खुशखबरी: शून्य नंबर लाने वालों को भी क्लर्क-PO की नौकरी देगा भारतीय स्टेट बैंक

- in Mainslide, करियर

बैंकों की लापरवाही से नीरव मोदी, विक्रम कोठारी और विजय माल्या जैसे कारोबारियों द्वारा अरबों रुपए डकारने की खबरों के बीच बैंक की नौकरियों में बहाली  में भी बड़ी खामी सामने आई है. देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने क्लर्क भर्ती में सुप्रीम कोर्ट आदेशों का उल्लंघन किया है. एसबीआई ने भर्ती परीक्षा में किसी विषय में शून्य नंबर लाने वालों को भी क्लर्क की नौकरी देने का फैसला लिया है. एसबीआई ऐसे अभ्यर्थियों को भी क्लर्क भर्ती करने जा रहा है जो प्रश्न पत्र के हर सेक्शन में न्यूनतम मार्क्स के क्राइटीरिया को पूरा नहीं पाएंगे. 

खुशखबरी: शून्य नंबर लाने वालों को भी क्लर्क-PO की नौकरी देगा भारतीय स्टेट बैंक

नंबर जोड़ने की प्रक्रिया में गलती करेगी SBI
एक हिन्दी अखबार के मुताबिक क्लर्क भर्ती परीक्षा के लिए एसबीआई की ओर से जारी नियम के मुताबिक किसी एक विषय में आपके शून्य अंक हों पर यदि अन्य विषयों के मार्क्स का औसत निकालकर आप पास हो जाते हैं तो आपको चयनित मान लिया जाएगा. इसके लिए बैंक ने परीक्षा प्रणाली में बदलाव तक कर दिया है. एसबीआई भले ही क्लर्क भर्ती परीक्षा में सुप्रीम कोर्ट के नियमों की अवहेलना कर रही है, लेकिन अन्य बैंक परीक्षाओं में न्यूनतम अंक लाने का नियम अभी अनिवार्य है. 

You may also like

जसवंत सिंह के बेटे ने बीजेपी से तोड़ा नाता, ‘कहा कमल का फूल हमारी बड़ी भूल’

जयपुर: वरिष्ठ भाजपा नेता जसवंत सिंह के बेटे मानवेंद्र