उन्नाव गैंगरेप केस: MLA कुलदीप सेंगर की पत्नी ने की नार्को टेस्ट की मांग

- in अपराध

उन्नाव गैंगरेप केस में बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर की मुसीबत बढ़ती जा रही है. एक तरह इस मामले की जांच एसआईटी को सौंप दी गई है, तो दूसरी तरफ हाईकोर्ट और मानवाधिकार आयोग ने इस मामले को संज्ञान में ले लिया है. इन सबके बीच आरोपी विधायक की पत्नी संगीता सेंगर ने यूपी के DGP ओपी सिंह से मिलने पहुंची.

DGP ओपी सिंह से मिलने के बाद संगीता सेंगर ने कहा कि वह अपने पति के लिए न्याय की गुहार लगाने आई हैं. उनके पति निर्दोष हैं. उनको रेप केस में जानबूझकर फंसाया जा रहा है. पीड़िता और आरोपी का नार्को टेस्ट होना चाहिए. इसके बाद सच्चाई सामने आ जाएगी. यदि झूठे केस में मीडिया ट्रायल हुआ, तो वह अपनी दो बेटियों के साथ जहर खा लेंगी.

संगीता सेंगर ने रोते हुए कहा कि उनके पति के खिलाफ झूठे, मनगंढत और आधारविहिन आरोप लगाए गए हैं. इसकी वजह से उनकी दोनों बेटियों ने खुद को कमरे में कैद कर लिया है. उनके पति को पीड़ित किया जा रहा है. उनके पति जनता के प्रतिनिधि हैं. उनके बारे में हर कोर्ई जानता है कि वह साफ सुथरी छवि के हैं. इस मामले की जांच होनी चाहिए.

BJP MLA पर गैंगरेप-हत्या का आरोप

उधर, गैंगरेप पीड़िता का आरोप है कि उसके साथ 4 जून 2017 को बीजेपी विधायक कुलदीप सेंगर और उनके साथियों ने गैंगरेप था. उसने बीजेपी विधायक से रेप का विरोध किया, तो उसने परिवार वालों को मारने की धमकी दी. जब वो थाने में गई तो एफआईआर नहीं लिखी गई. इसके बाद तहरीर बदल दी गई. वह मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलने लखनऊ गई.

पिता को बर्बर तरीके से पीटने का आरोप

मुख्यमंत्री से विधायक की शिकायत की थी. उन्होंने इंसाफ का भरोसा दिलाया था, लेकिन एक साल हो गया. अब तक कुछ नहीं हुआ. दिल्ली से उसके पिता गांव आए, तो विधायक के लोगों ने उनको बहुत मारा. उनको घसीटकर ले गए. पीटने के बाद उन्हें अपने घर के बाहर फेंक दिया. इसके बाद उन्हें जेल में बंद कर दिया गया, जहां उनकी मौत हो गई है.

पेट दर्द के साथ खून की उल्टियां

पीड़िता के पिता को बीते रविवार रात को जेल में पेट दर्द के साथ खून की उल्टियां शुरू हुई थीं. इस पर उसे तुरंत जिला अस्पताल के एमरजेंसी वार्ड में भर्ती कराया गया था. इलाज के दौरान तड़के लगभग तीन बजे उसकी मौत हो गई. मृतक की उम्र करीब 50 वर्ष थी. मृतक के परिजन ने बीजेपी विधायक पर जेल में हत्या कराने का आरोप लगाया है

CM ने घटना को बताया दुर्भाग्यपूर्ण

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए कहा कि लखनऊ जोन के अपर पुलिस महानिदेशक से मामले की जांच करने के निर्देश दिये गये हैं. सरकार और कानून इस घटना के दोषियों के साथ कोई रियायत नहीं करेगा. ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने कहा कि मामले की निष्पक्ष जांच सुनिश्चित कराने के लिये तफ्तीश को लखनऊ स्थानान्तरित कर दिया गया है.

मजिस्ट्रेट से जांच के आदेश दिए

इस मामले की मजिस्ट्रेट से जांच के आदेश दिये गये हैं. पुलिस महानिदेशक ओ.पी. सिंह ने कहा कि इस मामले की जांच के लिये लखनऊ पुलिस की एक टीम गठित की गयी है. भाजपा विधायक पर लगा आरोप अभी सिद्ध नहीं हुआ है. जांच के बाद जो भी दोषी पाया जाएगा, उसके खिलाफ कार्रवाई होगी. किसी भी दोषी को किसी सूरत में बक्शा नहीं जाएगा.

आसिफा गैंगरेप और मर्डर केस: नशे का टेबलेट देकर हुई थी बर्बरता, बढ़ा सियासी बवाल

चार आरोपियों को किया गिरफ्तार

उन्नाव की पुलिस अधीक्षक पुष्पांजलि ने बताया कि मामले के चार नामजद अभियुक्तों सोनू, बउवा, विनीत और शैलू को गिरफ्तार कर लिया गया है. वहीं, माखी के थाना प्रभारी अशोक कुमार समेत छह पुलिसकर्मियों को लापरवाही बरतने के आरोप में निलम्बित कर दिया गया है. जिलाधिकारी रवि कुमार एनजी ने बताया कि दोनों पक्षों की ओर से मुकदमा दर्ज कराया गया था.

CM आवास पर आत्मदाह का प्रयास

बताते चलें कि उन्नाव की रहने वाली 18 वर्षीय एक युवती ने बांगरमऊ से विधायक कुलदीप सेंगर और उनके भाइयों पर पिछले साल गैंगरेप का आरोप लगाया था. अदालत के आदेश पर इस मामले में मुकदमा दर्ज किया गया था. आरोपियों के बजाय अपने पिता के खिलाफ कार्रवाई किये जाने से क्षुब्ध होकर पीड़ित युवती ने आत्मदाह का प्रयास किया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

छोटी सी बात पर प्रेमिका ने प्रेमी को मारा चाकू, वीडियो बनाते रहे लोग

आए दिन होने वाली अपराध की घणाए कम