रद्द हुआ ट्रंप के दामाद की सिक्योरिटी क्लीयरेंस

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के दामाद और वरिष्ठ सहयोगी जेरेड कुश्नर की टॉप लेवल सिक्योरिटी क्लीयरेंस रद्द कर दी गई है. मामले से जुड़े विश्वसनीय सूत्रों ने इसकी पुष्टि की है. कुश्नर की सिक्योरिटी क्लीयरेंस रद्द करने का यह फैसला अमेरिकी प्रशासन पर गहरा प्रभाव डालेगा.

एएफपी की रिपोर्ट के मुताबिक मामले से जुड़े दो सूत्रों ने ऑफ द रिकॉर्ड अमेरिकी मीडिया में चल रही रिपोर्ट्स की पुष्टि की है. बता दें कि सिक्योरिटी क्लीयरेंस का मामला क्लासीफाइड होता है. सिक्योरिटी क्लीयरेंस रद्द होने के बाद 37 वर्षीय जेरेड कुश्नर के लिए अमेरिका के अति सुरक्षित सीक्रेट्स तक पहुंच पाना संभव नहीं होगा.

ट्रंप ने किया टिप्पणी से इनकार

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप सहित व्हाइट हाउस ने इस पर टिप्पणी करने से इंकार कर दिया है. लेकिन, अधिकारियों ने जोर देकर कहा है कि इस फैसले से कुश्नर के रोल पर कोई असर नहीं पड़ेगा.

हालांकि टॉप सीक्रेट्स या सेंसेटिव कंपार्टमेंटेंड इनफॉर्मेशन तक अपनी पहुंच खोने के बाद व्हाइट हाउस और मिडिल ईस्ट के बीच पावर ब्रोकर के रूप में जेरेड कुश्नर की भूमिका पर सवाल खड़े हो गए हैं.

देखें विडियो…कैसे लाइव बुलेटिन में आपस में लड़ पड़े पाकिस्तान के दो न्यूज एंकर

बता दें कि जेरेड कुश्नर, ट्रंप के चुनावी अभियान का अहम हिस्सा रहे हैं. और व्हाइट हाउस के सलाहकारों में उनकी भूमिका बराबरी की है.

ट्रंप की बेटी इवांका के पति हैं जेरेड

मृदुभाषी जेरेड कुश्नर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की बेटी इवांका के पति हैं और इजरायल-फिलीस्तीन के बीच शांति समझौते के लिए चल रहे प्रयासों का नेतृत्व करने वालों में से एक हैं.

इसके अलावा जेरेड कुश्नर, इजरायली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू की सरकार के लिए वाशिंगटन के तीव्र समर्थन के एक मजबूत समर्थक रहे हैं.

कुश्नर की सिक्योरिटी क्लीयरेंस को लेकर यह फैसला नेतन्याहू के वॉशिंगटन दौरे से ठीक पहले आया है.

‘विश्वसनीयता खोने का खतरा’

पूर्व अमेरिकी वार्ताकार डेविड मिलर के मुताबिक मिडिल ईस्ट में वार्ताकारों के बीच जेरेड कुश्नर अपनी विश्वसनीयता गंवा सकते हैं.  

हालांकि कुश्नर के वकील ने इससे पहले स्वीकार किया था कि उन्होंने क्लीयरेंस प्रकिया को अभी पूरा नहीं किया था. हालांकि उन्हें राष्ट्रपति की डेली ब्रीफिंग से जुड़े सीक्रेट मैटेरियल तक लगातार पहुंच मिल रही थी. अमेरिकी राष्ट्रपति की डेली ब्रीफिंग अमेरिकी इटेंलिजेंस का ‘ताज’ मानी जाती है.

रॉब पोर्टर मामले के बाद बदलाव के आदेश

व्हाइट हाउस चीफ ऑफ स्टॉफ जॉन केली ने क्लीयरेंस सिस्टम में बदलाव के आदेश दिए थे. ऐसा इसलिए किया गया क्योंकि रॉब पोर्टर नाम के एक शीर्ष सहयोगी ने बिना किसी सिक्योरिटी क्लीयरेंस के व्हाइट हाउस में महीनों काम किया, जबकि उन पर अपनी दो पूर्व पत्नियों के उत्पीड़न का आरोप लगा था.

केली ने अपने बयान में कहा था कि वे व्यक्तिगत मामलों पर कमेंट नहीं करेंगे.

इवांका की सिक्योरिटी क्लीयरेंस भी सवालों के घेरे में

एएफपी की रिपोर्ट के मुताबिक इवांका ट्रंप की सिक्योरिटी क्लीयरेंस भी सवालों के घेरे में है. इवांका हाल ही में दक्षिण कोरिया गई थीं और वहां के राष्ट्रपति मून-जेइन के साथ उत्तर कोरिया पर लगाए गए नए प्रतिबंधों पर चर्चा की थी.

कुश्नर के अलावा अन्य स्टॉफ की तरह ही इवांका का भविष्य भी व्हाइट हाउस में अब शक के दायरे में है.

You may also like

पाक ने की वर्ल्ड बैंक से शिकायत, कहा सिंधु जल संधि का उल्लंघन कर रहा भारत

पाकिस्तान के संयुक्त राष्ट्र मिशन के एक बयान