कोरोना से ठीक हुए मरीजों को लेकर बड़ा खतरा आया सामने, अब इस बीमारी ने दी दस्तक…

कोरोना वायरस के बीच दूसरी बीमारियां भी डरा रही हैं। राजधानी दिल्ली में काली फफूंद का कहर सामने आया है। यहां कोरोना संक्रमण से ठीक हुए मरीजों में घातक फंगल मुकोर्माइकोसिस यानी काली फफूंदी का संक्रमण देखा जा रहा है। गाराम अस्पताल में पिछले 2 हफ्तों में काली फफूंद के 15 से 18 मरीज पहुंच चुके हैं। 5 की मौत भी हो चुकी है। इस बीमारी में आंखों की रोशनी चली जाती है। साथ ही नाक और जबड़े खराब हो जाते हैं। डॉक्टर के मुताबिक इस बीमारी में मृत्यु दर करीब 50 से अधिक है।

किन मरीजों में ज्यादा खतरा

अस्पताल के वरिष्ठ ईएनटी सर्जन डा. मनीष मुंजाल के मुताबिक, यह बीमारी उन मरीजों पर जल्दी अटैक करती है जो डायबिटीज का शिकार हैं या लंबे समय से किसी दवा का सेवन कर रहे हैं। इससे मरीजों की बीमारी से लड़ने की क्षमता कम हो जाती है और काली फफूंदी हमला कर देती है। कोरोना मरीजों के साथ भी ऐसा ही हो रहा है।

आमतौर पर काली फफूंद के मरीज कम ही आते हैं लेकिन कोरोना काल में इनकी संख्या बढ़ गई है। पिछले साल केवल 8 मरीज सामने आए थे लेकिन इस बार 2 हफ्तों में ही यह संख्या 15 से 18 पहुंच गई है। अभी तक जो भी सामने आए हैं कोरोना संक्रमित हो चुके हैं। अधिकांश मरीजों की उम्र 50 साल से अधिक है।

काली के लक्षण

पश्चिमी दिल्ली के रहने वाले 32 साल के एक व्यापारी में काली फफूंद पाई गई। उन्हें पिछले हफ्ते ही कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई थी लेकिन दो दिन बाद ही नाक का एक हिस्सा जाम हो गया। आंखों में सूजन आ गई। दवाओं का भी असर नहीं हुआ और कुछ दिन में आंखों की रोशनी कम होने लगी। चेहरे का एक हिस्सा सुन्न पड़ गया। सैंपल की जांच की गई तो काली फफूंद सामने आई। रिपोर्ट के मुताबिक मरीज के नाक और जबड़े का कुछ हिस्सा नष्ट हो चुका था। नष्ट हो चुकी कोशिकाओं को हटाया गया और 2 हफ्ते तक आईसीयू में रखने के बाद अब छुट्टी दे दी गई।

क्या है काली फफूंद का इलाज

डॉ. मुंजाल के मुताबिक, काली फफूंद गन्ने के खेतों में पाई जाती है। यह हवा में मौजूद रहती है जो नाक के जरिए मस्तिष्क तक पहुंच जाती है। इसलिए मरीजों को सलाह दी जाती है कि नाक में किसी तरह की रुकावट या गले में सूजन, आंख लाल होना आदि लक्षण दिखाई दे तो तुरंत डॉक्टर को दिखाना चाहिए। हालात बिगड़ने पर नाक में जबड़े की हड्डी हटाना पड़ सकती है।

 

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

19 + 2 =

Back to top button