आज CM योगी करेंगे 19 परियोजनाओं का लोकार्पण-शिलान्यास

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कुछ देर बाद सेक्टर-38 ए बॉटेनिकल गार्डन पहुंचकर यहां 1452 करोड़ रुपये की 10 परियोजनाओं का लोकार्पण करेंगे और करीब 1369 करोड़ रुपये की नौ परियोजनाओं का शिलान्यास करेंगे। इनमें तीन परियोजनाएं ऐसी हैं, जिनका लोकार्पण तो कर दिया जाएगा, लेकिन संचालन में एक माह का समय लग सकेगा।

इसमें सेक्टर-39 का जिला अस्पताल भी शामिल है। यहा उपकरण व मशीनरी फर्नीचर इत्यादि की व्यवस्था स्वास्थ्य विभाग की ओर से की जानी है जिसमें कम से कम एक माह का समय लगेगा। इसके अलावा सेक्टर-38 ए में मल्टीलेवल कार पार्किंग एवं सेक्टर-5 में निर्मित भूमिगत कार पार्किंग के संचालन के लिए एजेंसी के चयन के लिए आरएफपी आमंत्रित की गई है। वहीं, सीएम योगी के कार्यक्रम के मद्देनजर रूट डायवर्जन किया गया है, जिससे जगह-जगह जाम लाग हुआ है। 

 

नोएडा कवेंशन एवं हैबीटेट सेंटर

इसकी अनुमानित लागत 686 करोड़ है। प्राधिकरण सेक्टर-34 में 97 हजार वर्गमीटर भूखंड पर नोएडा कवेंशन एवं हैबीटेड सेंटर विकसित करने जा रहा है। इसकी लागत 685 करोड़ है। परियोजना के अंर्तगत व्यावसायिक हब, सांस्कृतिक मनोरंजन के अलावा विभिन्न कार्यालय स्थापित किए जाएंगे।

इसके 40 फीसद बिल्टअप एरिया में आवासीय गतिविधि की जाएगी। परियोजना में बाह्य क्षेत्र में एलईडी लाइट लगभग 0.5 मेगावाट सोलर पावर जनरेट किया जाएगा। विद्युत वाहनों की चार्जिंग प्वाइंट भी होंगे। परियोजना स्थल को मेट्रो रेल कॉरिडोर से जोड़ा जाएगा। इसमें आडिटोरियम, कन्वेशनल हॉल, व्यावसायिक हब भी विकसित किया जाएगा।

100 एमएलडी क्षमता के एसटीपी का निर्माण

वाप्कोस द्वारा तैयार की गई डीपीआर के अनुसार 2021 तक 411 एमएलडी क्षमता के एसटीपी नियोजित किए जाने लगेगा। जिसके दृष्टिगत वर्तमान में 231 एमएलडी क्षमता क्रियाशील है। मास्टर प्लान 2021 के अनुसार 180 एमएलडी क्षमता के एसपीटी का निर्माण किया जाना शेष है। इस क्रम में सेक्टर-168 में 100 एमएलडी क्षमता के एसटीपी निर्माण की योजना तैयार है। इस एसटीपी से सेक्टर-44, 45ए, 80, 84ए, 85, 93, 93ए, 93बी, 94, 94ए, 100, 105, 108, 124 से 128, 101 से 104, 106, 107ए, 110, 129 से 139, 139ए, 139बी, 140, 140ए, 141, 142, 143, 143ए, 143बी, 144 से 148, 148, 149, 149ए, 150 से 168, ग्राम गेझा, कोंडली, झट्टा, शाहपुर, बादौली, ककराला, नगला चरणदास, भूड़ा, सलारपुर, भंगेल, हाजीपुर आदि के सीवर का शोधन किया जाएगा।

इसे भी पढ़ें: आज UP पुलिस के 49,568 पदों पर भर्ती परीक्षा के नतीजे हो सकते हैं घोषित

गोल्फ कोर्स का निर्माण

सेक्टर-151 ए में गोल्फ कोर्स विकसित किया जाएगा। गोल्फ कोर्स परिसर में क्लब, मिटिंग हाल्स, पार्क आदि का निर्माण किया जाना प्रस्तावित है। इसमें 90 एकड़ में 18 होल्स वाला गोल्फ कोर्स शेष 10 एकड़ में बनाया जाएगा। इस परियोजना की लागत करीब 90 करोड़ रुपये आंकी गई है। इसके आसपास के सेक्टरों को औद्योगिक सेक्टरों के रूप में विकसित किया जा रहा है।

