान के बॉर्डर के एक दम नजदीक बनने वाला यह प्रोजेक्ट खावड़ा गांव और विघाकोट के बीच में है। खावड़ा से प्रोजेक्ट साइट की दूरी लगभग 25 किलोमीटर की है। यह वह आखिरी छोर है, जहां पर किसी नागरिक को जाने की अनुमति है।

पीएम नरेंद्र मोदी ने केवडिया में किया एकता मॉल का उद्घाटन, समुद्री विमान सेवा सहित कई परियोजनाओं की शुरुआत

विंड पार्क जोन की बात करें तो यह अंतरराष्ट्रीय बॉर्डर से 1-6 किलोमीटर के अंदर बनेगा। वहीं, हाइब्रिड पार्क जोन बॉर्डर से छह किलोमीअर दूर होगा। भारत-पाकिस्तान का बॉर्डर होने की वजह से इन इलाकों में हमेशा बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स (BSF) के जवान देश की सुरक्षा में तैनात रहते हैं। गुजरात के एनर्जी एवं पैट्रोकैमिकल्स डिपार्टमेंट में एडिशनल चीफ सेक्रेटरी के पद पर तैनात सुनैना तोमर ने इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में बताया कि इस जमीन को इसलिए चुना गया है क्योंकि यह पूरी तरह से बंजर जमीन है। दूसरी बात यह है कि अगर यहां पर विंडमिल बनाए जा रहे हैं, तो फिर यह बॉर्डर की तरह काम करेगी। रक्षा मंत्रालय ने प्रोजेक्ट के लिए अप्रैल महीने में 72,600 हेक्टेयर जमीन मुहैया कराने के लिए अपनी मंजूरी दी थी।

इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, राज्य सरकार ने एनर्जी पार्क के लिए जमीन छह डेवलर्पस को दी है। हाइब्रिड पार्क के लिए जमीन अडाणी ग्रीन एनर्जी लिमिटेड (19 हजार हेक्टेयर), सरजन रियलिटीस लिमिटेड (9,500 हेक्टेयर), एनटीपीसी लिमिटेड (9,500 हेक्टेयर), गुजरात इंडस्ट्रीस पावर कंपनी लिमिटेड (4,750 हेक्टेयर) और गुजरात स्टेट एलेक्ट्रिसिटी कॉर्पोरेशन (6,650 हेक्टेयर) को दी गई है।

प्रोजेक्ट तक के लिए बनेगी 18 किलोमीटर लंबी सड़क

एनर्जी पार्क तक पहुंचने के लिए 18 किलोमीटर लंबी सड़क बनाई जाएगी। इसे राज्य सरकार बनाएगी। यह सड़क इंडिया ब्रिज के आगे जाकर प्रोजेक्ट तक जाएगी। इसके अलावा, इंडिया ब्रिज से विघाकोट तक की सड़क को भी चौड़ा किया जाएगा। एनर्जी पार्क का शिलान्यास करते समय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दावा किया है कि इससे एक लाख युवाओं को रोजगार मिलेगा और इसके बनने के बाद प्रदूषण से लड़ने में मदद मिलेगी।

Ujjawal Prabhat Android App Download Link
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button