Home > राज्य > दिल्ली > आप दिल्ली के माई-बाप, इसे बर्बाद होने से बचाएं: रामनिवास गोयल

आप दिल्ली के माई-बाप, इसे बर्बाद होने से बचाएं: रामनिवास गोयल

नई दिल्ली। उपराज्यपाल बनाम दिल्ली सरकार की लड़ाई बेहद दिलचस्प मोड़ पर आ पहुंची है। जहां एक ओर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल अपने दो मंत्रियों मनीष सिसोदिया और सत्येंद्र जैन के साथ उपराज्यपाल के आवास पर धरने पर बैठे हैं, वहीं अब विधानसभा अध्यक्ष रामनिवास गोयल ने भी पत्र के जरिये हमला बोला है। उन्होंने दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल को लिखे पत्र में दिल्ली के बिगड़े हालात को सुनियोजित साजिश बताया है। साथ ही कहा है कि उपराज्यपाल दिल्ली के माईबाप हैं, उन्हें दिल्ली को बचाने के लिए आगे आना चाहिए। आप दिल्ली के माई-बाप, इसे बर्बाद होने से बचाएं: रामनिवास गोयल

पढ़ें खत की मुख्य बातें

विधानसभा अध्यक्ष ने पत्र में लिखा है- ‘मैं कई महीने से देख रहा हूं और समझ रहा हूं कि दिल्ली में विकास का काम ठप है। इसके पीछे एक सोची समझी सुनियोजित साजिश है। जिसके कारण दिल्ली की जनता अपने लोकतांत्रिक अधिकारों से वंचित है और अपने आपको ठगा हुआ महसूस कर रही है। अतिश्योक्ति नहीं होगी यदि मैं कहूं कि दिल्ली की जनता का अपमान हो रहा है। आप दिल्ली के सर्वोपरि प्रशासक हैं। कृपया एक बार अपने आप से पूछिये कि क्या ये स्थिति आपको उचित लग रही है।’  

वहीं, पत्र के अंत में उन्होंने लिखा है- ‘आप दिल्ली के माई-बाप हैं। दिल्ली को बर्बाद होने से बचाइये। अधिकारियों को सद्बुद्धि दें। जो अपने निहित स्वार्थ को छोड़कर और किसी दबाव में न आकर जनता के हित में काम करें।’ यहां पर बता दें कि एलजी हाउस में धरने का बुधवार को तीसरा दिन है। वहीं,  केजरीवाल ने कहा है कि ‘हम यहां अपने लिए नहीं, दिल्ली की जनता के हित और सरकार को काम करने का हक दिलाने के धरने पर बैठे हैं। हमने 23 फरवरी को ही उपराज्यपाल से अफसरों की हड़ताल खत्म कराने की मांग की थी। पर अफसरों ने इस पर कोई ध्यान नहीं दिया। मनीष सिसोदिया और अन्य नेता उपराज्यपाल से मिले, कई चिट्ठियां भी लिखीं। इसके बाद हमने फैसला किया कि जब तक एलजी मांगे पूरी नहीं करते हैं, हम यहीं बैठे रहेंगे।

Loading...

Check Also

68500 शिक्षक भर्ती: चयनितों की नियुक्ति और पुनर्मूल्यांकन का रास्ता साफ

परिषदीय स्कूलों की 68500 सहायक अध्यापक भर्ती में नियुक्ति पाने की उम्मीद संजोए अभ्यर्थियों के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com