बालकनी से झांक रही बच्ची की, 10वीं मंजिल से गिर कर हुई मौत

- in राष्ट्रीय

इंदिरापुरम इलाके के जयपुरिया सनराइजर्स ग्रीन्स सोसायटी की 10 मंजिल से गिर कर चार साल की एक मासूम बच्ची की मौत हो गई. हादसे के वक्त बच्ची घर में अकेली थी और कुर्सी लगा कर बालकनी से झांक रही थी.

बच्ची की नाम मायरा था. उसके पिता मनीष अपनी दुकान पर गए हुए थे और मां नेहा ब्यूटी पार्लर गई थीं. मायरा के साथ उसकी बड़ी बहन भी थी लेकिन वह उस वक्त ट्यूशन के लिए निकल गई जब मायरा सो रही थी.

बच्ची की नींद जब खुली तो उसने खुद को घर में अकेला पाया. बच्ची इसके बाद बालकनी में आई और कुर्सी लगा कर नीचे झांकने लगी. इसी दौरान उसका संतुलन बिगड़ गया और वह सीधे नीचे आ गिरी.

छात्रा के यूनिफार्म का नाप लेते प्रधानाध्यापकडाेल गई नीयत अाैर फिर…

सोसायटी के गार्ड ने बताया,”मुझे लगा कोई चीज गिरी है तो मैं दौड़ कर पहुंचा. मैंने बच्ची को उठाया और लोगों की मदद से अस्पताल पहुंचाया.” अस्पताल में डॉक्टरों ने बच्ची को मृत घोषित कर दिया. हादसे के बाद से सोसायटी के लोग सदमे में हैं.

बच्चों का ऐसे रखें ख्याल

– बच्चों को कभी घर में अकेले ना छोड़ें, हमेशा उनके आस पास ही रहें. उनकी हरकतों पर नजरें रखें और उन्हें किसी एक्टिविटी में लगाए रखें.

 

– अक्सर बच्चे बिजली के बोर्ड को छेड़ते हैं उन्हें हमेशा इस पर टोकना चाहिए. हो सकता है कि वह नजरें बचा कर उंगली या मेटल की किसी चीज से बिजली से खेलने लगें.

– बच्चों को बाल्टी या टब में बैठना पसंद होता है लेकिन उन्हें इसकी आदत नहीं पड़नी चाहिए. कई बार बच्चों के साथ अकेले में ऐसा करते वक्त हादसा हो जाता है.

– अगर आप ऊंची बिल्डिंग्स में रहते हैं और घर में छोटे बच्चे हैं तो बालकनी पर ग्रिल जरूर लगवाएं. साथ ही अन्य खुली जगहों को भी कवर कराएं

– कुछ बच्चों को छुप कर बैठने का भी शौक होता है. बच्चे के इस शौक को बढ़ाएं नहीं. बच्चे अलमारी से लेकर वाशिंग मशीन तक में छुपने का प्रयास करते हैं

– बालकनी तक जाने वाले दरवाजे को बंद रखें. बच्चों की पहुंच जल्दी ही हैंडल लॉक तक हो जाती है. इसलिए सिटकनी ऊपर से बंद करें.

– बच्चों को अच्छा और बुरा जरूर बताएं. क्या करना ठीक है और क्या करने से उसे नुकसान हो सकता है, इसकी जानकारी उसे लगातार देते रहें.

 

You may also like

बलात्कार मामलों में अब होगी त्वरित कार्रवाई, पुलिस को मिलेगी यह विशेष किट

देश में पुलिस थानों को बलात्कार के मामलों की जांच