21 हजार 946 एलईडी लाए जाने की योजना

पथ प्रकाश के अब तक 74 हजार एलईडी लाइट लगाई जा चुकी है। उक्त परियोजना के तहत 21946 एलईडी स्ट्रीट स्थापित की जाएंगी। उक्त परियोजना की लागत 8.32 करोड़ रुपये है। वहीं, बॉटेनिकल गार्डन मल्टीलेवल कार पार्किंग में स्टार्ट अप हब का बनाया जाएगा।

सेक्टर-123 में 80 एमएलडी क्षमता के एसटीपी

सेक्टर-123 में 80 एमएलडी क्षमता का एसटीपी का निर्माण किया जाना प्रस्तावित है। इस एसटीपी से सेक्टर-62 से 79, 112, 113, 115, 122, ग्राम सोरहखा, पर्थला खंजरपुर, मामूरा, ङिाजारसी आदि से निकलने वाले सीवर को शोधित किया जाएगा।

पर्थला चौक पर एमपी-3 के सामानान्तर फ्लाईओवर

पर्थला चौक पर अधिकांश समय ट्रैफिक जाम की स्थिति बनी रहती है। इसे जाम मुक्त बनाने के लिए एमपी-3 के सामानान्तर फ्लाईओवर बनाया जाएगा। इसके निर्माण में 90 करोड़ रुपये खर्च होंगे। उक्त के निर्माण होने से सेक्टर-51, 52, 61, 70, 71, 72, 73, 74, 75, 76, 77, 78, 79, 121, 122 के निवासियों को सुगमता होगी।

मल्टीलेवल कार पार्किंग बॉटेनिकल गार्डन मेट्रो स्टेशन

सेक्टर-38 ए में 230186 वर्गमीटर क्षेत्रफल में 580 करोड़ रुपये की लागत से मल्टीलेवल कार पार्किंग तैयार की गई है। इसकी क्षमता 7000 कारों की है। इसमें दो बेंसमेंट ग्राउंड फ्लोर के अलावा छह फ्लोर निर्मित किए गए हैं। यह स्टेशन ब्लू लाइन और मैजेंटा लाइन का जंक्शन होने के चलते लोग अपने वाहन इस पार्किंग में पार्क कर दिल्ली आ-जा सकेंगे। इसके संचालन के लिए प्राधिकरण ने रिक्वेस्ट फॉर प्रपोजल (आरएफपी) जारी किया है।

जीआइसी तकनीक पर आधारित विद्युत उपकेंद्र

सेक्टर-148 में निर्मित 400 केवी उपकेंद्र पर 400/200/132/33 केवी में विद्युत आपूर्ति उपलब्ध है। इस पर 220 केवी के तीन विद्युत उपकेंद्रों एवं 132 केवी के पांच विद्युत उपकेंद्रों को आपूर्ति की जाएगी। इससे नोएडा मेट्रो रेल को भी विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित की गई है। 400 केवी के उक्त उपकेंद्र से नोएडा क्षेत्र के 15 नग 33/11 केवी के उपकेंद्र को भी प्रेषित किया जाएगा। इससे नोएडा क्षेत्र में 1000 एमवीए की निर्बाध आपूर्ति की जा सकेगी।

जिला संयुक्त चिकित्सालय का निर्माण

सेक्टर-39 में 14732 वर्ग मीटर क्षेत्रफल में जिला अस्पताल का निर्माण 344 करोड़ से तैयार किया गया। इसमें 200 बेड के अलावा 40 बेड का ट्रामा सेंटर भी तैयार किया गया है। 72 आवास भी बनाए गए हैं। तीन मंजिला बेसमेंट पार्किंग भी है।

बॉटेनिकल गार्डन पर जीआइएस तकनीक पर 220/33 केवी उपकेंद्र

इस उपकेंद्र के निर्माण में 98.45 करोड़ खर्च किए गए। इससे जनपद के सेक्टर व गांवों में निर्बाध विद्युत आपूर्ति दी जाएगी। इससे सेक्टर-39,29,19 एवं स्वतंत्र पोषकों से नोएडा क्षेत्र के लगभग सात लाख की आबादी को लाभ मिलेगा।

