खुला चैलेंज, ये पाँच काम आप चाह कर भी नही कर सकते, चाहे जितनी कोशिश कर लीजिये

- in ज़रा-हटके

कभी कभी ज़िन्दगी में ऐसे लोगों से आमना सामना हो जाता है जो अपने आप को सुपर टैलेंटेड मानते हैं मतलब ऐसे लोगों को लगता है की वह कुछ भी कर सकते हैं। अगर आपको भी लगता है की आप भी कुछ भी कर सकते हैं तो आपको हम कुछ ऐसे काम के बारे में बता रहे हैं जिसे आप शायद ही कर पाएं! ये सभी काम आपके शारीरिक संरचना से ही जुड़ी है और इसे शरीर के अंगों के उपयोग से ही करना होता है लेकिन इसे करना आपके लिए टेढ़ी खीर साबित हो सकती हैं। तो चलिए हम आपको ऐसे ही 5 चीजों के बारे में बता रहे हैं जो शायद सही तरीके से नही कर पाएंगे

तो चलिए देखते हैं कों से काम हैं ये

अपनी जीभ से अपनी कोहनी को छूना

पहली नज़र में पढ़ते समय आसान लगने वाला यह काम आप अगर वास्तविक में कोशिश करेंगे तो शायद ही आप कामयाब होंगे क्यों की अपनी जीभ से अपनी कोहनी को छूना लगभग नामुमकिन है।

आप इसे आज़मा कर देख सकते हैं।

बिना पालक झपकाए छींकना

जी हां , ये दावे के साथ कह सकता हूँ के ये आप लाख कोशिश करलें फिर भी ऐसा नही कर सकते हैं। ऐसा करना असंभव ही है। आप भी ऐसा करने की भी कोशिश कर सकते हैं,कर के देखिए आप कमयाब होते हैं या नही।

OMG! मेट्रो के अंदर की ये तस्वीरें उड़ा देंगी आपके होश, इनको अपने बच्चों से रखें बहुत दूर

पैर की ट्रिक

अगर आपको ऐसा लगता है की आप अपने शरीर के साथ कई प्रक्रिया एक साथ कर सकते हैं तो आप इसे भी आजमा कर देखिए, इसे करने की प्रक्रिया यह है की आप अपने दाहिने पैर को जमीन से थोड़ा ऊपर उठाकर क्लॉक वाइज और अपने दाहिने हाथ को एंटी क्लॉक वाइज घुमाएं। इस बात की अधिक संभावना है की शायद आप ऐसा नही कर पाएंगे।

उंगली की ट्रिक

मुश्किल काम की लिस्ट में अगला चैलेंज भी ट्रिककिंग से ही जुड़ा है। फिर भी आपको लगता है की आप ऐसा कर सकते हैं तो पहले आपको इसे करने की प्रक्रिया बता रहे हैं। इसे करने के लिए अपनी बीच वाली उंगली को हथेली की तरफ मोड़ कर किसी टेबल या प्लेन स्तह पर रख लें, इसके बाद अपना अंगूठा उठाएं फिर सबसे छोटी उंगली उठाए और फिर तर्जनी उंगली को उठाएं , इसके बाद आप रिंग फिंगर को उठाने की कोशिश करें, आप ऐसा नही कर पाएंगे। कोशिश कर के देख लें।

 

You may also like

यहां SEX हड़ताल पर उतरी महिलाएं, कर डाली ऐसी डिमांड जिसे सुनकर पूरी दुनिया हुई हैरान..

आजतक आपने कई तरह की हड़तालों के बारे