योगी के आने के बाद BJP की दबंगई, परिवार से मांगी रंगदारी

BJP ने गुंडाराज को खत्म करने के वादे पर जनादेश पा लिया, मगर गुंडाराज है कि खत्म होता नहीं दिख रहा।बुंदेलखंड के महोबा में बीजेपी के कार्यकर्त्ता ही अब सत्ता के मद में गुंडई पर उतारू हो चले हैं। आरोप है कि आधा दर्जन भाजपाईयों ने घर में घुसकर परिवार से पहले तो 10 हजार रुपये प्रति माह रंगदारी मांगी और बाद में मां सहित भाई-बहन को जमकर पीटा। 

आईपीएस का आरोप- योगी आदित्‍य नाथ के सीएम बनते ही यूपी पुलिस से हटाए जा रहे यादव

BJP की दबंगई

 
पीड़ित परिवार ने पुलिस को सूचना दी तो बौखलाकर दबंगों ने फिर हमला कर दिया। पीड़ित परिवार न्याय के लिए कोतवाली पहुंचा। जहां सत्ता के दबाब में पुलिस ने पीड़ित परिवार को न्याय दिलाने के स्थान पर सत्ता के दबाब में परिवार के एक सदस्य को ही गिरफ्त में ले लिया।

न भ्रष्टाचार और न गुंडाराज, ये नारा प्रदेश की बीजेपी सरकार का है। लेकिन जीत की ख़ुशी में मदहोश बीजेपी के कार्यकर्त्ता अब रंगदारी और गुंडई पर उतारू हैं। मामला बुंदेलखंड के महोबा का है। दरअसल महोबा शहर कोतवाली क्षेत्र के रहने वाले मनोज दीक्षित के दो पुत्र संदीप और प्रिंस डंफर चलवाते हैं।

इनका आरोप है कि इनसे बीजेपी के कार्यकर्त्ता सागर सिंह और वैभव कटारे 10 हजार रुपये की प्रति माह रंगदारी की मांग कर रहे थे। वैभव अपने आधा दर्जन साथियों के साथ घर आया और रंगदारी की मांग की।
यही नहीं मेरी छोटी बहन के साथ छेड़छाड़ भी की। जब इस बात का विरोध परिवार ने किया तो दोनों भाइयों, बहन और मां के साथ मारपीट शुरू कर दी। पीड़ित ज्योति ने डायल 100 को सुचना दी लेकिन सभी आरोपी मार पीटकर मौके से फरार हो गए।

पीड़ितों का आरोप है कि पुलिस की मौजूदगी में फिर सभी अपने एक दर्जन साथियों के साथ आये और परिवार पर टूट पड़े। परिवार द्वारा मदद के लिए शोर मचाने पर आरोपी दो बाइक छोड़ कर भाग गए। घटना की सूचना मिलते ही सीओ सिटी जीतेन्द्र दुबे और कोतवाली पुलिस भी पहुंची।
लेकिन सत्ता का दबाब देख पुलिस ने आरोपियों को पकड़ना तो दूर पीड़ित परिवार के एक सदस्य प्रिंस को ही हवालात में डाल दिया। देखते ही देखते कोतवाली में आरोपियों के बचाव में तमाम बीजेपी कार्यकर्त्ता इकट्ठा हो गए।
पीड़ित परिवार कोतवाली में ही रोता बिलखता रहा, मगर उनकी मदद न तो खाकी ने की और न ही सत्ता के नुमाइंदों ने। वो तो सिर्फ मामले को ख़त्म करने के लिए पुलिस पर दबाब बनाते नजर आए।

पीड़ित मां, अखिलेश दीक्षित और बेटी ज्योति ने बताया कि घर में घुसकर यह लोग गुंडई कर रहे हैं। ऐसी सरकार आई है जो गुंडाराज खत्म करने की बात कह रही है। मगर इनके ही लोग गुंडई कर रहे हैं।
हमारी कोई सुनवाई नहीं। उन्ही की सुनी जा रही है। ज्योति ने कहा कि खुलेआम गुंडई हो रही है और गुण्डा टैक्स मांगा जा रहा है। लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हो रही।
रोते हुए संदीप ने अपनी आप बीती और बीजेपी के कार्यकर्ताओं की गुंडई की शिकायत योगी जी तक पहुंचाने की गुहार लगाता रहा।
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button