युवती ने व्यापारी से नाजायज संबंध बनाकर ब्लेकमेल किया,फिर अपहरण कर हत्या की

- in राजस्थान

जयपुर के एक व्यापारी से नाजायज संबंध बनाकर ब्लेकमेलिंग करने और अपहरण कर 10 लाख रूपए की फिरौती के लिए हत्या का सनसनीखेज खुलासा हुआ है। जयपुर पुलिस ने इस मामले की मास्टरमाइंड एक युवती और उसके दो साथियों को गिरफ्तार कर लिया है।पुलिस के अनुसार शहर के झोटवाड़ा क्षेत्र में रहने वाला हत्या का शिकार युवक दुष्यंत शर्मा बिल्डिंग मेटेरियल का कारोबार करता था। तीन माह पहले दुष्यंत का आरोपित युवती प्रिया सेठ से टिंडर एप के जरिए संपर्क हुआ था,तब से उनके बीच टिंडर एप और व्हाटसएप के जरिए कॉलिंग और मैसेज के जरिए बातचीत होती रहती थी । इसके बाद दुष्यंत का प्रिया सेठ के अनिता कॉलोनी स्थित फ्लैट पर आना-जाना शुरू हो गया। दोनों के बीच नाजायज संबंध बन गए और दुष्यंत हनी ट्रैप में उलझ गया।

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक रतन सिंह ने बताया कि बुधवार रात को दुष्यंत घर से कार लेकर निकला था। वह प्रिया सेठ के फ्लैट पर पहुंचा। वहां पहले से मौजूद दीक्षांत कामरा और लक्ष्य वालिया ने दुष्यंत से 10 लाख रूपए की फिर मांग की। लेकिन वह नहीं माना तो उसे पूरी रात टॉर्चर किया गया। गुरूवार सुबह प्रिया और उसके साथियों ने दुष्यंत के मोबाइल फोन से उसके पिता को फोन कराया। जिसमें दुष्यंत से दबाव डालकर यह कहलावाया कि मेरा अपहरण हो गया है,मुझे छोड़ने के बदले 10 लाख रूपए मांगे जा रहे हैं। दुष्यंत ने अपने पिता से स्वयं के बैंक खाते में रकम जमा कराने की बात कही। इस पर पिता ने दुष्यंत के खाते में डेढ़ लाख रूपए जमा करा दिए। लेकिन प्रिया और उसके दोनों साथी नहीं माने और फिर दुष्यंत के पिता को फोन कर धमकी दी। इस पर परेशान पिता ने झोटवाड़ा पुलिस थाने पहुंचकर मामले की सूचना दी। पुलिस ने मोबाइल कॉल की लोकेशन के आधार पर आरोपितों और दुष्यंत के बारे में पता लगाने का प्रयास शुरू किया। वहीं दूसरी ओर प्रिया सेठ ने दुष्यंत के खाते से डेढ़ लाख रूपए निकलवाने के बाद फिर उसे टार्चर करना शुरू कर दिया इसी बीच प्रिया को शक हुआ कि पुलिस उन्हे पकड़ सकती है तो उसने अपने दोनो साथियों की मदद से इलेक्ट्री केबल से गला घोंटकर दुष्यंत की हत्या कर दी और धारदार हथियार से उस पर ताबडतोड़ वार किए। इसके बाद तीनों ने मिलकर दुष्यंत के शव को एक बड़े सुटकेस में बंद कर दिया। सुटकेस को कार में लेकर दिल्ली रोड़ की तरफ निकलने और आमेर के पास हाईवे पर सुटकेस फेंककर वापस आ गए। आसाराम के साधक ने फांसी का फंदा लगाया,पिता ने लगाया हत्या का आरोप यह भी पढ़ें इसी बीच गुरूवार रात दुष्यंत का एक दोस्त देवेन्द्र पुलिस थाने पहुंचा और उसने बताया कि दुष्यंत का एक महिला के फ्लैट पर आना-जाना था। पुलिस ने इसी आधार पर प्रिया सेठ के फ्लैट तक पहुंची और शुक्रवार को मामले का खुलासा किया। पूछताछ में सामने आया कि प्रिया सेठ पहले भी ब्लैकमेलिंग के मामले में दो बार पकड़ी जा चुकी है।

