एक झूठ की कीमत चुकाना पड़ा 40 लाख रुपए, जानिए पूरा मामला

ग्वालियर। दो महीने में उधार लिए रुपए बढ़ाकर लौटाने का झांसा देकर एक शिक्षिका ने अपने साथी स्टाफ व कुछ रिश्तेदारों से 40 लाख रुपए हड़प लिए। घटना जून-जुलाई 2017 की है। इतना ही नहीं शिक्षिका पर जब लोगों ने अपना पैसा वापस करने का दबाव बनाया तो उसने कोतवाली थाने में उल्टा उनके खिलाफ ही शिकायत कर दी। जब शिकायत होने का पता लगा तो पीड़ित एकजुट हुए। मंगलवार को सभी पीड़ित एसपी ऑफिस पहुंचे और एसपी ग्वालियर से 40 लाख रुपए की ठगी की शिकायत कर एफआईआर की मांग की है। जिस पर एसपी ने सीएसपी लश्कर को जांच सौंपी है।

एक झूठ की कीमत चुकाना पड़ा 40 लाख रुपए, जानिए पूरा मामला एसपी को की गई शिकायत में कम्पू निवासी विद्या पत्नी धर्मेश कुशवाह, डीडी नगर निवासी सुशीला सोनी, रीना देवी, अजय सिंह, मुकेश राठौर, मीना तोमर आदि ने बताया कि वह नया बाजार स्थित अर्धशासकीय विद्यालय डीएवी स्कूल में बतौर शिक्षक पदस्थ हैं। इसी स्कूल में वर्ष 2016 में डिंपल पत्नी सुनील सोनी निवासी माधौप्लाजा के सामने रामकृष्ण भवन भी पढ़ाने आईं। सभी से उसकी अच्छी दोस्ती हो गई।

इसके बाद उसने अपने बेटे की जन्मदिन पार्टी में पूरे स्टाफ को परिवार सहित बुलाया। जिससे सभी के परिवार में भी उसकी अच्छी दोस्ती हो जाए और वह उस पर विश्वास करने लगे। इसके बाद उसने अपने जाल में लोगों को फंसाना शुरू किया। उसने एक फ्लैट लेने और उसके लिए रुपए कम होने की बात कहकर जून 2017 में विद्या व उनके पति धर्मेश कुशवाह से रुपए मांगे।

डिंपल ने उनसे कहा कि दो महीने में उसका लोन पास हो जाएगा। जिस पर वह उनसे लिए रुपए बढ़ाकर वापस कर देगी। विश्वास में उन्होंने 3 लाख रुपए दे दिए। अगले महीने उसने 3 लाख रुपए और लिए। इसी तरह शिक्षिका ने मुकेश राठौर से 7.5 लाख रुपए, मीना तोमर से 5 लाख रुपए, अजय सिंह से 3 लाख रुपए सहित अन्य लोगों से रुपए ले लिए।

रिश्तेदार को भी नहीं छोड़ा

पीड़ितों ने बताया कि डिंपल ने अपनी रिश्तेदार किरन सोनी को बताया कि उसे रुपए की जरूरत है और एक फ्लैट खरीदने में कम पड़ रहे हैं। तो उनसे दो महीने में वापस करने की कहकर 2 लाख रुपए लिए। इसके कुछ दिन बाद एक परिचित के यहां शादी में उनके जैसे जेवरात खरीदने का लालच देकर किरन के पति सुशील सोनी की दुकान से करीब 15 लाख रुपए के सोने के जेवरात ले गई जो नहीं लौटाए।

धोखाधड़ी का इन लोगों को उस समय पता लगा जब पीड़ितों के रुपए मांगने पर डिंपल ने एक आवेदन कोतवाली थाने में दिया कि इन लोगों ने मोटे ब्याज पर उसे पैसा दिया और अब परेशान कर रहे हैं। जिससे वह कुछ भी कर सकती है। जब पुलिस पीड़ितों के घर पहुंची तो उन्हें पता चला। इसके बाद सभी पीड़ित एसपी से मिले।

Facebook Comments

You may also like

सरेंडर करने पहुंचे अमानतुल्लाह ने पहने थे ऐसे कपड़े सोशल मीडिया पर हो गए ट्रोल

दिल्ली में मुख्य सचिव और सरकार के बीच