7वां वेतन आयोग से पहले सरकार ने इन कर्मचारियों को दी सबसे बड़ी सौगात

7th pay commission, इन शिक्षकों को भले ही 7वें वेतन आयोग की सिफारिशों के तहत वेतन नहीं मिल रहा लेकिन राज्‍य सरकार ने उन्‍हें उससे भी बड़ा तोहफा दिया है. पंजाब सरकार ने अपने केंद्रीय शिक्षा कार्यक्रमों के तहत भर्ती 8,886 शिक्षकों को न सिर्फ नियमित किया है बल्कि उनकी सैलरी भी बढ़ा दी है. मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह की अध्यक्षता में हुई मंत्रिमंडल की बैठक में सर्व शिक्षा अभियान के तहत भर्ती 7,356 तथा राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान के तहत भर्ती 1,194 शिक्षकों के नियमितीकरण को मंजूरी दे दी गई.7वां वेतन आयोग से पहले सरकार ने इन कर्मचारियों को दी सबसे बड़ी सौगात

मॉडल स्‍कूल के शिक्षक भी आएंगे दायरे में
इनके अलावा मॉडल स्कूलों के लिए 220 और आदर्श स्कूलों के लिए 116 शिक्षकों को नियमित करने को भी स्वीकृति प्रदान कर दी गई. सरकारी प्रवक्ता ने कहा कि इस संबंध में मुख्यमंत्री के निर्देश पर गठित मंत्रिमडल उप-समिति की सिफारिशों के बाद यह निर्णय किया गया. 

सैलरी बढ़ाकर 15000 रुपए की
प्रवक्ता ने कहा कि हालांकि समिति ने नियमितीकरण के दायरे में लाए जाने वाले सभी शिक्षकों को 3 साल तक 10,300 रुपये प्रति महीने (प्रारंभिक वेतन) देने की सिफारिश की थी, लेकिन मंत्रिमंडल ने उन्हें 15 हजार रुपये प्रति महीने देने का निर्णय किया. उन्होंने कहा कि 3 साल की परिवीक्षा अवधि सफलतापूर्वक संपन्न होने के बाद शिक्षकों को नियमों के अनुरूप नियमित कर दिया जाएगा.

कई राज्‍यों के शिक्षक कर रहे आंदोलान
इससे पहले जम्‍मू-कश्‍मीर के शिक्षक 7वां वेतन पाने के लिए कई माह से प्रदर्शन कर रहे हैं. उन्‍होंने दिल्‍ली में जंतर-मंतर पर भी प्रदर्शन किया था. बिहार में शिक्षकों का एक धड़ा भी सैलरी बढ़ाने की मांग कर रहा है. मीडिया रिपोर्टों की मानें तो बिहार में शिक्षक सरकार के खिलाफ बड़ा आंदोलन शुरू कर सकते हैं. इससे स्‍कूलों में पढ़ाई प्रभावित हो सकती है.

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button