दो मंत्री सहित सीएम योगी आज देंगे PM के संसदीय क्षेत्र में दस्तक, ऐसा है कार्यक्रम

यूपी के  मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शनिवार को दो दिवसीय दौरे पर वाराणसी पहुंचेंगे। इससे पहले केंद्रीय कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह और रेल मंत्री पीयूष गोयल भी अलग अलग कार्यक्रमों में हिस्सा लेने शनिवार को आएंगे। मुख्यमंत्री के आगमन की सूचना के बाद प्रशासन अलर्ट हो गया है और तैयारियों में जुट गया है।
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शनिवार को शाम पांच बजे वाराणसी पहुंचेंगे। मंडलायुक्त सभागार में देर शाम समीक्षा बैठक करने के बाद वे शहर में चल रही परियोजनाओं का स्थलीय निरीक्षण करेंगे। रविवार की सुबह अलकनंदा क्रूज का उदघाटन करने के बाद प्रधानमंत्री के गोद लिए गांव डोमरी का भ्रमण करेंगे।इसके बाद दीनदयाल हस्तकला संकुल में प्रवासी भारतीय सम्मेलन के मद्देनजर संभ्रांत लोगों से मुलाकात करेंगे। इसमें मुख्यमंत्री अप्रवासियों को घरों में ठहराने के लिए प्रोत्साहित करेंगे। इससे पहले केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री राधामोहन सिंह बड़ा लालपुर स्थित ट्रेड फैसिलिटेशन सेंटर में बदलता वाराणसी के अंतर्गत आयोजित किसान कल्याण कार्यशाला में हिस्सा लेंगे।

इसका आयोजन सुबह 10 बजे से सायं 4.30 बजे तक होगा। केंद्रीय रेल एवं कोयला मंत्री पीयूष गोयल वाराणसी में दोपहर दो बजे विशेश्वरगंज स्थित जीपीओ में  इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक के लांचिंग कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे। देर शाम वे होमी भाभा कैंसर अस्पताल और वाराणसी कैंट स्टेशन का निरीक्षण भी करेंगे।

प्रशासनिक मशीनरी एक बार फिर आंकड़ेबाजी में जुटी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के दो दिवसीय दौरे के मद्देनजर प्रशासनिक मशीनरी एक बार फिर आंकड़ेबाजी में जुट गई है। आंकड़ों के जरिए मुख्यमंत्री को कामों की संतोषजनक प्रगति का दावा किया जाएगा। काम समय से पूरा न होने के लिए भी कोई न कोई बहाना बनाने की तैयारी कर ली गई है।26 मई, 17 को मुख्यमंत्री पहली बार वाराणसी आए थे तो उन्होंने वरुणा पार क्षेत्र में पेयजल व्यवस्था को दुरुस्त करने का निर्देश दिया था। तब से अब तक 50 हजार परिवारों को कनेक्शन के लक्ष्य के मुकाबले जल निगम 39 हजार कनेक्शन ही दे पाया है। मई तक इस काम को पूरा किया जाना था।

वरुणा पार क्षेत्र में 15 हजार सीवर कनेक्शन का काम भी अधूरा है, इस काम को भी मई 2018 में पूरा होना था। यहां सीवरेज कनेक्शन नहीं होने से बारिश के दौरान जलजमाव के साथ ही सीवर सड़कों पर बहता है। इतना ही नहीं, मुख्यमंत्री ने हर दौरे में सड़कों को दुरुस्त करने के निर्देश दिए हैं मगर शहर के सड़कों की हालत किसी से छिपी नहीं है। वर्तमान में ज्यादातर सड़कें गड्ढों में तब्दील हो चुकी हैं। महमूरगंज-सिगरा, सिगरा-मलदहिया, मंडुवाडीह-भिखारीपुर और अखरी मार्ग, रथयात्रा से गोदौलिया की सड़क की हालत खस्ता है।

रिंग रोड फेज-1, गोइठहां और रमना सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट, बाबतपुर-वाराणसी फोरलेन, सारनाथ में वाटर ट्रीटमेंट प्लांट, शाही नाला की सफाई सहित कई अन्य परियोजनाओं की प्रगति भी संतोषजनक नहीं है।  20 मई, 18 को मुख्यमंत्री की समीक्षा बैठक अधिकारियों ने 16 परियोजनाओं को 30 जून तक पूरा करने का लक्ष्य रखा था।

मुख्यमंत्री ने परियोजनाओं का स्थलीय निरीक्षण किया था। इसके बाद के दौरे में सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट को पूरा नहीं करने पर कंपनी के खिलाफ एफआईआर का निर्देश दिया था। बावजूद इसके अधिकारियों ने ना तो समय पर परियोजनाओं को पूरा कराया और ना ही कंपनी पर कार्रवाई की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

स्वच्छ्ता अभियान में जूट के बैग बांट रहे डॉ.भरतराज सिंह

एसएमएस, लखनऊ के वैज्ञानिक की सराहनीय पहल लखनऊ