तानशाह “किम जोंग उन” हर जगह अपने साथ लेकर जाते हैं पर्सनल टॉयलेट, वजह जानकर हैरान रह जाएगे आप

किम जोंग उन, उत्तर कोरिया का वो तानाशाह नेता है जो आज पूरी दुनिया के लिए खतरा बनता नजर आ रहा है. अमेरिका जैसे शक्तिशाली देश को अगर किसी ने चुनौती देेने की हिम्मत की थी तो वो किम जोंग उन है. किम जोंग उन उत्तर कोरिया के राष्ट्रपति है जो एक तानाशाह नेता के रूप में उभरे हैं. किम जोंग उन के वैसे तो कई अजीबो-गरीब शौक है लेकिन आज हम आपको उनके जिस शौक या कहें कि मजबूरी के बारे में बताने जा रहे हैं वो जानकर आप हैरान रह जाएंगे.

किम जोंग उन अपने साथ हमेशा रखते हैं ये खास चीज

लोग अक्सर जब कहीं दूर जाते हैं तो अपने साथ कुछ जरूरी सामान लेकर जाते हैं लेकिन किम जोंग उन अपने साथ तो पूरा टॉयलेट ही उठा कर ले जाते हैं. जी हां, ये बात जानकर आपको हैरानी जरूर हो रही होगी लेकिन एकदम सच है कि किम जोंग उन जहां भी जाते हैं वो अपने साथ पर्सनल टॉयलेट रखते हैं.

मालदीव के पूर्व राष्ट्रपति अब्दुल गयूम को 19 महीने की जेल

किम जोंग उन जहां जाते हैं अपने साथ लेकर जाते हैं पर्सनल टॉयलेट

किम जोंग उन का अपने साथ टॉयलेट रखने की वजह ये है कि एक तो वो अपने सुरक्षा को लेकर काफी सतर्क रहते हैं, जब वो कार से कहीं भी सफर करते हैं तो उनके साथ कई कारें जाती है ताकि उनके दुश्मनों को इस बात की भनक भी ना लग पाए कि वो किस कार में सफर कर रहे हैं. जिस कार में वो सफर करते हैं उसमें उनके अलावा उनका पर्सनल टॉयलेट भी होता है. किम जहां भी जाते हैं वो कभी भी किसी पब्लिक टॉयलेट का इस्तेमाल नहीं करते.

तो इस खास वजह के चलते अपने साथ किम जोंग रखते हैं टॉयलेट

अब हम उस खास वजह को बताएंगे जिसके चलते किम जोंग उन अपने साथ हर जगह पर्सनल टॉयलेट लेकर जाते हैं. दरअसल किम जोंग उन अपने साथ टॉयलेट लेकर इसलिए जाते हैं ताकि किसी और देश की खुफिया एजेेंसियां किम जोंग उन के मल का नमूना ना चुरा सके. यही वो बेहद खास वजह है जिसके चलते किम जोंग उन अपने पर्सनल टॉयलेट के अलावा किसी और टॉयलेट का इस्तेमाल नहीं करते.

तानाशाह नेता हैं किम जोंग उन

किम जोंग उन एक तानाशाह नेता है. आमतौर पर किसी भी देश के राष्ट्रपति के लिए प्रथम काम अपनी जनता की भलाई होती है, लेकिन किम जोंग उन के साथ ऐसा कुछ भी नहीं है. खबरों के मुताबिक किम जोंग उन सिर्फ अपनी चलाते हैं, उन्होनें अपने देश उत्तर कोरिया में कई अजीबों-गरीब नियम बना रखें है जैसे- संगीत सुनने पर मनाही, दूसरे देश की फिल्में देखने पर पांबदी जैसे कई नियम ऐसे हैं जिसे लोगों को मानना पड़ता है और अगर वो इस नियम का उल्लंघन करते हैं तो अंजाम इतना बुरा होता है जितना हम सोच भी नहीं सकते.

संयुक्त राष्ट्र अमेरिका और उत्तर कोरिया

हाल ही में अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उत्तर कोरिया के राष्ट्रपति किम जोंग उन के बीच वार्ता को दौर शुरू हुआ था जो अब पूरा हो गया है. खबरों के मुताबिक यह प्रथम वार्ता थी, वहीं सालों से चली आ रही अमेरिका-उत्तर कोरिया की दुश्मनी खत्म होती नजर आ रही है. बता दें ये वार्ता अमेरिका की ओर से बस इसलिए हो रही है ताकि वह उत्तर कोरिया को निरस्त्रीकरण कर सके. अब देखना बांकी है कि डोनाल्ड ट्रंप अपने कार्य में सफल हो पाते हैं या नहीं.

Patanjali Advertisement Campaign

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

मैं नरेंद्र मोदी का रिश्ता करवाने को तैयार हूं: ट्रंप

नई दिल्ली: अक्सर अपने बयानों की वजह से मीडिया