हसीन के लिए 25 लाख में बनवाया था आलीशान कमरा: शमी

- in खेल

अपनी पत्नी हसीन जहां के आरोपों का सामना कर रहे तेज गेंदबाज मो. शमी ने खुलकर “बाउंसर” फेंकना शुरू कर दिया है। उन्होंने कहा कि हसीन की मांग पर ही अमरोहा के गांव सहसपुर अलीनगर स्थित घर में एक लग्जरी कमरा बनवाया था। इसकी साज-सज्जा पर 20 से 25 लाख रुपए खर्च किए गए थे।

शमी ने कहा- “जब भी मैं और हसीन कोलकाता से अलीनगर स्थित अपने घर पर आते थे तो खुश रहने का दिखावा करते थे। मेरी मां अंजुम आरा और अन्य परिजन भी हम दोनों के बीच घुलने-मिलने की कोशिश करते थे, जिससे घर के अंदर की बात किसी को पता न चलें। हसीन हमेशा खुद को सभी से अलग रखने की कोशिश करती थीं। परिवार की किसी भी सदस्य का आना-जाना उनके कमरे में न के ही बराबर था।” 

उल्लेखनीय है कि शमी के पुराने घर में 3 कमरे हैं। बड़ा आंगन व रसोई भी बरामदे के सामने हैं। वर्ष 2016 में शमी ने आंगन के ठीक सामने हसीन के कहने पर एक लग्जरी कमरा व बैठक बनवाई थी। कमरे में महंगा पलंग, सोफा, एलईडी, एसी, झूमर, झाड़-फानूस व अन्य लग्जरी सामान रखे हैं। इसमें केवल हसीन ही रहती थी।

शमी ने बताया कि हसीन को घर के पुराने कमरों में बैठना और सोना पसंद नहीं था। शुरुआत में तो हम अधिकांश मुरादाबाद स्थित आवास पर ठहरते थे बाद में हसीन की डिमांड पर ही यह रूम बनवाया गया था।

शमी ने बताया कि जब हसीन जहां गांव पहुंचती थी तभी वह कमरा खुलता था। उन्होंने आरोप लगाया कि परिवार को लेकर हसीन की तमाम बातें ऐसी थीं जो घर के सभी सदस्य मन में ही रखते थे।

VIDEO: अब मोहम्मद शमी की पत्नी ने सौरव गांगुली को लेकर खोले ये बड़े राज

 

बच्ची के बीमा के नाम पर 10 लाख रुपए खा गई हसीन – 

शमी ने हसीन पर बेटी के बीमा में धांधली का आरोप लगाया है। शमी ने कहा- जब मैं एक विदेश दौरे के लिए गया था तो हसीन जहां ने मुझे फोन कर कहा कि बेटी का बीमा कराना है। इसके लिए 15 लाख रुपए लगेंगे। उसकी बात सुनकर मैंने कह दिया था कि ठीक है, मैं तुम्हें पैसे दे दूंगा, तुम बीमा करा लेना। विदेश दौरे के बाद जब मैं घर वापस आया तो मैंने बीमा के कागज देखे। बीमा के कागज देखकर मेरे होश उड़ गए थे। हसीन ने हमारी बेटी के नाम केवल 5 लाख रुपए का बीमा कराया था जबकि अन्य 10 लाख का बीमा उसने खुद के नाम करा रखा था।

You may also like

बड़ा खुलासा: इस वजह से विराट कोहली की शादी में शामिल नहीं हुए थे वीरेंद्र सहवाग, जाने वजह

क्रिकेट का खेल साल 1877 में शुरू हुआ