भारती इंफ्राटेल और इंडस टावर्स का होगा विलय, बनेगी दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी टावर कंपनी

बुधवार को भारतीय टेलिकॉम सेक्टर में बहुत बड़ी डील हुई है. देश की सबसे बड़ी टेलिकॉम कंपनी भारती एयरटेल की टावर कंपनी भारती इंफ्राटेल, इंडस टावर्स के साथ विलय के लिए तैयार हो गई है. विलय से बनाने वाली 14.6 अरब डॉलर की नई कंपनी दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी मोबाइल टावर कंपनी होगी. नई कंपनी के पास देशभर में 1,63,000 से अधिक टावर होंगे और यह चीन टावर के बाद दूसरी सबसे बड़ी टावर कंपनी होगी. नई कंपनी पर भारती एयरटेल और वोडाफोन का संयुक्त रूप से नियंत्रण होगा. दोनों कंपनियों ने यह जानकारी दी है.

इस सौदे के लिए भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग, सेबी, राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिरण, दूरसंचार विभाग (एफडीआई मंजूरी) सहित नियामकीय और अन्य मंजूरियों की मिलनी अभी बाकी है. सौदे के चालू वित्त वर्ष के अंत तक पूरा होने की उम्मीद है. भारती एयरटेल ने बयान में कहा, “इंडस टावर्स का विलय तय योजनाओं के माध्यम से भारती इंफ्राटेल में या उसके साथ किया जाएगा. विलय के बाद बनने वाली कंपनी का नाम इंडस टावर्स लिमिटेड होगा और यह शेयर बाजार में सूचीबद्ध रहेगी.

नई इकाई की 33.8 प्रतिशत से 37.2 प्रतिशत तक हिस्सेदारी भारती एयरटेल के पास होगी. इसमें वोडाफोन इंडिया की 26.7 प्रतिशत से 29.4 प्रतिशत हिस्सेदारी होगी. वर्तमान में इंडस टावर में वोडाफोन और भारती इंफ्राटेल की हिस्सेदारी 42-42 प्रतिशत है जबकि आइडिया समूह की हिस्सेदारी 11.15 प्रतिशत और प्रोवि‍डेंस की हिस्सेदारी 4.85 प्रतिशत है.

दोनों कंपनियों ने बयान में कहा कि भारती एयरटेल और वोडाफोन संयुक्त रूप से कंपनी का नियंत्रण करेंगे. कंपनी में भारती एयरटेल और वोडाफोन के पास बराबर के अधिकार होंगे. इसके निदेशक मंडल में 11 निदेशक शामिल होंगे, जिसमें तीन-तीन निदेशक भारती एयरटेल और वोडाफोन की ओर से नियुक्त किए जाएंगे. एक निदेशक केकेआर/कनाडा पेंशन प्लान इंवेस्टमेंट बोर्ड और चार अन्य (चेयरमैन समेत) स्वतंत्र निदेशक होंगे.

नए Gmail डिजाइन में हुए हैं ये बड़े बदलाव, संवेदनशील ईमेल के लिए खास ऑप्शन

यह विलय कंपनियों की उन परिसंपत्तियों का रास्ता साफ करेगा जो कि रिलायंस जियो द्वारा छेड़े गए शुल्क युद्ध के बाद से फंसी पड़ी हैं, जिसकी वजह से कंपनियों की कमाई पर असर पड़ा और दूरसंचार क्षेत्र की कंपनियों को एकीकृत होना पड़ा. वोडाफोन और आइडिया सेल्युलर का मोबाइल परिचालन कारोबार पहले ही विलय के अंतिम चरण में है.

सौदे के तहत, आइडिया के पास इंडस में अपनी हिस्सेदारी बेचने का विकल्प है. जिसकी कीमत 6,500 करोड़ रुपए है. वोडाफोन इंडिया को नई कंपनी में 78.31 करोड़ शेयर मिलेंगे. उसकी हिस्सेदारी का मूल्य करीब 28,400 करोड़ रुपए होगा.

Ujjawal Prabhat Android App Download Link
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button