गुर्जर समुदाय का सरकार को चेतावनी, कल से पूरे राजस्थान में सड़क और रेल मार्ग करेंगे जाम

नई दिल्ली। राजस्थान में आरक्षण की मांग को लेकर गुर्जर समुदाय का आंदोलन पिछले कई दिन से लगातार जारी है. रेल की पटरियों पर डटे गुर्जर नेताओं ने सरकार को चेतावनी दी है कि रविवार शाम तक अगर उनकी मांगें नहीं मानी गईं तो सोमवार से पूरे राजस्थान में रेल से लेकर सड़क तक हर जगह चक्का जाम कर देंगे.

पूरे राजस्थान में चक्का जाम करने के लिए गुर्जर नेताओं ने आज यानी रविवार को बैठक बुलाई. कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला (Gurjar Leader Bainsla) चक्का जाम पर अंतिम निर्णय लेंगे. इसकी तैयारी के लिए उन्होंने हिंडौन से लेकर दौसा और सिकंदरा तक बैठक की हैं. जिसमें गुर्जर समाज के लोगों ने कहा कि अगर रविवार शाम तक सरकार की तरफ से कोई ठोस प्रस्ताव नहीं आया या फिर कोई वार्ता के लिए नहीं आया तो कल यानी सोमवार सुबह से पूरे राजस्थान में हर जगह चक्का जाम कर दिया जाएगा.

बैंसला ने कहा कि सरकार हमें आंदोलन करने के लिए मजबूर कर रही है. हमारी 6 मांगे हैं, अगर सरकार उन्हें मान लेती है तो हम आंदोलन नहीं करना चाहते. उन्होंने रहा कि सरकार की दोहरी नीति से करीब 35 हजार गुर्जरों को नौकरी नहीं मिल पा रही है.

Ujjawal Prabhat Android App Download

बता दें कि बैंसला के बंद कमरों में पंच पटेलों के साथ शनिवार को दिनभर की मीटिंग की खबर जैसे ही फैली राजस्थान में कई जगहों पर गुर्जरों ने कई घंटों तक सड़क पर जाम लगाया. जिसकी वजह से लोग दिन भर परेशान होते रहे. बयाना और सवाई माधोपुर में 10 से 12 घंटे तक सड़क पर जाम रहा.

इस बीच माना जा रहा है कि बैंसला के उग्र रूप को देखते हुए सरकार वार्ता के लिए तैयार हो गई है. गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति के संयोजक बैंसला से बातचीत करने के लिए खेल मंत्री अशोक चांदना को सरकार दोबारा भेज सकती है. बता दें कि गुर्जर आंदोलन की वजह से अभी भी भरतपुर, करौली और दौसा जिले में आम जीवन बुरी तरह से प्रभावित है.

गुर्जर आंदोलन की वजह से रेलवे ने कई ट्रेनों के रूट डायवर्ट कर दिए हैं. वहीं, कुछ गाड़ियों को रद्द भी किया जा चुका है. राजस्थान रोडवेज की बसें बंद होने से लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. इसके अलावा इंटरनेट की सेवाएं बंद होने से भी जनजीवन प्रभावित हुआ है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button