आधे घंटे तक ढूंढते रहे ऑक्सीजन सिलेंडर की चाबी, मरीज की चली गई जान

- in हरियाणा

जगाधरी के ईएसआइ अस्पताल में हर्निया का ऑपरेशन होने के बाद समय पर ऑक्सीजन न मिलने से एक मरीज की मौत हो गई। मरीज के परिजनों का आरोप है कि ऑक्सीजन सिलेंडर खोलने के लिए स्टाफ को आधा घंटा तक चाबी ही नहीं मिली। जब चाबी मिली तब तक मरीज की मौत हो चुकी थी। अस्पताल प्रशासन मामले की जांच की बात कह रहा हैं।

आधे घंटे तक ढूंढते रहे ऑक्सीजन सिलेंडर की चाबी, मरीज की चली गई जान

 

गुरुनानक पुरा कॉलोनी निवासी अमित वोहरा ने बताया कि वह जगाधरी स्थित अर्जुन मेटल इंडस्ट्री में कार्यरत है। उसका ईएसआइ अस्पताल का कार्ड बना हुआ है। उसके पिता कमल वोहरा (62) को हर्निया बीमारी की शिकायत थी। उनका इलाज ईएसआइ अस्पताल में चल रहा था। बृहस्पतिवार को पिता का ऑपरेशन होना था, लेकिन डॉक्टर नहीं आए। इसलिए शुक्रवार को ऑपरेशन किया गया।

कमल वोहरा के पड़ोसी गुरदीप सिंह ने बताया कि कमल के ऑपरेशन की वजह से वह सुबह ईएसआइ अस्पताल आया था। ऑपरेशन होने के बाद डॉक्टर ने मरीज उन्हें सौंपते हुए कहा कि इसे पुरुष वार्ड में लेकर जाएं। वह खुद स्ट्रेचर पर कमल को दूसरी मंजिल पर लेकर गए। इसके 10 मिनट बाद ही कमल की तबीयत बिगड़ गई।

 अमित के मुताबिक, पिता की तबीयत बिगड़ने पर वह स्टाफ के पास गया, लेकिन उससे कहा गया कि ऑपरेशन होने के बाद थोड़ी बहुत दिक्कत आती है। फिर वह डॉक्‍टर  के पास गया, लेकिन 20 मिनट बाद डॉक्टर आए। डॉक्टर ने बताया कि कमल को सांस लेने में दिक्कत आ रही है। इसके लिए ऑक्सीजन सिलेंडर मंगवाया गया, लेकिन सिलेंडर खोलने के लिए किसी के पास चाबी नहीं थी। स्टाफ ने यहां-वहां देखा, लेकिन कहीं भी चाबी नहीं मिली। ऑक्सीजन न मिलने से उसके पिता की मौत हो गई। इसके बाद स्टाफ को सिलेंडर की चाबी मिली। सूचना पाकर पुलिस मौके पर पहुंची और जांच शुरू की।

 
 
 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

रेवाड़ी गैंगरेप केस: रोहतक में दोस्त की स्पोर्टस एकेडमी में छिपा था आरोपी निशू

रेवाड़ी गैंगरेप केस में पुलिस ने अब तक सिर्फ एक