गूगल ने 400 रेलवे स्टेशनों पर लगाया फ्री वाई-फाई

- in गैजेट

नई दिल्ली। गूगल के सीईओ (मुख्य कार्यकारी अधिकारी) सुंदर पिचई, 2015 में जब भारत आये थे तो पीएम मोदी ने गूगल के साथ मिलकर भारत के 400 रेलवे स्टेशन पर फ्री वाई-फाई सेवा देने का एक पायलट प्रोजेक्ट शुरू करने की बात की थी। इस प्रोजेक्ट के शुरू होने के 2 साल बाद गूगल स्टेशन की मदद से भारत के 400 रेलवे स्टेशनों पर यात्रियों को फ्री वाई-फाई की सुविधा मिलने लगी है। असम का डिब्रूगढ़ रेलवे स्टेशन इस प्रोजेक्ट में शामिल होने वाला 400वां स्टेशन बना है।गूगल ने 400 रेलवे स्टेशनों पर लगाया फ्री वाई-फाई

2016 में हुई थी शुरुआत

इस प्रोजेक्ट की शुरुआत 2016 में मुंबई सेंट्रल स्टेशन से हुई थी। पहली बार इस रेलवे स्टेशन पर गूगल ने फ्री वाई-फाई सेवा रेल-टेल की शुरुआत की थी। इस प्रोजेक्ट के शुरू होने के बाद से अब तक हर महीने करीब 80 लाख यात्री रेलवे स्टेशन पर फ्री वाई-फाई की सुविधा उठा रहे हैं। गूगल के इस सेवा का लाभ न सिर्फ रेल यात्रियों को हुआ, बल्कि रेलवे स्टेशन पर काम कर रहे कर्मचारी भी इस सेवा का लाभ उठा रहे हैं। गूगल ने इस प्रोजेक्ट को पूरा होने के लिए रेल-टेल का शुक्रिया अदा किया है। रेल-टेल के ऑप्टिकल फाइबर की मदद से ही गूगल इस काम करने को सफल हो पाया है।

19 से 34 वर्ष के ज्यादातर यूजर्स

इस समय गूगल इस फ्री वाई-फाई की सेवा यात्रियों को 30 मिनट के लिए उपलब्ध करा रही है। गूगल द्वारा जारी आंकड़े के मुताबिक रेल यात्री इस 30 मिनट के सेशन में 350 एमबी डाटा का इस्तेमाल कर रहे हैं। गूगल ने यह भी कहा कि यात्री 30 मिनट के सेशन के बाद फिर से लॉन-इन करके कई सेशन में इस सेवा का लाभ ले रहे हैं। इस सेवा का लाभ दिन में कई बार लेने के लिए, यात्री पहले सेशन से लॉग आउट करते हैं, फिर दूसरे सेशन में लॉग आउट करते हैं। गूगल और रेल-टेल के इस फ्री वाई-फाई सेवा का इस्तेमाल करने वाला ज्यादातर यूजर्स 19 से 34 साल के एज-ग्रुप के हैं।

400 स्टेशनों तक नहीं रहेगा सीमित

गूगल ने फिलहाल इस सुविधा को 400 स्टेशनों तक ही सीमित नहीं रखा है। कंपनी का कहना है, भारत में अभी लाखों लोग ऐसे हैं जिन्हें इस सेवा की जरूरत है। गुगल इसके लिए फ्री वाई-फाई की सुविधा रेलवे स्टेशन तक ही सीमित नहीं रखना चाहती है। गूगल स्टेशन ने महाराष्ट्र के पुणे शहर में 150 अन्य जगहों पर भी फ्री वाई-फाई की सुविधा की शुरुआत करेगी। गूगल ने इस सेवा को मैक्सिको और इंडोनेशिया में भी शुरू करने वाली है।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

इस 5 टिप्स से पहचाने असली और नकली ब्रैंड के गैजेट्स में फर्क

कुछ सालो से स्मार्टफोन्स ने हर घर और