इसी बीच प्रिया सेठ ने अपने दो साथियों दीक्षांत कामरा और लक्ष्य वालिया के साथ मिलकर दुष्यंत का एमएमएस बना लिया। इसके बाद युवती अपने दोनों साथियों के साथ मिलकर दुष्यंत को ब्लैकमेल करने लगी। तीनों आरोपितों ने तीन दिन पहले पुलिस में दुष्कर्म का केस दर्ज कराने की धमकी देकर 10 लाख रूपए की मांग की,लेकिन उसने इतनी रकम देने में असमर्थता जता दी।

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक रतन सिंह ने बताया कि बुधवार रात को दुष्यंत घर से कार लेकर निकला था। वह प्रिया सेठ के फ्लैट पर पहुंचा। वहां पहले से मौजूद दीक्षांत कामरा और लक्ष्य वालिया ने दुष्यंत से 10 लाख रूपए की फिर मांग की। लेकिन वह नहीं माना तो उसे पूरी रात टॉर्चर किया गया। गुरूवार सुबह प्रिया और उसके साथियों ने दुष्यंत के मोबाइल फोन से उसके पिता को फोन कराया। जिसमें दुष्यंत से दबाव डालकर यह कहलावाया कि मेरा अपहरण हो गया है,मुझे छोड़ने के बदले 10 लाख रूपए मांगे जा रहे हैं।

व्हॉट्सएप के अलावा ये 5 एप्स हो सकते हैं आपकी पहली पसंद, सिक्योरिटी फीचर्स करेंगे हैरान

दुष्यंत ने अपने पिता से स्वयं के बैंक खाते में रकम जमा कराने की बात कही। इस पर पिता ने दुष्यंत के खाते में डेढ़ लाख रूपए जमा करा दिए। लेकिन प्रिया और उसके दोनों साथी नहीं माने और फिर दुष्यंत के पिता को फोन कर धमकी दी। इस पर परेशान पिता ने झोटवाड़ा पुलिस थाने पहुंचकर मामले की सूचना दी। पुलिस ने मोबाइल कॉल की लोकेशन के आधार पर आरोपितों और दुष्यंत के बारे में पता लगाने का प्रयास शुरू किया। वहीं दूसरी ओर प्रिया सेठ ने दुष्यंत के खाते से डेढ़ लाख रूपए निकलवाने के बाद फिर उसे टार्चर करना शुरू कर दिया 

इसी बीच प्रिया को शक हुआ कि पुलिस उन्हे पकड़ सकती है तो उसने अपने दोनो साथियों की मदद से इलेक्ट्री केबल से गला घोंटकर दुष्यंत की हत्या कर दी और धारदार हथियार से उस पर ताबडतोड़ वार किए। इसके बाद तीनों ने मिलकर दुष्यंत के शव को एक बड़े सुटकेस में बंद कर दिया। सुटकेस को कार में लेकर दिल्ली रोड़ की तरफ निकलने और आमेर के पास हाईवे पर सुटकेस फेंककर वापस आ गए।

 इसी बीच गुरूवार रात दुष्यंत का एक दोस्त देवेन्द्र पुलिस थाने पहुंचा और उसने बताया कि दुष्यंत का एक महिला के फ्लैट पर आना-जाना था। पुलिस ने इसी आधार पर प्रिया सेठ के फ्लैट तक पहुंची और शुक्रवार को मामले का खुलासा किया। पूछताछ में सामने आया कि प्रिया सेठ पहले भी ब्लैकमेलिंग के मामले में दो बार पकड़ी जा चुकी है।  
 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

जब ‘बीयर’ से नहाया टोल प्लाजा, देखते रह गए लोग

अजमेर। आपने शराब के नशे में आदमी को तो