जिनके हाथो में होती है यह रेखा, उनके पास कभी नही होती पैसे की कमी

हस्तरेखा शास्त्र में बताया गया कि हथेली में कुछ धन की रेखाएं होती हैं। जिस व्यक्ति के हाथ में यह शुभ रेखाएं होती हैं तो माना जाता है कि वह खूब धन कमाएगा। कई बार लोग ज्योतिषाचार्यों के पास जानने के लिए भी जाते हैं कि उनके भाग्य में धनवान बनने की रेखा है या नहीं। अगर आप भी जानना चाहते हैं कि क्या आपके हाथ में यह रेखाएं हैं या नहीं तो हम आपको बता रहे हैं कि यह रेखाएं हाथ में किस जगह होती हैं। 

Loading...

हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार, यह रेखा कनिष्ठिका अंगुली के नीचे होती है। हालांकि यह रेखा हर किसी के हाथ में नहीं होती है। कहते हैं कि जिनके हाथ में होती है वह भाग्यशाली होते हैं।

हथेली में कहां होती है धन की रेखा

1. हथेली में सबसे छोटी अंगुली कनिष्ठिका  के नीचे सीधी खड़ी रेखा को धन की रेखा कहते हैं।

2. हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार, जिस व्यक्ति के हाथ में धन की रेखा गहरी और स्पष्ट होती है। कहते हैं कि ऐसे लोग समझदारी से धन का निवेश करते हैं।

3. कहते हैं कि जिन व्यक्तियों के हाथ में यह रेखा सीधी न होकर लहरदार होती है। ऐसे लोगों को आसानी से धन की प्राप्ति नहीं होती है।

4. जिन लोगों के हाथ में यह रेखा टूटी-फूटी होती है, वह ज्यादा संपन्न नहीं होते हैं।

5. कहते हैं कि अगर यह रेखा सीधे चंद्र पर्वत तक जाती है तो ऐसे लोग काफी भाग्यशाली और धनवान होते हैं।

ये रेखाएं भी देती हैं समृद्धि और वैभव-

जिन लोगों के हाथ में धन की रेखा दिखाई नहीं देती है, इसका अर्थ यह नहीं है कि वह भाग्यशाली या उनके भाग्य में धन नहीं है। हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार, जिन लोगों के हाथ में जीवन रेखा सही गोलाई में होती है और मस्तिष्क रेखा दो भागों में बंटी होती है और त्रिकोण का चिन्ह होता है। ऐसे लोग भी धनवान होते हैं।

2. अगर दोनों हाथों को मिलाकर अर्ध चंद्र बनता है तो ऐसे व्यक्ति भी पैसों की किल्लत नहीं देखते हैं।

3. हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार, अगर जीवन रेखा, मस्तिष्क रेखा और भाग्य रेखा सही लंबाई और उनपर अशुभ चिन्ह न हो। इसके अलावा जीवन रेखा से निकलने वाली भाग्य रेखा कई हिस्सों में बंटी हो तो ऐसे व्यक्ति खूब धन कमाते हैं। 

loading...
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *