बारिश में खान-पान में बरतें ये सावधानियां, नहीं होगी कोई बीमारी

- in हेल्थ

बारिश का मौसम कई लोगों को बहुत खूबसूरत लगता है मगर ये अपने साथ ढेर सारी बीमारियां भी लाता है। बारिश में होने वाली ज्यादातर बीमारियां पेट और त्वचा से जुड़ी होती हैं। इसके अलावा इस मौसम में संक्रमण का भी खतरा बढ़ जाता है। इन बीमारियों से बचाव के लिए आपको कुछ बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए और अपने खान-पान की आदतों में थोड़े बदलाव करने चाहिए।बारिश में खान-पान में बरतें ये सावधानियां, नहीं होगी कोई बीमारी

मसालों का करें प्रयोग

आमतौर पर आपने सुना होगा कि मसालों का ज्यादा प्रयोग सेहत के लिए नुकसानदायक है। मगर आपको बता दें कि भारतीय मसालों में कई ऐसी चीजें हैं, जो आपको गंभीर बीमारियों के साथ-साथ संक्रमण से बचाते हैं। अपने रोज के खाने में लहसुन, अदरक, प्याज, हींग, जीरा, अजवायन, धनिया, हल्दी, काली मिर्च और हरी मिर्च शामिल करें। इन सभी चीजों में एंटी-बैक्टीरियल, एंटी-फंगल, एंटी-पेन और एंटी- इंफ्लेमेट्री गुण होते हैं।

पानी उबाल कर पिएं

बारिश में बीमारियों की एक बड़ी वजह पानी से होने वाले संक्रामक रोग हैं। इसलिए आपको या तो आर. ओ. का पानी पीना चाहिए या पानी उबालकर पीना चाहिेए। दरअसल पानी के द्वारा कई तरह के संक्रमण और बैक्टीरिया आपके शरीर में पहुंच सकते हैं। इसलिए पानी के इस्तेमाल में विशेष सावधानी बरतें।

दालों का सेवन करें

बरसात के मौसम में मौसमी फल और सब्जियों में भी कई तरह के संक्रमण हो सकते हैं। इसलिए फलों और सब्जियों के प्रयोग में सावधानी बरतने की जरूरत होती है। किसी भी फल या सब्जी को बिना अच्छी तरह धोए इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। हरी पत्तियों वाली सब्जियों की अच्छी तरह जांच कर लेनी चाहिए। इस मौसम में दाल का सेवन ज्यादा करना चाहिए क्योंकि दालों में कई तरह के प्रोटीन और एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं, जो आपको स्वस्थ रखने में मदद करते हैं।

तरल पदार्थों का ज्यादा सेवन करें

बरसात के मौसम में ज्यादा से ज्यादा तरल पदार्थों का सेवन अच्छा रहता है। दिनभर में कम से कम 4-5 लीटर पानी पीना चाहिए। पानी शरीर में मौजूद हानिकारक तत्वों को बाहर निकालता है और शरीर को हाइड्रेट रखता है। इसके अलावा गर्म सूप, जूस, छाछ और दूध का सेवन भी करना चाहिए।

मांसाहारी भोजन कम करें

बरसात के दिनों में बैक्टीरिया हर जगह हावी होते हैं। मांसहारी भोजन में इन बैक्टीरिया की संभावना बढ़ जाती है इसलिए मॉनसून में मांसाहारी भोजन का सेवन कम कर देना चाहिए। केवल ताजे मांस का प्रयोग करें, जो धीमी आंच में देर तक अच्छे से पकाया गया हो। बाजार में मिलने वाले मांसाहारी फूड्स से पेट संबंधी रोगों का खतरा बढ़ जाता है। मछली और झींगा जैसै मांसाहारी आहारों से पूरी तरह बचना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

सावधान: लगातार बैठने से इन बीमारियों को दे रहे है न्यौता

जब भी थक जाते है तो हम बैठने