भारतीय महिला क्रिकेट टीम की कप्तान मिताली राज से आईसीसी की पांच दिवसीय बैठक के दौरान पूछा गया कि क्या उनसे कभी किसी सट्टेबाज ने मैच फिक्स करने के लिये संपर्क किया था. मिताली आईसीसी बैठक के लिये विशेष आमंत्रित के रूप में कोलकाता आयी थी. बैठक में महिला क्रिकेट पर भी चर्चा हुई. आईसीसी के एक अधिकारी ने कहा, ‘‘वह कुछ समय के लिये बैठक में आयी थी. उनसे पूछा गया कि क्या कभी उनसे मैच फिक्सिंग के लिये संपर्क किया गया. उन्होंने कहा कि अब तक नहीं.’’ अब जबकि अंडर -19 और महिला मैचों का अधिक से अधिक प्रसारण किया जा रहा है तब आईसीसी ऐहतियाती कदम उठा रही है.

मिताली ने इस अवसर पर महिला क्रिकेट में आये आमूलचूल बदलाव की तस्वीर भी पेश की और कहा कि जब उन्होंने क्रिकेट खेलना शुरू किया तब कोई उन्हें नहीं जानता था लेकिन आज हर कोई उन्हें जानता है. उन्होंने उम्मीद जतायी कि यह महिला क्रिकेट के लिये टर्निंग प्वॉइंट होगा. उन्होंने कहा, ‘‘विश्व कप में जो कुछ हुआ और लोग अब जिस तरह से महिला क्रिकेट को महत्व दे रहे हैं, यह महिला क्रिकेट के लिये अच्छे समय की शुरूआत है.’’

IPL में नहीं खेल पाए तो विदेश जाकर इस भारतीय ने किया कमाल

गौरतलब है कि भारतीय महिला टीम ने मिताली की कप्तान में वर्ल्ड कप 2017 के फाइनल तक का सफर किया था. इस टूर्नामेंट में भारतीय महिला टीम ने शानदार प्रदर्शन किया था. मिताली वर्ल्डकप 2017 में सबसे ज्यादा रन बनाने के मामले दूसरे स्थान पर रहीं थीं. उन्होंने 9 पारियों में 409 रन बनाए थे. उन्होंने इस दौरान तीन अर्धशतक और एक शतक जड़ा था. इसके अलावा गेंदबाजी में भी भारतीय खिलाड़ियों ने कमाल किया था. दीप्ति शर्मा ने 9 पारियों में 12 विकेट और पूनम यादव ने 11 विकेट लिए थे.