IPL-11 का चैंपियन बनने के बाद कप्तान धोनी ने कही बड़ी बात

- in खेल

मुंबई: चेन्नई की टीम में कई उम्रदराज खिलाड़ी थे, लेकिन इसके बावजूद वह आईपीएल-11 की चैंपियन बनने में सफल रही और उसके कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने भी रविवार (27 मई) को यहां कहा कि उम्र नहीं, बल्कि फिटनेस मायने रखती है. चेन्नई ने रविवार (27 मई) को हैदराबाद को आठ विकेट से हराकर तीसरी बार आईपीएल खिताब जीता. सनराइजर्स ने पहले बल्लेबाजी का न्यौता मिलने पर छह विकेट पर 178 रन बनाये. चेन्नई शेन वॉटसन के नाबाद 117 की मदद से दो विकेट पर 181 रन बनाकर चैंपियन बना.IPL-11 का चैंपियन बनने के बाद कप्तान धोनी ने कही बड़ी बात

धोनी ने कहा, खिलाड़ी का पूरी तरह फिट होना जरूरी
धोनी से मैच के बाद टीम में अधिक उम्र के खिलाड़ियों की मौजूदगी के बारे में सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि उम्र केवल नंबर है, लेकिन खिलाड़ी का पूरी तरह फिट होना जरूरी है. धोनी ने कहा, ‘‘हम उम्र के बारे में बात करते हैं, लेकिन फिटनेस अधिक महत्वपूर्ण है. रायुडु 33 साल का है, लेकिन यह वास्तव में मायने नहीं रखती. अगर आप किसी भी कप्तान से पूछोगे तो वे ऐसा खिलाड़ी चाहते हैं जो चपल हो.’’ उन्होंने कहा, ‘‘हम अपनी कमजोरियों से वाकिफ थे. अगर वॉटसन डाइव लगाने की कोशिश करता तो वह चोटिल हो सकता था, इसलिए हमने उसे ऐसा नहीं करने के लिये कहा. उम्र केवल नंबर है, लेकिन आपको पूरी तरह फिट होना चाहिए.’’

धोनी ने कहा, ‘‘जब आप फाइनल में पहुंचते हो तो हर कोई अपनी भूमिका जानता है. जब आप क्षेत्ररक्षण करते हो तो आपको अपनी रणनीति के अनुसार सामंजस्य बिठाना पड़ता है. हमारे बल्लेबाज अपनी शैली से परिचित हैं. अगर किसी को यह मुश्किल लगती तो अगले बल्लेबाज के लिये भी आसान नहीं होता.’’

धोनी ने कहा, बीच के ओवरों में रन जुटाने की कोशिश
उन्होंने कहा, ‘‘हमें पता था कि उनकी टीम में भुवनेश्वर कुमार और राशिद खान दो अच्छे गेंदबाज हैं जो हम पर दबाव बना सकते हैं. इसलिए मैं मानता हूं कि हमारी बल्लेबाजी बहुत अच्छी रही. लेकिन हमें विश्वास था कि बीच के ओवरों में हम अच्छे रन जुटा सकते हैं.’’

हर जीत अहम होती है
धोनी से पूछा गया कि उनकी सर्वश्रेष्ठ जीत कौन सी रही उन्होंने कहा, ‘‘प्रत्येक जीत महत्वपूर्ण होती है इसलिए एक जीत को चुनना मुश्किल है.’’ धोनी ने बताया कि उनकी टीम सोमवार (28 मई) को चेन्नई जाएगी जहां वह केवल एक मैच खेल पायी थी.

हार से विलियमसन निराश 
हैदराबाद के कप्तान केन विलिमयसन ने हार पर निराशा जतायी, लेकिन साथ ही उन्होंने वॉटसन की भी तारीफ की. विलियमसन ने कहा, ‘‘हमें लग रहा था कि हमने चुनौतीपूर्ण स्कोर बनाया था, लेकिन शेन वॉटसन की तारीफ करनी होगी. मैं चेन्नई को बधाई देता हूं. यह निराशाजनक है क्योंकि हमने सत्र में अधिकतर समय अच्छा प्रदर्शन किया.’’

उन्होंने कहा, ‘‘हमने अपनी तरफ से अच्छे प्रयास किये. हम खिताब नहीं जीत पाये, लेकिन कई सकारात्मक पहलू हमारे साथ जुड़े. प्रत्येक टीम संतुलन स्थापित करने की कोशिश करती है, लेकिन इसमें कोई संदेह नहीं कि हमारे पास अच्छा गेंदबाजी आक्रमण था और यह हमारे लिये बहुत मजबूत पक्ष था.’’

वॉटसन की पारी ने बदला मैच
हैदराबाद के कोच टॉम मूडी ने भी माना कि वॉटसन की पारी ने अंतर पैदा किया. मूडी ने कहा, ‘वॉटसन की पारी विशेष थी. हमें लग रहा था कि हमारा प्रतिस्पर्धी स्कोर है. इसे हासिल करने के लिये कुछ खास करने की जरूरत थी और वॉटसन ने वह किया. हमारे लिये यह सत्र अच्छा रहा.’

अनुभवी खिलाड़ियों को टीम में रखने की नीति कारगर
चेन्नई के कोच स्टीफन फ्लेमिंग ने कहा कि उन्होंने अनुभवी खिलाड़ियों को टीम में रखने की रणनीति अपनायी जो कारगर साबित हुई. फ्लेमिंग ने कहा, ‘‘हर साल भिन्न होता है. फ्रेंचाइजी ने अच्छी टीम तैयार की. अन्य टीमों ने बदलाव किये, लेकिन हमने अनुभवी खिलाड़ियों को तरजीह दी. इस साल के लिये हमारा फॉर्मूला अनुभव था.’’ 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

लखनऊ की निशा ने जीता महिला 5000 मीटर दौड़ का स्वर्ण

52वीं यूपी स्टेट जूनियर ( अंडर-20 पुरूष व