मैकफेयर में देखने को मिला विज्ञान, गणित एवं कला का अद्भुद संगम

- in उत्तरप्रदेश, लखनऊ

अन्तर्राष्ट्रीय गणित एवं कम्प्यूटर फेयर ‘मैकफेयर इन्टरनेशनल-2018’ का तीसरा दिन

लखनऊ। सिटी मोन्टेसरी स्कूल, महानगर कैम्पस के तत्वावधान में सी.एम.एस. कानपुर रोड ऑडिटोरियम में आयोजित किये जा रहे मैकफेयर इण्टरनेशनल-2018 के तीसरे दिन आज विज्ञान, गणित एवं कला का संगम देखने को मिला। गणित के सवाल, गीतो व कविताओं की बहार, कलात्मक प्रतिभा की छाप एवं तर्कपूर्ण अभिव्यक्ति क्षमता का ऐसा शानदार नजारा देखकर यही कहा जा सकता है कि भविष्य के इन वैज्ञानिकों में असीम प्रतिभा भरी पड़ी है। मैकफेयर इण्टरनेशनल में आज नेपाल, श्रीलंका, बांग्लादेश व देश के विभिन्न राज्यों से पधारे छात्रों ने मैथमेटिक्स क्विज, ओलम्पियाड, जिंगल्स, मॉडल यूनाइटेड नेशन्स एवं मैक ट्यूटर आदि विभिन्न दिलचस्प प्रतियोगिताओं में अपने ज्ञान-विज्ञान का अभूतपूर्व परचम लहराने के साथ ही कलात्मक क्षमता का प्रदर्शन कर दिखा दिया कि ज्ञान व कला के मामले में उनका कोई सानी नहीं है। विदित हो कि सी.एम.एस. महानगर कैम्पस द्वारा ‘मैकफेयर इण्टरनेशनल-2018’ का आयोजन 8 से 11 सितम्बर तक सी.एम.एस. कानपुर रोड ऑडिटोरियम में किया जा रहा है, जिसमें देश-विदेश के लगभग 700 बाल वैज्ञानिक विभिन्न रोचक व ज्ञानवर्धक प्रतियोगिताओं के माध्यम से अपने ज्ञान-विज्ञान का प्रदर्शन कर रहे हैं।

मैकफेयर इण्टरनेशनल-2018 के तीसरे दिन की शुरुआत प्रख्यात शिक्षाविद् व सी.एम.एस. संस्थापक डा. जगदीश गाँधी के सार्थक अभिभाषण से हुई जिसके अन्तर्गत डा. गाँधी ने ‘स्पिरिचुअल एजूकेशन’ विषय पर छात्रों का मार्गदर्शन किया। डा. गाँधी ने कहा कि आज शिक्षा को दैनिक जीवन से जोड़ने की आवश्यकता है। दुनिया के देश आपस में लड़ रहे हैं। ऐसी परिस्थिति में हम हाथ पर हाथ रखकर नहीं बैठ सकते। शिक्षा द्वारा हमें क्रान्ति लानी है और भावी समाज के लिए ऐसे नागरिक तैयार करने हैं जो मानव जाति की भलाई के लिए समर्पित हों। प्रतियोगिताओं का सिलसिला ‘मैथमेटिक्स क्विज प्रतियोगिता’ से हुआ। लिखित परीक्षा के उपरान्त 10 चयनित टीमों को स्टेज पर क्विज में प्रतिभाग करने का अवसर मिला। प्रत्येक टीम में दो छात्र शामिल थे, जिन्होंने गणित ज्ञान, वाकपटुता एवं बुद्धिमत्ता का जोरदार प्रदर्शन कर उपस्थित दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया। प्रतियोगिता का संचालन दिल्ली से पधारे जाने-माने क्विजमास्टर अर्क्स श्रीनिवास ने किया। इस प्रतियोगिता में भवन्स बी पी विद्या मंदिर, नागपुर, महाराष्ट्र की टीम अव्वल रही जबकि ग्वालियर ग्लोरी स्कूल, ग्वालियर, मध्य प्रदेश एवं लिटिस एन्जल्स हाई स्कूल, ग्वालियर, मध्य प्रदेश की टीमें क्रमशः द्वितीय व तृतीय स्थान पर रही। इसके उपरान्त ओलम्पियाड प्रतियोगिता का लिखित राउण्ड सम्पन्न हुआ। डेढ़ घंटे की इस प्रतियोगिता में फिजिक्स, केमिस्ट्री, मैथमेटिक्स एवं बॉयलॉजी विषयों से इण्टरनेशनल ओलम्पियाड स्तर के सवाल पूछे गये।

जूनियर वर्ग की ‘जिंगल्स प्रतियोगिता’ आज के विशेष आकर्षण में से एक थी, जिसमें देश-विदेश की प्रतिभागी टीमों ने अपने गायन व अभिनय क्षमता का अभूतपूर्व प्रदर्शन कर दर्शकों को रोमांचित कर दिया। ‘साइन्स एण्ड टेक्नोलॉजी फॉर ह्यूमैनिटी’ विषय पर आयोजित इस प्रतियोगिता में चार-चार छात्रों की प्रतिभागी टीमों ने अपनी कलात्मक प्रतिभा की छाप छोड़ी। प्रतियोगिता में 45 छात्र टीमों ने प्रतिभाग किया। अपनी प्रस्तुति द्वारा किसी टीम ने विज्ञान को शान्तिदूत बताया तो किसी ने कम्प्यूटर, रोबोट इत्यादि शब्दों को संगीत के स्वरों में ढालकर प्रस्तुत किया। अपरान्हः सत्र में ‘मॉडल यूनाईटेड नेशन्स’ प्रतियोगिता का आयोजन हुआ, जिसमें देश-दुनिया के सामयिक विषयों पर छात्रों को खुलकर अपनी बात रखने का मौका मिला। प्रतियोगिता के अन्तर्गत देश-विदेश की विभिन्न छात्र टीमों ने ‘राइट टू सक्सेशन – ए थ्रेड टु वर्ल्ड यूनिटी’ विषय पर जोरदार विचार-विमर्श किया और तर्कपूर्ण, ज्ञानपूर्ण व धाराप्रवाह अभिव्यक्ति से वैश्विक दृष्टिकोण का प्रदर्शन किया। संयुक्त राष्ट्र संघ के नियमों व तरीकों के अनुसार ही इस प्रतियोगिता में भी छात्रों को दिये गये ऐजेन्डे पर विचार-विमर्श का अवसर दिया गया और उनकी तार्कित क्षमता, अभिव्यक्ति क्षमता, बोलने के तौर-तरीके एवं सामयिक विषयों पर उनके विचारों की गहराई को जाँचा-परखा गया। इसके अलावा, मैक-ट्यूटर (पॉवर प्वाइन्स प्रजेन्टेशन) प्रतियोगिता का फाइनल राउण्ड आज सम्पन्न हुआ, जिसमें प्रतिभागी छात्रों की टीमों के कम्प्यूटर व सूचना प्रौद्योगिकी के ज्ञान का जांचा परखा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

‘आयुष्मान भारत’ का शुभारंभ करते हुए गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने दिया कुछ ऐसा बयान…

गरीबों को पांच लाख रुपये तक के मुफ्त