‘इलेवन गॉड एंड अ बिवियन इंडियंस’ बुक के कोलकाता लॉन्च के दौरान कोहली ने कहा था कि मैं अपने करियर पर सचिन तेंदुलकर के प्रभाव को समझता हूं. उन्होंने कहा था, ” मेरे करियर में करीबी लोग बेहद कम हैं. ये सिर्फ एक जिंदगी थी जो चलती ही चली गई क्योंकि ये स्वाभाविक है कि जब कोई मेरे कठिन समय में मेरे साथ खड़ा होगा तो मैं उस इंसान को महत्व दूंगा और मैं ऐसा हमेशा करता रहूंगा.”

विराट ने कहा था, ‘अगर कोई आपको तरह प्रभावित कर सकता है, तो इससे बड़ी खुशी आपके लिए हो नहीं सकती. उस प्रभाव को आप महसूस करते हैं. इसलिए जब आप तेंदुलकर का हाथ अपने सिर पर पाते हैं तो आप सिर्फ इशारों में ही धन्यवाद दे पाते हैं क्योंकि आज मैं जो कुछ कर रहा हूं वो उन्हीं की प्रेरणा से कर पा रहा हूं.

बता दें कि जब 2014 इंग्लैंड दौरे पर कोहली बेहद खराब फॉर्म से जूझ रहे थे तब उन्होंने सचिन से मदद ली थी. कुछ ही समय के बाद कोहली ने ऑस्ट्रेलिया में रनों की बारिश की और 4 टेस्ट में 4 शतक जमाए. इसके बाद उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा और जो वो आज है वो पूरी दुनिया के सामने हैं.