इस जानलेवा बीमारी से राहत दिलाने में मदद करता हैं ये एक पहाड़ी फल

- in हेल्थ

डेंगू मादा एडीज मच्छर के काटने से होता है। खास बात यह है कि 20वीं शताब्दी की शुरुआत में वैज्ञानिकों को इस बात का पता चला कि यह बीमारी डेंगू वायरस की वजह से होती है। डेंगू, एक प्रकार के वायरस से होने वाला रोग है जो की संक्रमित मादा एडीज मच्छर के काटने से फैलता है। इस रोग में तेज बुखार, सिर दर्द, बदन दर्द, जी मचलना, उलटी, दस्त और त्वचा पर लाल दाने हो जाते है। यहां तक की इलाज में देरी की वजह से कई बार व्यक्ति की जान भी जा सकती है। ऐसे में इस जानलेवा बीमारी से राहत दिलाने में एक पहाड़ी फल आपकी मदद कर सकता है। आइए जानते है इसके बारे में ।इस जानलेवा बीमारी से राहत दिलाने में मदद करता हैं ये एक पहाड़ी फलजी हां डेंगू से राहत दिलाने में पहाड़ी फल कीवी आपकी बहुत मदद कर सकता है। इस एक फल में कई फलों के बराबर विटामिंस और मिनरल्स होते हैं। इसमें मौजूद विटामिन सी, एंटीऑक्सीडेंट्स, फाइबर, पोटैशियम व अन्य तत्व डायबिटीज से लेकर डेंगू तक में राहत देते हैं।

डेंगू में आराम
डेंगू के रोगी के शरीर में ब्लड प्लेटलेट्स तेजी से गिरने लगती हैं। जिन्हें ठीक करने में कीवी काफी मदद करता है। इसके अलावा यह शरीर को ताकत देने के साथ डेंगू से जल्दी रिकवर होने में भी मदद करता है। डॉक्टर भी डेंगू के मरीजों को कीवी खाने की सलाह देते हैं।

जवां बनाए रखता है
कीवी में मौजूद विटामिन ई और एंटीऑक्सीडेंट्स त्वचा को पूरा पोषण प्रदान करने में मदद करते हैं। जिसकी वजह से स्किन लंबे समय तक जवां और हेल्दी बनी रहती है। बता दें, एक कप कीवी में 164 मिलीग्राम विटामिन सी पाया जाता है जोकि एक संतरे से भी कई ज्यादा है। विटामिन सी आपको फ्री ऑक्सीजन रेडिकल्स से होने वाले डीएनए डैमेज से भी बचाता है।

डायबिटीज
कीवी में ग्लाइकेमिक इंडेक्स की मात्रा कम होती है। जिसकी वजह से खून में ग्लूकोज नहीं बढ़ता। यही वजह है कि यह डायबिटीज, दिल के रोग और वेट लॉस में काफी फायदेमंद होता है। इसके अलावा इसमें केले जितना ही पोटैशियम भी पाया जाता है जो ऑस्टियोपोरोसिस के मरीजों के लिए अच्छा होता है। यह हड्डियों और मांसपेशियों को मजबूत करने में मदद करता है।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

बुढ़ापा खत्म कर देगा यह फेस मास्क ऐसे लगाए इसे

बढ़ती उम्र के साथ स्किन ढलने लगती है।