ताड़ी के कारोबार से जुड़े गरीबों का होगा विकास, खर्च होंगे 840 करोड़ रुपये

- in बिहार, राज्य

शराबबंदी के दो वर्ष बीतने के बाद देशी शराब और ताड़ी उत्पादन एवं बिक्री में पारंपरिक रूप से जुड़े अत्यंत निर्धन परिवारों, अनुसूचित जाति एवं जनजाति एवं अन्य समुदाय को समाज की मुख्य धारा से जोडऩे के लिए राज्य मंत्रिमंडल ने सतत जीविकोपार्जन नाम की नई योजना को मंजूरी दे दी है।

ताड़ी के कारोबार से जुड़े गरीबों का होगा विकास, खर्च होंगे 840 करोड़ रुपये

840 करोड़ रुपये खर्च होंगे

योजना के तहत शराब और ताड़ी के उत्पादन एवं बिक्री में पारंपरिक रूप से जुड़े अत्यंत निर्धन परिवारों, अनुसूचित जाति एवं जनजाति एवं अन्य समुदाय के परिवारों की पहचान कर उन्हें आर्थिक रूप से मदद दी जाएगी। मदद कर्ज अथवा सब्सिडी के रूप में होगी। सरकार अगले तीन वर्ष में इस योजना पर 840 करोड़ रुपये खर्च करेगी। 

एक लाख परिवार होंगे लाभान्वित

मंत्रिमंडल की बैठक के बाद ग्रामीण विकास विभाग के सचिव अरविंद कुमार ने बताया कि इस योजना के तहत वैकल्पिक रोजगार सृजन का काम होगा। सरकार का मकसद हाशिये पर खड़े लोगों का क्रमिक विकास करते हुए उन्हें समाज की मुख्यधारा से जोडऩा है। अनुमान है कि एक लाख परिवार इस योजना में आएंगे। इन लोगों का विकास सुनिश्चित करने के लिए माइक्रो प्लानिंग होगी। सूक्ष्म योजना बनाकर परिवारों को आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी।

जीविका ग्राम संगठन करेगा पहचान

ऐसे परिवारों को चिन्हित करने का काम जीविका के ग्राम संगठन के सहयोग से किया जाएगा। ग्राम संगठन की रिपोर्ट के आधार पर परिवारों को रोजगार सृजन के लिए आर्थिक सहायता दी जाएगी। अरविंद कुमार ने बताया कि एक परिवार को रोजगार के करीब साठ हजार रुपये दिए जा सकेंगे।

विवाहिता के साथ गैंगरेप, आरोपियों ने वीडियो बनाकर किया वायरल

75 फीसद राशि ग्रामीण विकास की

ग्रामीण विकास विभाग के मुताबिक योजना के लिए 25 फीसद राशि बकरी, भेड़, मुर्गी पालन जैसी योजनाओं से आएगी शेष 75 फीसद राशि की व्यवस्था ग्रामीण विकास विभाग अपने पास से करेगा। उन्होंने कहा योजना के तहत शराब और ताड़ी के उत्पादन एवं बिक्री में पारंपरिक रूप से जुड़े अत्यंत निर्धन परिवारों के साथ ही अन्य गरीब तबके के लोगों के लिए वैकल्पिक रोजगार सृजन की कवायद की जाएगी।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

मुजफ्फरपुर बालिका गृह मामले में कोर्ट ने आरोपियों की रिमांड अवधि बढ़ाई

मुजफ्फरपुर। मुजफ्फरपुर की एक कोर्ट ने यहां के एक