लोकसभा उपचुनाव नतीजे : BJP को लगा बड़ा झटका, कैराना और नूरपुर दोनों सीटों पर भाजपा पिछड़ी

देश में लोकसभा की 4 और विधानसभा की 10 सीटों पर हुए उपचुनाव के आज नतीजे आने वाले हैं. सुबह 8 बजे से मतगणना शुरू हो गई है. इन सीटों पर सोमवार को वोटिंग हुई थी. लोकसभा की 4 सीटों में यूपी की कैराना, महाराष्‍ट्र की भंडारा-गोंदिया और पालघर और नगालैंड की एकमात्र सीट शामिल है.लोकसभा उपचुनाव नतीजे : BJP को लगा बड़ा झटका, कैराना और नूरपुर दोनों सीटों पर भाजपा पिछड़ी

-यूपी से बीजेपी के लिए बुरी खबर आ रही है. उपचुनाव में कैराना लोकसभा सीट के अलावा नूरपुर विधानसभा सीट पर भी बीजेपी पीछे चल रही है.

-नगालैंड सीट पर पोस्‍टल बैलेट की काउंटिंग पूरी

-कैराना सीट पर राष्ट्रीय लोकदल की प्रत्याशी तबस्सुम हसन आगे

-कैराना सीट पर पोस्‍टल बैलेट की काउंटिंग पूरी

-गोंदिया-भंडारा सीट पर पोस्‍टल बैलेट काउंटिंग जारी

-गोंदिया-भंडारा सीट पर बीजेपी के हेमंत पटले आगे

-पालघर सीट पर पोस्‍टल बैलेट काउंटिंग जारी

– उपचुनाव: लोकसभा की 4 सीटों पर काउंटिंग शुरू

कैराना में बीजेपी बनाम संयुक्त विपक्ष

इनमें सबसे ज्‍यादा चर्चा कैराना लोकसभा सीट की हो रही है. उत्तर प्रदेश में राजनीतिक रूप से अहम कैराना सीट पर बीजेपी का मुकाबला संयुक्त विपक्ष उम्मीदवार से है. राष्ट्रीय लोकदल की प्रत्याशी तबस्सुम हसन को सपा, कांग्रेस और बसपा का समर्थन हासिल है जबकि बीजेपी ने हुकुम सिंह की बेटी मृगांका सिंह को चुनावी मैदान में उतारा है. यह सीट हुकुम सिंह के निधन के बाद खाली हुई है. 2014 के लोकसभा चुनाव में हुकुम सिंह ने यहां करीब 3 लाख वोटों के अंतर से समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार को हराया था. ईवीएम में गड़बड़ी की शिकायतों के बाद यूपी की कैराना लोकसभा सीट पर हुए उपचुनाव के बाद बुधवार को 73 बूथों पर फिर से वोटिंग कराई गई.

कैराना के नकुड़ और गंगोह क्षेत्र में सबसे ज्यादा ईवीएम में गड़बड़ी की शिकायतें की गई थीं. इन इलाकों के कई पोलिंग बूथों पर आधी रात तक वोटिंग हुई. नकुड़ क्षेत्र के खजुरहेड़ी, दौलतहैड़ी, मुबारकपुर ऐसे बूथ थे, जहां देर रात तक वोटिंग हुई. प्रशासन ने लाइट और सुरक्षा के खास इंतजाम भी किए थे, ताकि अंधेरा न रहे और न ही किसी तरह की कोई अनहोनी न हो सके.

रमजान का महीना होने के चलते मुस्लिम मतदाता रोजा रखे हुए थे. उनके लाइन में लगे रहने के दौरान ही रोजा इफ्तार का वक्त हो गया. इसके बावजूद वो लाइन में लगे रहे और पोलिंग बूथ पर ही इफ्तार किया. कैराना में कुल 54 फीसदी मतदान हुआ था.  

महाराष्‍ट्र उपचुनाव तय करेंगे भविष्‍य में गठबंधन की तस्‍वीर

वहीं महाराष्ट्र में भंडारा-गोंदिया और पालघर दोनों सीटों पर सभी चार बड़ी पार्टियां कांग्रेस, बीजेपी, शिवसेना और एनसीपी उपचुनाव के लिए पूरा दम लगाए हुए थे. इन उपचुनाव के नतीजों का असर भविष्य में देखने को मिल सकता है. बीजेपी के दिवंगत सांसद चिंतामण वनगा के निधन के कारण पालघर सीट पर उपचुनाव हो रहा है. जबकि भंडारा-गोंदिया से भाजपा सांसद नाना पाटोले संसद और पार्टी की सदस्यता से त्यागपत्र देकर इस वर्ष की शुरुआत में कांग्रेस में शामिल हो गए थे. इस वजह से यह सीट खाली हुई थी.

पालघर सीट पर शिवसेना ने भाजपा के दिवंगत सांसद चिंतामण वनगा के बेटे श्रीनिवास वनगा को उम्मीदवार बनाया है. वहीं बीजेपी ने कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में आने वाले राजेंद्र गावित को उम्मीदवार बनाया है. कांग्रेस के दामोदर शिन्गाड़ा और बहुजन विकास अघाड़ी के बलिराम जाधव ने मुकाबला दिलचस्‍प बना दिया है. बलिराम जाधव 2009 में यह सीट जीत चुके हैं.

वहीं गोंदिया-भंडारा सीट बीजेपी के लिए प्रतिष्‍ठा का सवाल बन गई है. यहां कुल 18 प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं. मुख्य मुकाबला बीजेपी के हेमंत पटले और एनसीपी के मधुकरराव कुकड़े के बीच है. शिवसेना और कांग्रेस ने उपचुनाव में अपना कोई उम्मीदवार नहीं उतारा है. 2014 में यहां नाना पटोले को 6 लाख 6 हजार 129 वोट (50.6%) मिले थे, उन्होंने एनसीपी के दिग्गज नेता प्रफुल्ल पटेल को करीब डेढ़ लाख वोटों से शिकस्त दी थी. सोमवार को हुए मतदान के दौरान ईवीएम में गड़बड़ी की शिकायतों के बाद महाराष्ट्र की भंडारा-गोंदिया लोकसभा क्षेत्र के 49 बूथों पर बुधवार को फिर से वोटिंग हुई.

नगालैंड में पर्दे के पीछे खेल रहे हैं बीजेपी और कांग्रेस

फरवरी में नेशनलिस्ट डेमोक्रेटिक प्रोगेसिव पार्टी (एनडीपीपी) के नेता नेफ्यू रियो के लोकसभा की सदस्यता से इस्तीफा देने के कारण इस सीट पर उपचुनाव कराया जा रहा है. रियो अब प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं. नगालैंड में बीजेपी और एनडीपीपी की सहयोगी पीडीए ने इस सीट पर पूर्व मंत्री तोखेहो येपथेमी को उतारा है. कांग्रेस एनपीएफ उम्मीदवार सी अपोक जमीर को समर्थन कर रही है. सोमवार को हुए मतदान के दौरान ईवीएम में गड़बड़ी की शिकायतों के बाद नगालैंड लोकसभा क्षेत्र के एक बूथ पर बुधवार को री-पोलिंग हुई. सोमवार को हुए उपचुनाव में 70 प्रतिशत से ज्‍यादा वोटिंग हुई.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

सड़क पर चलना हो जाएगा महंगा, पेट्रोल के बाद 14% तक चढ़ सकते हैं CNG के दाम!

सड़क पर चलने वालों के लिए बुरी खबर है.