मुशर्रफ मंत्रिमंडल के 12 नेता इमरान सरकार में बने मंत्री

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने अपने मंत्रिमंडल का ऐलान कर दिया है जिसमें 21 सदस्यों को शामिल किया गया है. इनमें से ज्यादातर लोग वे हैं जो पूर्व सैन्य प्रमुख जनरल (सेवानिवृत्त) परवेज मुशर्रफ के शासन काल‍ में प्रमुख पदों पर रहे थे. क्रिकेटर से नेता बने इमरान खाने के देश के 22वें प्रधानमंत्री के तौर पर शपथ लेने के कुछ घंटों बाद पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) के प्रवक्ता फवाद चौधरी ने बताया कि घोषित किए गए 21 नामों में से 16 के पास मंत्री पद होगा जबकि पांच अन्य प्रधानमंत्री के सलाहकार के तौर पर काम करेंगे.मुशर्रफ मंत्रिमंडल के 12 नेता इमरान सरकार में बने मंत्री

चौधरी द्वारा अपने ट्विटर अकाउंट पर साझा की गई सूची के मुताबिक शाह महमूद कुरैशी को विदेश मंत्री, परवेज खटक को रक्षा मंत्री और असद उमर को वित्त मंत्री बनाया गया है.पार्टी के उपाध्यक्ष कुरैशी, पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी की सरकार के तहत 2008 से 2011 तक विदेश मंत्री रहे थे जब 2008 में मुंबई पर आतंकी हमला हुआ था.

वह उस वक्त नई दिल्ली में थे, जब पाकिस्तान के आतंकवादी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के 10 आतंकवादियों ने मुंबई पर हमला किया था. परवेज खटक को रक्षा मंत्री जबकि असद उमर को वित्त मंत्री बनाया गया है. खटक 2013 से 2018 तक खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के मुख्यमंत्री रहे हैं. असद उमर पूर्व लेफ्टिनेंट जनरल मोहम्मद उमर के बेटे हैं जो भारत के साथ 1971 के युद्ध के दौरान पाकिस्तानी सेना का हिस्सा रहे थे. नवघोषित मंत्रिमंडल ने शनिवार को राष्ट्रपति आवास में शपथ ली.

‘द न्यूज’ की खबर के मुताबिक खान के मंत्रिमंडल में शामिल कम से कम 12 सदस्य जनरल (सेवानिवृत्त) मुशर्रफ के शासन के दौरान भी प्रमुख पद संभाल चुके हैं. खबर में बताया गया कि नए मंत्रिमंडल में मुशर्रफ के पूर्व प्रवक्ता, उनके अटॉर्नी और उनके मंत्रिमंडल एवं कोर टीम के कई सदस्य शामिल हैं. इसमें बताया गया कि मंत्रिमंडल के सदस्य जिन्होंने मुशर्रफ के शासन काल के दौरान विभिन्न पदों पर काम किया उनमें फरोग नसीम, तारिक बशीर चीमा, गुलाम सरवर खान, जुबैदा जलाल, फवाद चौधरी, शेख राशिद अहमद, खालिद मकबूल सिद्दीकी, शफकत महमूद, मखदूम खुसरो बख्तियार, अब्दुल रज्जाक दाऊद, डॉ इशरत हुसैन और अमीन असलम शामिल हैं.

रावलपिंडी के शेख राशिद को रेल मंत्री नियुक्त किया गया है. मुशर्रफ शासन काल के दौरान भी उनके पास यही मंत्रालय था. तीन महिलाएं शिरीन मजारी, जुबैदा जलाल और फहमीदा मिर्जा भी मंत्रिमंडल का हिस्सा हैं. मंत्री का दर्जा प्राप्त पांच सलाहकारों में पूर्व बैंकर इशरत हुसैन, कारोबारी अब्दुल रज्जाक दाऊद और बाबर अवान जैसे चर्चित चेहरे शामिल हैं. पाकिस्तान के संविधान के मुताबिक संघीय मंत्रिमंडल का आकार नेशनल एसेंबली और सीनेट की कुल संख्या के 11 प्रतिशत से ज्यादा नहीं होनी चाहिए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

रूस से एस-400 मिसाइल की खरीद पर अमेरिका नाराज, भारत पर लगाएगा प्रतिबंध!

अमेरिका के ट्रंप प्रशासन ने कहा है कि भारत का