नहीं जनता होगा कोई, अगर पाना चाहते हैं सफलता और अपार धन लाभ तो करें हनुमान जी के इन रूप की पूजा

- in Mainslide, धर्म

ब्रह्माण्ड में शायद ही ऐसा कोई व्यक्ति होगा जिसके जीवन में कोई परेशानी नहीं रही हो। हर व्यक्ति के जीवन में कभी ना कभी कोई परेशानी तो आती हैं जिसके चलते व्यक्ति का मन व्यथित होने लगता हैं। इन परेशानियों से मुक्ति पाने और आत्मिक शांति के लिए व्यक्ति भगवान की आराधना और पूजा का सहा लेता हैं। इसलिए आज हम आपके लिए लेकर आये हैं हनुमान जी की विभिन्न रूपों की भक्ति से जुडी बातें जो कई परेशानियों को हल कर दे। तो आइये जानते हैं किस परेशानी के लिए हनुमान जी के किस रूप की पूजा की जाती हैं।

उत्तरमुखी हनुमान :’

अगर अपने जीवन को सुखी और खुशहाल बनाना चाहते हैं तो घर में कुछ समय पर बड़ी पूजा करवाएं। अगर आपसे ऐसा नहीं हो पा रहा है तो घर के उत्तर दिशा में एक मंदिर बनवाएं और उसमें अपने ईश्वर की प्रतिमा रखकर पूजा आराधना करें। देवी देवताओं का स्थान उत्तर दिशा में होता है इसलिए इस दिशा में हनुमान कि मुख वाली तस्वीर कि पूजा करना चाहिए इस तस्वीर को उत्तरमुखी हनुमान कहते है, ऐसी तस्वीर कि पूजा करने से बाधाएं दूर होती है। इस रूप की पूजा करने से आपके जीवन की सारी बाधाएं मिनटों में दूर होंगी। कोशिश करें की पूरे परिवार के साथ इस रूप की पूजा करें।

सूर्य अर्ग हनुमान : 

ये एक ऐसी तस्वीर होती है जिसमें हनुमान जी भगवान् सूर्य की पूजा करते दिखाई देते हैं। इस तस्वीर में बजरंगबलि सूर्य देवता कि अराधना कर रहे हों, तथा उन्हें प्रणाम कर रहे हों ऐसी तस्वीर कि पूजा करने से व्यक्ति उन्नति को प्राप्त करता है और सम्मान पाता है। ऐसाकरने से आप दिन दूनी रात चौगुनी तरक्की करेंगे।

12 अप्रैल दिन गुरूवार का राशिफल : जानें किन किन की पूरी होंगी मनोकामनाएँ

* साहसी तस्वीर :
जिस तस्वीर में हनुमान जी साहस से बहर्पूर दिखाई दें उसकी आराधना करने से आपकी सारी बाधा दूर हो जाएगी। हनुमान जी साहस, पराक्रम और आत्मविश्वास से औत-प्रोत है ऐसी तस्वीर कि पूजा करना चाहिए, ऐसा करने से व्यक्ति भी अपने कार्य में आगे बढ़ता रहेगा तथा वह भी आत्मविश्वास, साहस, बल से औत-प्रोत रहेगा।

ध्यान हनुमान :
भगवान् हनुमान आमतौर पर भगवान् राम का ध्यान करते रहते हैं। उनके मन में राम बसे हैं। जिस तस्वीर में हनूमान जी ध्यान लगाए हुए है ऐसी तस्वीर कि पूजा करने से व्यक्ति अपने मार्ग से कहीं डगमगा नहीं पायेगा तथा वह अपने कार्य में आगे बढ़ता रहेगा।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

लोअर पीसीएस-2015 के चयनितों को चार माह बाद भी नियुक्ति का इंतजार – राघवेन्द्र प्रताप सिंह

लखनऊ। एक ओर जहाँ सूबे की योगी आदित्यनाथ