कोरोना संक्रमण से जंग में भारत को फ्रांस का मिला साथ, फ्रांसीसी दूतावास ने की ये बड़ी घोषणा

नई दिल्‍ली: फ्रांस ने सोमवार को कहा कि वह कम से कम 16 और ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्रों की आपूर्ति करेगा और भारत को कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर से निपटने के लिए अतिरिक्त सहायता के रूप में तरल ऑक्सीजन की आपूर्ति को आगे बढ़ाएगा।



फ्रांसीसी दूतावास की ओर से एक बयान में कहा गया, ”यह सबसे बड़ा एकजुटता अभियान है, जिसे फ्रांस ने महामारी की शुरुआत के बाद से चलाया है। यह दोनों देशों के बीच “लंबे समय से चली आ रही, दोतरफा एकजुटता को दर्शाता है, जोकि हमारी रणनीतिक साझेदारी के केंद्र में है।”

10 ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्रों के साथ एक विशेष कार्गो उड़ान जून के मध्य में भारत पहुंचने के लिए तैयार है और एक अन्‍य उड़ान अधिक संयंत्रों के साथ होगी। इनमें से प्रत्येक उच्च क्षमता वाला संयंत्र एक घंटे में बिना रुके 24,000 लीटर ऑक्सीजन का उत्पादन करता है और 250 बिस्तरों वाले अस्पताल को वर्षों तक ऑक्सीजन में आत्मनिर्भर बना सकता है।

बयान में कहा गया है कि फ्रांस ने मई की शुरुआत में आठ ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र दिए और आने वाले सप्ताह में कम से कम दो और देने की योजना है। इसमें कहा गया है कि संयंत्रों द्वारा प्रदान किया गया समर्थन तत्काल राहत और दीर्घकालिक क्षमता लाता है।

पिछले तीन हफ्तों में फ्रांस और भारत द्वारा हिंद महासागर में स्थापित एक ऑक्सीजन जहाज कतर से एक फ्रांसीसी बहुराष्ट्रीय एयर लिक्विड द्वारा दान किए गए 180 टन तरल ऑक्सीजन को लाया है।

कंटेनर कतर में भरे जाते हैं, भारतीय नौसेना द्वारा भारत भेज दिए जाते हैं और फिर भारतीय वायु सेना द्वारा फिर से भरने के लिए खाली वापस लाए जाते हैं। तरल ऑक्सीजन की इस आपूर्ति को जून के अंत तक बढ़ाया जा रहा है, जिससे कई सौ टन ऑक्सीजन की डिलीवरी हो सकेगी।

फ्रांस आने वाले दिनों में भारत को कई सौ ऑक्सीजन सांद्रक और उच्च श्रेणी के वेंटिलेटर भी वितरित करेगा।

बयान में कहा गया है कि राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों के अनुरोध पर अतिरिक्त सहायता प्रदान की जा रही है ताकि दोनों देश एक साथ महामारी की दूसरी लहर से लड़ना जारी रख सकें। सरकार, व्यक्तियों, गैर सरकारी संगठनों, निजी कंपनियों और फ्रांसीसी क्षेत्रों के योगदान सहित फ्रांस से कुल सहायता 55 करोड़ रुपये से अधिक है।

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

one × 5 =

Back to top button