बीओटी के आधार पर एफओबी

एक्सप्रेस-वे पर सेक्टर-145 मेट्रो स्टेशन कों जोड़ने के लिए एफओबी का निर्माण किया गया है। इसकी लागत करीब 10.81 करोड़ रुपये है। इस एफओबी से मोहियापुर, नलगढ़ा व इसके आसपास बसे सेक्टर में रहने वाले लोगों को एक्सप्रेस-वे पार करने में सुविधा होगी। साथ ही वह सीधे मेट्रो स्टेशन तक पहुंच सकेंगे।

भूमिगत पार्किंग सेक्टर-5

इसके निर्माण में 32.25 करोड़ खर्च किए गए। इसका फायदा औद्योगिक क्षेत्र में पार्किंग व्यवस्था को बेहतर करना है। पार्किंग की क्षमता 276 कारों व 42 दो पहिया वाहनों की है।

पुलिस आयुक्त कार्यालय के उद्घाटन के दौरान मंच पर मौजूद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (मध्य में) , प्रभारी मंत्री जय प्रताप (बाएं से दूसरे), कैबिनेट मंत्री सुरेश राणा (बाएं से पहले), सांसद डॉ. महेश शर्मा (दाएं से दूसरे) व विधायक पंकज सिंह (दाएं से पहले) ’अभिनव

लूप इन और लूट आउट का निर्माण

220 केवी बीटीपीएस नोएडा गाजिपुर लाइन के 220 केवी उपकेंद्र सेक्टण-38ए पर लूप-इन लूप-आउट का निर्माण किया गया है। इस परियोजना की लागत करीब 10 करोड़ है। उक्त लाइन की लंबाई 1.25 किलोमीटर है। नोएडा क्षेत्र के सेक्टर-38, सेक्टर-29, सेक्टर-18, सेक्टर-19 एवं स्वतंत्र पोषकों से नोएडा क्षेत्र में निर्वासित लगभग सात लाख आबादी को लाभ मिलेगा।

एफओबी लोगों की राह बनाएंगे आसान

रोड नंबर-6 पर सेक्टर-62 व 63 के बीच एफओबी का निर्माण पांच करोड़ रुपये की लागत से किया गया। इसे बीओटी आधार पर बनाया गया। इसके अलावा बीओटी आधार पर ही सेक्टर-71 व 72 के बीच एफओबी का निर्माण किया गया। इसके अलावा सेक्टर-16, 15, 28 एवं 74 के समीप 4 ¨पक टायलेट का निर्माण किया गया।

एक्सप्रेस-वे के नीचे बनाए जा रहे अंडरपास

नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस-वे के चैनेज 19.4 किलोमीटर पर 46 करोड़ रुपये की लागत से अंडरपास का निर्माण किया जाएगा। उक्त अंडरपास 840 मीटर लंबा व 4 लेन का होगा। इसके निर्माण होने से सेक्टर-164, 168, 148, 149, 150, 151, 152, 153, 154, 155, 156, 157, 158, 159, 160, 161, 168, के निवासियों के साथ साथ मोमनाथल, गढ़ी, समस्तीपुर, कोंडली, काम्बख्शपुर आदि ग्रामवासियों की आवागमन में सुविधा होगी। इसी तरह एक्सप्रेस-वे के चैनेज 10.3 किलोमीटर पर 830 मीटर लंबर 4 लेन का अंडरपास का निर्माण 44 करोड़ रुपये की लागत से बनाया जाएगा। इससे सेक्टर-129, 134, 135, 142, 143, 144, 145, 146 के अलावा कई गांवों के लोगों को फायदा होगा।

आइटीएमएस परियोजना

इंटेलीजेंट ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम परियोजना से यातायात व्यवस्था एवं सर्विलांस के लिए उत्तर प्रदेश पुलिस की सहायता के लिए शुरू किया जा रहा है। इसकी अनुमानित लागत करीब 88.45 करोड़ है। इस प्रोजेक्ट में नोएडा प्राधिकरण क्षेत्र के 84 चौराहों को सम्मलित किया गया है। परियोजना में 150EOFप्टिव ट्रैफिक कंट्रोल सिस्टम, 18 डिटेक्शन सिस्टम, 22 बैरिएबल मैसेज साइन बोर्ड, 693 एएनपीआर कैमरा, 150 आरएलवीडी कैमरा, 354 सर्विलांस कैमरा, 84 पीए सिस्टम लगाए जाएंगे।

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

nineteen − 3 =

Back to top button