ताइवान के जल क्षेत्र से होकर गुजरा चीन का विमानवाहक पोत, तनाव बढ़ा

चीन और ताइवान के बीच एक बार फिर तनातनी बढ़ गई है. ताइवान के रक्षा मंत्रालय ने आज कहा कि चीन का विमान वाहक पोत उसके जलक्षेत्र से होकर गुजरा है. रक्षा मंत्रालय ने कहा कि कई अन्य सहयोगी नौकाओं नेभी मंगलवार को ताइवान के वायु रक्षा क्षेत्र में प्रवेश किया और वे आज दोपहर उस जगह से चली गईं.  उधर, बीजिंग ने देश को बांटने के किसी भी प्रयास के खिलाफ चेतावनी दी है.

चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने मंगलवार को राष्ट्रवादी भाषण देकर चीन को बांटने के किसी भी प्रयास के खिलाफ चेतावनी दी थी. शी ने नेशनलिस्ट पीपुल्स कांग्रेस के सालाना सत्र के समापन के दौरान संबोधन में कहा कि देश को बांटने के सभी कृत्य और तिकड़म नाकाम होंगे और इनकी जनता द्वारा निंदा की जाएगी और इतिहास इन्हें सजा देगा.

चीन अब भी ताइवान को अपने भूभाग के हिस्सा के तौर पर देखता है जबकि एक गृहयुद्ध के बाद दोनों अलग हो चुके हैं और तब से दोनों में अलग अलग शासन चल रहा है. दोनों देशों के रिश्तों में तब से और कटुता आ गई है जब से बीजिंग की आलोचक ताइवानी राष्ट्रपति साइ इंग वेन ने सत्ता संभाली है. उनकी सरकार ने इस बात को मानने से इंकार किया है कि ताइवान एक चीन का हिस्सा है.

पाकिस्तान की रैलियों में अपने नेता को जूतों से बचाने के लिए इमरान के समर्थकों ने बनाई ‘बैट फोर्स’

साइ ने चीन के सैन्य विस्तार के खिलाफ चेताया है. विमान वाहक पोत ने ताइवानमें उस समय भी विवाद पैदा किया था जब पोत ने पिछले साल जनवरी में ताइवान के जलडमरूमध्य में प्रवेश किया था. पोत के ताइवान के क्षेत्र में जाने को बीजिंग द्वारा शक्ति प्रदर्शन के तौर पर देखा गया था. रक्षा मंत्री ये दे फा ने आज संसद में कहा कि वे इस पूरी घटना पर नजर रखे हुए हैं.

रक्षा मंत्रालय ने कहा है कि उसने नजर रखने के लिए विमान और पोत भेजे हैं. मंत्रालय ने कहा कि कोई असामान्य गतिविधि नजर नहीं आई है और हम जनता से आश्वस्त रहने का अनुरोध करते हैं.

You may also like

चीन का कर्ज बढ़कर 2,580 अरब डॉलर हुआ

चीन का बढ़ता कर्ज अब 2,580 अरब डॉलर