UP बोर्ड हाईस्कूल-इंटर का रिजल्ट 29 अप्रैल को एक साथ आने की उम्मीद

यूपी बोर्ड पुराने कीर्तिमान ध्वस्त कर नए-नए रिकॉर्ड गढऩे में जुटा है। इसी मुहिम में हाईस्कूल व इंटर 2018 का परिणाम भी शामिल हो गया है। आमतौर पर मई व जून के महीने में आने वाला रिजल्ट अप्रैल में घोषित हो रहा है। इससे भी अहम यह है कि परीक्षा शुरू होने और परिणाम घोषणा का अंतर निरंतर कम करने में बोर्ड प्रशासन सफल रहा है। इससे अगले वर्षों में यह फासला और घटना तय है। इस बार अब रिजल्ट 29 अप्रैल को एक साथ आने की उम्मीद है। 

UP बोर्ड हाईस्कूल-इंटर का रिजल्ट 29 अप्रैल को एक साथ आने की उम्मीद

यूपी बोर्ड की रिजल्ट देने में साख बदली

माध्यमिक शिक्षा परिषद यानि यूपी बोर्ड हाईस्कूल व इंटरमीडिएट की परीक्षा लंबे समय से हर वर्ष करा रहा है। सामान्य रूप से इन परीक्षाओं का परिणाम मई के अंत या फिर जून के पहले से दूसरे पखवारे तक आता रहा है। यह उन दिनों की बात है, जब शैक्षिक सत्र जुलाई से शुरू होता रहा है। यूपी बोर्ड परीक्षार्थियों की संख्या की लिहाज से दुनिया का सबसे बोर्ड है और इंटर उत्तीर्ण करने के बाद छात्र-छात्राएं उच्च शिक्षा में प्रवेश लेते हैं। ऐसे में शीर्ष कोर्ट को इस अहम परीक्षा परिणाम के लिए निर्देश पड़ा था कि हर हाल में सभी सेकेंडरी बोर्ड 10 जून तक परीक्षा परिणाम घोषित कर दें। अब उसी बोर्ड की रिजल्ट देने में साख बदल चुकी है। इसकी अहम वजह शैक्षिक सत्र का अप्रैल से शुरू होना रहा है। शायद इसीलिए 2015 में 19 फरवरी से परीक्षाएं शुरू कराई गईं और दोनों का एक साथ रिजल्ट 17 मई को घोषित किया गया। अगले वर्ष यानि 2016 में परीक्षा 18 फरवरी से शुरू हुई और एक साथ रिजल्ट 15 मई को आया। 

अभी-अभी UP में हुआ बड़ा हादसा: ट्रेन की चपेट में आई स्कूली वैन, 13 बच्चों की हुई मौत    

शिक्षक विरोध के बाद भी सब तय अवधि में

पिछले वर्ष 2017 में यूपी के विधानसभा चुनाव के कारण परीक्षा से लेकर परिणाम की घोषणा का शेड्यूल बिगड़ गया। परीक्षा 16 मार्च से हुई और परिणाम आठ जून को आया। योगी सरकार ने सत्ता में आते ही बोर्ड की साख सुधारने पर पूरा ध्यान केंद्रित किया और 2018 में पहली बार परीक्षाएं छह फरवरी से शुरू कराई गई। उस समय शिक्षा महकमे के अफसर तक इस निर्णय पर दबी जुबान सवाल उठा रहे थे कि ठंड होने से परीक्षाओं पर प्रभाव पड़ेगा। लेकिन आशंकाओं को दरकिनार करके सकुशल परीक्षाएं कराई गईं। यही नहीं 17 मार्च से मूल्यांकन शुरू हुआ इसमें वित्तविहीन शिक्षकों के विरोध के बाद भी तय अवधि से कुछ अधिक समय में कार्य पूरा कराया गया और अब रिजल्ट 29 अप्रैल को एक साथ आने जा रहा है। इसके पहले 2011 में 17 मार्च से परीक्षा हुई और परिणाम जून में आया, वहीं 2014 में तीन मार्च से परीक्षा हुई और परिणाम मई के अंत में आए। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

पेट्रोलियम कंपनियों ने की 100 रुपये लीटर पेट्रोल बेचने की तैयारी, जाने ऐसा क्यों?

अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में उछाल आने