भारत से मालदीव के पूर्व उपराष्ट्रपति ने की मदद की अपील

मालदीव के पूर्व उपराष्ट्रपति मोहम्मद जमील अहमद ने अपने देश में बढ़ते राजनीतिक अशांति के बारे में चिंता जताई है और अंतर्राष्ट्रीय समुदाय द्वारा एक त्वरित हस्तक्षेप की मांग की है। 48 वर्षीय वकील से राजनेता बने जमील ने भारत को द्वीप देश में लोकतंत्र बहाल करने के लिए अंतर्राष्ट्रीय प्रयासों की अगुवाई करने को कहा है।

मालदीव में हालात सुधरते हुए नजर नहीं आ रहे हैं। देश में आपातकाल की अवधि को बढ़ा दिया गया है। एक प्रमुख संसदीय समिति ने राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन के आपातकाल को बढ़ाने के आग्रह को स्वीकार कर लिया है। आपातकाल को 30 दिनों के लिए बढ़ाया गया है। इस पर भारत ने निराशा व्यक्त की है।

मालदीव के पूर्व उपराष्ट्रपति ने फिर लगाई भारत से अगुवाई की गुहार

जमील ने कहा कि आपातकाल के विस्तार के लिए, मालदीव संविधान के अनुच्छेद 255 के लिए आवश्यक है कि एक उचित मंच होना चाहिए, जिसके लिए संसद के 43 सदस्यों की ताकत की आवश्यकता होती है। उतने नंबर नहीं होने पर सरकार ने संसद के 36 सदस्यों के साथ जाने का फैसला किया। जाहिर है आपातकाल का विस्तार अवैध और असंवैधानिक है।

 

You may also like

राफेल डील पर फ्रांसीसी कंपनी ने दिया बड़ा बयान, कहा- सौदे के लिए रिलायंस को हमने चुना

फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद के बयान के बाद