भारतीय सुरक्षा एजेंसियों के डरकर, पाक से अचानक गायब हुआ छोटा शकील

अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम का सबसे करीबी सिपहसालार छोटा शकील अंडर ग्राउंड हो गया है.  बताया जा रहा है कि भारतीय सुरक्षा एजेंसियों के डर से दोनों ने ठिकाना बदल लिया है. काली शर्ट में दिख रहा ये शख्स छोटा शकील यानि शकील बाबूमियां है. करीब बीस साल पहले की अपनी दुबली पतली तस्वीर से उलट शकील ना केवल अब तंदुरूस्त दिख रहा है, बल्कि बालों और मूंछो को कलर करके पहले से ज्यादा जवान भी दिखता है. पढ़ें दाऊद और शकील के गायब होने की पूरी कहानी..

हिंदुस्तान से लेकर एशिया के हर देश में दाऊद के सिंडिकेट को पूरी तरह देखने वाले शकील की इन दिनों जान पर बनी हुई है. जिसकी दो सबसे बड़ी वजह हैं. पहली वजह यह कि दाऊद के उम्रदराज होने की वजह से उसकी गैंग पर पकड़ कमजोर होना और उसके भाई अनीस का गैंग पर कब्जे और हिसाब-किताब को लेकर हाल के कुछ माह में एक्टिव हो जाना. जबकि दूसरा दाऊद इब्राहिम को नेस्तनाबूद करने को लेकर भारतीय खुफिया एजेंसीज का एक बार फिर से पूरी तरह से एक्टिव होना.

सूत्रों के अनुसार, भारतीय एजेंसीज ने दुबई की बजाय दूसरे देश से अपने खास एजेंट्स की पाकिस्तान मे एंट्री भी करा दी है. जिनके जिम्मे है मौका पाते ही सीधे वार करना. क्योंकि शकील को निशाना बनाने का सीधा मतलब है कि दाऊद की रीढ़ तोड़ देना. देखा जाए तो पिछले चार साल में भारतीय एजेंसीज ने दाऊद के दुनिया भर मे फैले हुए ज्यादातर धंधों को या तो वहां की सरकारों की मदद से बंद करा दिया या फिर ऐसे कानूनी पचड़ों में डाल दिया है कि दाऊद का बिजनेस करना दूभर हो गया है.

कैश की किल्लत के बीच एटीएम से निकले चूरन वाले रुपए

इनमें से ज्यादातर बिजनेस या तो दाऊद खुद देखता था या फिर उसका जिम्मा दाऊद ने अपने भाई अनीस को दे रखा था. जिसमें दुबई, अमीरात और साऊथ अफ्रीका मे फैले हुए रियल इस्टेट के बिजनेस, ड्रग्स और हीरो के बिजनेस सबसे महत्वपूर्ण हैं.

इन धंधों पर असर आने के बाद अनीस ने उन धंधों में भी दखल देना शुरू कर दिया जिनकी जिमेमदारी छोटा शकील पर थी. इसी बात को लेकर छोटा शकील और अनीस मे अनबन भी शुरू हो गई. मामला यहां तक आ गया कि नवंबर 2017 के महीने में दाऊद इब्राहिम को खुद बीच बचाव करना पड़ा. 

 
 
 
Ujjawal Prabhat Android App Download Link
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button