आज का राशिफल और पंचांग: 23 जुलाई दिन सोमवार, इन राशी वालों की नैय्या पार करेंगे शिव

।।आज का पञ्चाङ्ग।।
आप सभी का मंगल हो 23 जुलाई दिन सोमवार

ऋतु-वर्षा
माह-आषाढ़
पक्ष-शुक्ल
तिथि-एकादशी
सूर्य-दक्षिणायन
सूर्योदय-05.20
सूर्यास्त-18.40
राहूकाल(अशुभमुहूर्त)शायं
प्रात: 07.30 से 09.00 तक
दिशाशूल-पूर्व
शुभदिशा-पश्चिम
अमृतमुहूर्त- प्रातः05:38 से07:20 तकआज का राशिफल और पंचांग: 23 जुलाई दिन सोमवार, इन राशी वालों की नैय्या पार करेंगे शिव

।।आज का राशिफल।।

मेष:-
आज आपका दिन आध्यात्मिक दृष्टि से अच्छा होगा। आध्यात्मिक सिद्धियां मिलने का योग हैं। आज शुरू किए गए नए कार्य अपूर्ण रह सकते हैं। क्रोध और वाणी पर संयम रखे। सर्दी और कफ के कारण आपका स्वास्थ्य प्रभावित हो सकता है।
राशिरुद्राक्ष:-3 व 14 मुखी

वृष:-
आज आपको दांपत्य जीवन का विशेष आनंद मिलेगा। मित्रों के साथ उत्तम भोजन करने का अवसर आएगा। विदेश में बसनेवाले स्नेहीजनों के समाचार मिलेंगे। आकस्मिक धन लाभ मिलेगा। व्यापारियों के व्यापार में वृद्धि होगी।
राशिरुद्राक्ष:-6 ,10 व 13 मुखी

मिथुन:-
कार्य सफलता और यश एवं कीर्ति प्राप्त करने के लिए आज का दिन शुभ है। घर में सुख-शांति का वातावरण बना रहेगा। शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ्य रहेगें। आर्थिक लाभ की संभावनाएं हैं। रुके हुए कार्य पूर्ण होंगे।
राशिरुद्राक्ष:-11 व 13 मुखी

कर्क:-
आज शारीरिक और मानसिक अस्वस्थता आपको बेचैन कर सकती है। आकस्मिक खर्च हो सकता है। प्रेमीजनों के बीच वाद-विवाद के कारण मनमुटाव हो सकता है। महत्त्वपूर्ण निर्णय लेने में आप दुविधा का अनुभव कर सकते हैं।
राशिरुद्राक्ष:-गौरीशंकर व 2 मुखी

सिंह:-
आज परिवार में मनमुटाव का वातावरण ना हो, इसका ध्यान रखें। मां के स्वास्थ्य का ध्यान रखें। जमीन, मकान, वाहन आदि के दस्तावेजों पर हस्ताक्षर करने के लिए आज का दिन अच्छा नहीं है। नौकरी-पेशावालों को नौकरी में चिंता हो सकती है।
राशिरुद्राक्ष:-1 व 12 मुखी

कन्या:-
शारीरिक-मानसिक स्वास्थ्य उत्तम रहेगा। भाई-बहनों के साथ अच्छी तरह समय व्यतीत होगा और लाभ भी मिलेगा। प्रतिस्पर्धियों की चाल निष्फल रहेगी। मित्रों के साथ आप खुशहाल रहेंगे। आर्थिक लाभ तथा समाज में आदर सम्मान मिलेगा।
राशिरुद्राक्ष:-11 व 13 मुखी

तुला:-
आज के दिन आपकी मानसिक स्थिति दुविधापूर्ण हो सकती है। छाती में दर्द या अन्य किसी परेशानी का अनुभव कर सकते हैं। परिवार में सदस्यों के साथ वाद-विवाद ना हो, ध्यान रखें। पैसे खर्च हो सकते हैं। समय से भोजन ना मिलने पर क्रोध आ सकता है।
राशिरुद्राक्ष:-6,10 व 13 मुखी

