बिल्कुल सच: सुनकर आपके कानों को नही होगा यकीन, ये रोबोट 2020 में लड़ेगा चुनाव

- in ज़रा-हटके

कहते है इंसान के हर सवाल का जवाब भागवत गीता में निहित है और ये बात सौ आने सच भी है, लेकिन आज कल की भागदौड़ भरी जिंदगी में कोई भी इंसान अपने सवालों का जवाब पाने के लिए भागवत गीता का अध्यन नहीं कर पाता। हालांकि वो अपने सवालों का जवाब पाने के लिए फोन का इस्तेमाल कर इंटरनेट के जरिए जवाब ढूंडने की कोशिश करता है। लेकिन अब ऐसा नहीं होगा क्योंकि अब इंसान को उसके हर सवाल का जवाब एक इंसान या इंटरनेट नहीं बल्कि एक रोबोट देगा। आपको बता दें कि इंसान के दिमाग में उपजी सवालों की लहरों को दूर करने के लिए वैज्ञानिकों ने एक ऐसा रोबोट बनाया जिसके पास हर सवाल का जवाब होगा और इस रोबोट को वैज्ञानिकों ने ”वर्चुअल पॉलिटिशियन” नाम दिया है।

अभी तक हम रोबोट के वेटर, डॉक्टर, ड्राईवर जैसे कईं रूप देख चुके हैं. अब एक कदम आगे बढ़ते हुए न्यूजीलैंड के वैज्ञानिक ने एक रोबोट को नेता बना दिया है और इससे 2020 में चुनाव लड़वाने की तैयारी भी कर रहां है.

न्यूजीलैंड के 49 वर्षीय उद्यमी निक गेरिट्सन ने दुनिया का पहला कृत्रिम बुद्धि वाला राजनीतिज्ञ रोबोट विकसित किया है, जो आवास, शिक्षा जैसी नीतियों से संबंधित स्थानीय मुद्दों पर पूछे गए सवालों के जवाब दे सकता है. इस रोबोट का नाम ‘सैम’ (SAM) रखा गया है. गेरिट्सन का मानना है कि भले ही प्रणाली पूरी तरह सटीक न हो, लेकिन यह कई देशों में बढ़ते राजनीतिक एवं सांस्कृतिक अंतर को मिटाने में कारगर साबित हो सकती है, क्योंकि एल्गोरिदम में मानवीय पूर्वाग्रह असर डाल सकते हैं, लेकिन पूर्वाग्रह, प्रौद्योगिकी संबंधी समाधानों में चुनौती नहीं हैं.

उन्होंने बताया कि “ कृत्रिम बुद्धि वाला राजनीतिज्ञ रोबोट सैम फेसबुक मैसेंजर के जरिए लोगों को प्रतिक्रिया देना लगातार सीख रहा है. न्यूजीलैंड में साल 2020 के आखिर में आम चुनाव होंगे, तब तक सैम एक प्रत्याशी के तौर पर मैदान में उतरने के लिए तैयार हो जाएगा.”

अरब मेें रोबोट को मिल चुकी है नागरिकता

ये अंकल जो अपने फोन में देख रहे हैं, वो देखकर आप घिना जाएंगे देखे वीडियो

सऊदी अरब में एक महीने पहले ही एक महिला रोबोट सोफिया को नागरिकता मिल चुकी है। यह लोगों से बातचीत भी कर सकती है। इस रोबोट को खाड़ी देशों में किसी सामान्य महिला से ज्यादा अधिकार हासिल हैं।

सैम एक चैटबोट है। फिलहाल इसे कानूनी वैधता नहीं मिली है। यह फेसबुक मैसेंजर के जरिए लोगों को प्रतिक्रिया देना सीख रहा है। प्रायोगिक तौर पर इस रोबोट पर न्यूजीलैंड से जुड़ी योजनाओं, नीतियों और तथ्यों से जुड़े सवाल पूछने के लिए लोगों को सूची में से दिए सवालों के विकल्प का चयन करना होता है। सैम उन सवालों का तय थ्योरी और लोगों की राय के आधार पर जवाब दे रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

चलती ट्रेन में लड़की से हुआ एकतरफा प्यार, और फिर तलाशने के लिए करना पड़ा ये काम

कहते है कि प्यार पहली नजर में ही