Home > धर्म > काला धागा खोल सकता है किस्मत, जानिए कैसे मिलेगा लाभ

काला धागा खोल सकता है किस्मत, जानिए कैसे मिलेगा लाभ

जरा सोचिए, बच्चों के गले में ताबीज काले धागे में ही क्यों बांधी जाती है। बच्चे को माताएं काजल लगाकर उसके माथे पर टीका, या चांद क्यों बना देती हैं। पुरुषों के हाथों में बांधा जाने वाला गंडा, या ताबीज का कपड़ा काला क्यों होता है। नए बनने वाले घरों में काले रंग की मटकी क्यों टांगी जाती है। पैर में लड़कियां काला धागा क्यों बांधकर चलती हैं। क्या इन सभी मसलों पर आपने कभी विचार किया है। क्या आपने कभी इनके बारे में सोचा है। कभी इनके हानि लाभ के बारे में विचार किया है। शायद नहीं, लेकिन आज आपको इस काले धागे की वजह और उसका उपयोग विस्तार से बताते हैं, ताकि आप भी इस काले रंग के धागे का उपयोग कर अपने जीवन में उचित बदलाव ला सकें।
काला धागा खोल सकता है किस्मत, जानिए कैसे मिलेगा लाभ
तंत्र मंत्र के दौरान आपने अकसर देखा होगा, काला तिल, काला कपड़ा, मातम के समय काले कपड़े पहने जाते हैं। काला रंग हो या काला कपड़ा इंसान के लिए दोनों लाभकारी हैं। क्योंकि तंत्र विद्या के जानकार इस बात को विशेष महत्व देते हैं। गौर से देखने पर आपको पता चलेगा कि तांत्रिक हमेशा काले रंग का टीका लगाते हैं। श्मशान में रहने वाले भी काले कपड़े पहनते हैं। क्योंकि कहा जाता है, संसार में जितनी भी काली छाया और नकारात्मक ऊर्जा है, वो सब काले रंग का कपड़ा और धागा खुद में समाहित कर लेता है। लोगों की लगाई गई नजर से भी ये काला धागा बचाता है।

आप कोई भी सामान लेकर घर के बाहर या दफ्तर में लेकर पहुंचते हैं, तो कुछ लोग ईर्षा वश नजर लगा देते हैं। ऐसे में अगर आप काला धागा का उपयोग करते हैं तो काला धागा ऐसे नकारात्मक प्रभाव से आपको बचाएगा। काले धागे में यह गुण होता है वह नकारात्मक ऊर्जा को सोखकर पहनने वाले पर नकारात्मक ऊर्जा को कोई प्रभाव नहीं पड़ने देता है।

तांत्रिको की माने तो नकारात्मक चीजों से बचने के लिए शनिवार को धागे का धारण करें। क्योंकि शनिवार शनि भगवान का दिन है, ऐसे में काला धागा अपना पूरा असर दिखाता है। इसके अलावा आप मंगलवार को भी काला धागा का उपयोग कर सकते है। क्योंकि हनुमान जी के इस दिन भी काला धागा पहनने से लाभ प्राप्त होता है।

ये है हिन्दू धर्म के 3 सबसे बड़े सवाल, जिसका उत्तर कोई नही जानता

शनिवार या मंगलवार को दिन डूबने के बाद हनुमान मंदिर से सिंदूर लाकर काले धागे पर लगाएं। धागे को घर के मेन गेट पर बांध दें। ऐसा करने से आपके घर में नकारात्मक शक्तियां प्रवेश नहीं करेंगी। साथ ही किसी की नजर भी नहीं लगेगी।

शनिवार के दिन आप अपनी कलई में भी काला धागा बांध सकते हैं। काला धागा सीधे हाथ की कलाई में बांधने पर नकारात्मक ऊर्जा खत्म हो जाती है। लाख प्रयास के बाद भी न बनने वाले काम बनने लगते हैं। रुके पड़े काम पूरे होने लगते हैं। परेशानियां कोसों दूर हो जाती हैं, सफलता के दरवाजे भी खुल जाते हैं। बच्चे की सेहत बढ़िया रखने के लिए उनके हाथों में काला धागा बांध दें। काले धागे के बांधने से बच्चों को बुरी नजरें नहीं लगती। उसकी आधी परेशानियां दूर हो जाती हैं। साथ ही स्वास्थ्य में भी सकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

काला रंग उष्मा का अवशोषक होता है। वैज्ञानिक तौर पर देखा गया है कि काला धागा बुरी नजर व हवाओं को अवशोषित कर देता है। जिसका असर हमारे शरीर को नहीं होता है। यह एक तरह का सुरक्षा कवच बना देता है। काला धागा शनि दोष से भी बचाता है। लोगों के काला धागा पहनने से शनि का प्रकोप नहीं पड़ता है।

Loading...

Check Also

जानिए, देवोत्थानी एकादशी के पूजन की सही विधि...

जानिए, देवोत्थानी एकादशी के पूजन की सही विधि…

सोमवार दिनांक 19.11.18 को कार्तिक शुक्ल ग्यारस पर देवउठनी एकादशी यानि प्रबोधिनी एकादशी मनाई जाएगी। …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com