वृश्चिक:-
परिजनों के साथ आज आपका दिन आमोद-प्रमोद में व्यतीत होगा। शारीरिक और मानसिक प्रसन्नता रहेगी। प्रिय व्यक्तियों के साथ मुलाकात सफल और आनंददायक रहेगी। कोई शुभ समाचार मिलेगा। आनंददायक प्रवास होगा।
राशिरुद्राक्ष:-3 व 14 मुखी

धनु:-
पारिवारिक सदस्यों के साथ मनमुटाव ना हो, इसका ध्यान रखें। स्वभाव में क्रोध और आवेश हो सकता है। आज संतान और जीवनसाथी के स्वास्थ्य के संबंध में चिंता हो सकती है। वाणी पर संयम रखें, लाभ होगा। पैसे का अत्यधिक खर्च हो सकता है।
राशिरुद्राक्ष:-7, 1 व 14 मुखी

मकर:-
आज के लाभदायक दिन में आपके घर में किसी शुभ प्रसंग के आयोजन की संभावना है। किसी वस्तु की खरीदारी के लिए आज शुभ दिन है। शेयर- सट्टा की प्रवृत्तियों में धन लाभ होगा। सामाजिक क्षेत्र में नौकरी व्यवसाय में लाभ मिलेगा।
राशिरुद्राक्ष:-1व 14 मुखी

कुंभ:-
आज आप पर उच्च पदाधिकारी और बुजुर्ग वर्ग की कृपादृष्टि रहेगी। आपके सभी :काम सरलता से सम्पन्न होंगे। नौकरी-व्यवसाय के क्षेत्र में परिस्थिति अनुकूल रहेंगी। आप मानसिक रूप से राहत महूस करेंगे। स्वास्थ्य अच्छा रहेगा।
राशिरुद्राक्ष:- 1 व 14 मुखी

मीन:-
आज आप तन-मन से थकान तथा बेचैनी का अनुभव कर सकते हैं। संतान के भविष्य को लेकर परेशान हो सकते हैं। नौकरी में अधिकारियों के साथ वाद-विवाद ना हो, इसका ध्यान रखें। नकारात्मक विचारों को मन में ना आने दें
राशिरुद्राक्ष:-1, 7 व 14 मुखी

।।आज के दिन का विशेष महत्व।।
1 आज वर्षाऋतु आषाढ़ माह शुक्लपक्ष एकादशी तिथि दिन सोमवार है।
2आज हरिशयनी एकादशी व्रत सभी का है, आज से चातुर्मास व्रत प्रारंभ हो रहा है।

।।प्रेरणा दाई चौपाई।।
धनिक बनिक बर धनद समाना। बैठ सकल बस्तु लै नाना।।
चौहट सुंदर गलीं सुहाई। संतत रहहिं सुगंध सिंचाई।।

अर्थ:-गोस्वामी तुलसीदास जी वर्णन करते है कि मिथिला के जो व्यापारी बनिक बर हैं वे कुबेर के समान हैं। वे सब अपनी अपनी वस्तुओं को सामने ले कर बैठे हैं। मिथिला का चौहाट बहुत सुंदर है गलियाँ बड़ी सुंदर है और वे गलियाँ हमेसा सुगन्धित द्रव्य से सींची जाती है।

।।इति शुभम्।।

।।आचार्य स्वमी विवेकानन्द।।
।।ज्योतिर्विद व संगीतमय श्रीरामकथा व श्रीमद्भागवत कथा व्यास।।
।।श्री अयोध्या धाम।।
संपर्क सूत्र-9044741252

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

तो इसलिए 14 सालों तक सोती रही लक्ष्मण की पत्नी

महर्षि वाल्मीकि की रामायण में भगवान राम,माता सीता,भाई