गाय के प्यार में गिरफ्तार हो गया कछुआ, अब दोनों हमेशा रहते हैं साथ….तस्वीरें

- in ज़रा-हटके

हम सबके जीवन में प्यार एक महत्वपूर्ण स्थान रखता है. हम सभी को कभी न कभी किसी न किसी से प्यार जरूर होता है. जिस वक्त ये फीलिंग हमारे मन में आती है हम ये भरोसा करने लग जाते हैं कि यही एक बात है जो सच है और बाकी सब कुछ झूठ और फरेब है. प्यार हो जाने पर इंसान अपने सपनों को किसी और की सोच के साथ साझा करने लगता है. प्यार एक खूबसूरत एहसास है. जिससे आप प्यार करते हैं यदि एक दिन वह दिखाई न दे तो आपका मन घबराने लगता है. मन में तरह-तरह के गलत ख्याल आने लगते हैं. प्यार के बिना ज़िंदगी नीरस, फालतू, बकवास या अधूरी-अधूरी सी लगने लगती है. प्यार के अनेकों रूप होते हैं. जरूरी नहीं कि एक प्रेमी और प्रेमिका के बीच ही प्यार संभव है. प्यार एक मां अपने बेटे से भी करती है और एक बेटी अपने पिता से. प्यार एक बहन अपने भाई से भी करती है और एक दोस्त अपने दोस्त से. दो जानवरों के बीच भी प्यार होता है. प्यार की कोई परिभाषा नहीं होती. यह एक ऐसा एहसास है जो बिना कुछ बोले ही अपनी मौजूदगी दर्ज करवा देता है.

वायरल हो रही है गाय और कछुए की अनोखी दोस्ती

आपने कई बार इंसान की जानवरों के साथ दोस्ती की कहानी सुनी होगी. ऐसी ही एक कहानी हम आपके लिए लेकर आये हैं. ये दोस्ती किसी इंसान और जानवर की नहीं है बल्कि एक कछुए और गाय की है. यह कहानी सुनने के बाद हमें यकीन है कि आप हैरान रह जाएंगे. इंसान के साथ जानवरों की दोस्ती होना आम बात है लेकिन कछुए और गाय की दोस्ती के बारे में शायद ही आपने कभी सुना हो. यह सुनकर आपको भी यकीन नहीं हो रहा होगा. आप भी सोच रहे होंगे भला एक कछुआ और गाय दोस्त कैसे बन सकते हैं. तो चलिए हम आपको बताते हैं इनकी अनोखी दोस्ती के बारे में.

जी हां, ये बात सच है. थाईलैंड के फेटचाबुरी में एक गाय और कछुए की दोस्ती सबका ध्यान अपनी ओर आकर्षित कर रही है. इन दोनों की अनोखी दोस्ती शहर में चर्चा का विषय बन गई है. इन दोनों की कुछ तस्वीरें वाइल्डलाइफ फ्रेंड्स फाउंडेशन थाईलैंड (Wildlife Friends Foundation Thailand) ने शेयर की है. उनके द्वारा शेयर की गई फोटोज सोशल मीडिया पर बहुत तेजी से वायरल हो रही है. बता दें कि कछुए का नाम Leonardo है. Leonardo एक अफ्रीकन कछुआ है जो WFFT में साल 2013 से रह रहा है. यहां पार आने से पहले वह एक ज़ू (Zoo) में रह रहा था. ज़ू बंद होने के बाद उसे यहां शिफ्ट कर दिया गया.

कुछ दिनों बाद एक गाय के रूप में साल 2016 में Leonardo को एक नया साथी मिल गया. फरवरी महीने में Leonardo की दोस्ती Simon नामक एक गाय से हो गई. बता दें कि Simon का एक पैर नहीं है. अपनी मां से बिछड़ने के बाद Simon को भी WFFT लाया गया. यहां पर Leonardo और Simon के बीच गहरी दोस्ती हो गई. अब दोनों हमेशा साथ रहते हैं. उनका खाना-पीना और सोना भी साथ होता है.

You may also like

आधी रात बहू के बिस्तर पर जाकर लेट गया ससुर, उसके बाद हुआ कुछ ऐसा कि..

देश में महिलाओं और लड़कियों पर अत्याचार होने