फीफा विश्व कप : बेल्जियम ने इंग्लैंड को 1-0 से हराया

- in खेल

नई दिल्ली। फीफा विश्व कप में ग्र्रुप स्टेज का रोमांच गुरुवार को समाप्त हो गया। कैलिनिनग्रैड स्टेडियम में खेले गए ग्र्रुप-जी के आखिरी मुकाबले में बेल्जियम ने इंग्लैंड पर 1-0 की जीत दर्ज करके अपने ग्र्रुप में शीर्ष स्थान हासिल किया। मुकाबले का इकलौता गोल बेल्जियम के अदनान जानुगाज ने दागा। पहले ही नॉकआउट में अपनी जगह पक्की कर चुके बेल्जियम का मुकाबला अब प्री-क्वार्टर फाइनल में जापान से होगा जबकि अपने ग्र्रुप में दूसरे स्थान पर रहने वाली इंग्लैंड की टीम कोलंबिया का सामना करेगी। इस मुकाबले को लेकर दोनों देशों के समर्थकों में जबरदस्त जोश था और उनके कई प्रशंसक बॉर्डर पार करके आए थे।फीफा विश्व कप : बेल्जियम ने इंग्लैंड को 1-0 से हराया

शुरुआती मौके 

पहले हाफ में दोनों टीमों ने काफी तेज और आक्रमक खेल दिखाया। गेंद पर कब्जा करने के मामले में भी दोनों टीमों बराबरी पर रहीं जबकि गोल करने के मौके भी दोनों टीमों के हाथ बराबर-बराबर लगे। रेफरी के सीटी बजाते ही इंग्लैंड और बेल्जियम की टीमों ने एक-दूसरे पर धावा बोलना शुरू कर दिया। खेल के छठे मिनट में बेल्जियम के टीलेमांस ने 30 गज की दूरी से इंग्लैंड के गोल पर निशाना साधा लेकिन इंग्लिश गोलकीपर पिकफोर्ड ने जबरदस्त बचाव करते हुए उस मौके को बेकार कर दिया।

इसके चार मिनट बाद भी बेल्जियम गोल करते-करते रह गया। बेल्जियम के बैशूएइ ने छह गज की दूरी से गेंद को गोल पोस्ट की ओर उछाला जिसे पिकफोर्ड ठीक से अपनी हाथों में नहीं ले पाए लेकिन काहिल ने फुर्ति के साथ गेंद को गोल लाइन से बाहर करके इस मौके को खत्म किया। खेल के 19वें मिनट में बेल्जियम के टीलेमांस को इंग्लैंड के रोसी को गलत तरीके से रोकने की वजह से यलो कार्ड दिखाया गया। हालांकि आर्नोल्ड द्वारा ली गई फ्री किक बेकार गई। इसी स्तर के खेल के साथ पहला हाफ गोलरहित रहा।

कमाल की किक 

पहले हाफ के जैसे दूसरे हाफ में भी दोनों टीमों ने तेज शुरुआत की। खेल के 51वें मिनट में टीलेमांस से मिले पास को अदनान जानुगाज ने डि के अंदर से अपने बाएं पैर से एक कोण बनाता किक लगाया जिसे इंग्लिश गोलकीपर पिकफोर्ड तमाम कोशिशों के बावजूद नहीं रोक पाए। इस गोल की बदौलत बेल्जियम 1-0 से आगे हो गया।

बड़ी चूक : एक गोल से पिछड़ रही इंग्लैंड की टीम को खेल के 66वें मिनट में बेल्जियम के स्कोर को बराबर करने का एक अच्छा मौका मिला लेकिन रशफोर्ड बेल्जियम के गोलकीपर कोर्टोवाइस को चकमा नहीं दे पाए। जब रशफोर्ड के पास गेंद आई थी तब उनके पास सिर्फ एक डिफेंडर था और उन्हें गोलकीपर को चकमा देना था लेकिन उनके द्वारा लगाया गया किक कोर्टोवाइस की हथेली से लगकर बैक लाइन से बाहर चला गया।

इसके बाद भी इंग्लैंड ने गोल करने के कई मौके बनाए लेकिन तमाम कोशिशों के बावजूद उसे गोल करने का मौका नहीं मिला। खेल के आखिरी मिनटों में भी बेल्जियम को गोल करने का एक मौका मिला लेकिन मार्टिन्स के एक तेज किक को इंग्लिश गोलकीपर पिकफोर्ड ने अपनी दायीं ओर गोता लगाकर गोल के इस मौके को खत्म कर दिया। इसके बाद भी इंजुरी टाइम में बेल्जियम ने इंग्लैंड के गोल पोस्ट कई हमले बोले लेकिन अंत में उसे 1-0 की जीत के साथ संतोष करना पड़ा।

बदलाव की बयार

पहले ही नॉकआउट में अपनी जगह पक्की कर चुकी दोनों टीमों ने कई बदलाव किए। इंग्लैंड के कोच गेरेथ साउथगेट ने पनामा के खिलाफ खेलने वाली अपनी टीम में कुल आठ बदलाव किए जिसमें टीम के नियमित कप्तान हैरी केन भी शामिल थे। वहीं बेल्जियम के कोच रोबर्टो मार्टिनेज ने भी इस मुकाबले के लिए नौ खिलाड़ी बदले। लुकाकू पूरी तरह फिट नहीं होने की वजह से बेंच पर बिठाए गए। शुरुआती दोनों लीग मुकाबले में इंग्लैंड और बेल्जियम ने पनामा और ट्यूनीशिया को हराकर अंतिम-16 में जगह बनाई थी।

नंबर गेम

-17 मुकाबलों बाद इंग्लैंड को पहली बार अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल मैच में हार मिली। 2017 में उसको आखिरी बार शिकस्त मिली थी

-01 बार बेल्जियम ने इंग्लैंड को विश्व कप में शिकस्त दी है। 1990 विश्व कप में उसे इंग्लैंड ने हराया था जबकि 1954 में दोनों के बीच मुकाबला बराबर रहा था

-22 मुकाबलों में बेल्जियम की यह इंग्लैंड पर तीसरी जीत है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

Asia Cup : रोहित-धवन की बदौलत भारत ने पाक को दी करारी शिकस्त

नई दिल्लीः पाकिस्तान को महज 162 रनों पर सिमेटकर