तालिबान: तालिबान ने अफगानिस्तान का प्रस्ताव ठुकराया, हमले की दी चेतावनी

तालिबान ने अफगानिस्तान में नए हमलों की बुधवार को चेतावनी दी है। ऐसा कर उसने अफगान सरकार की शांति वार्ता के प्रस्ताव को ठुकरा दिया है। तालिबान ने बयान जारी कर कहा कि सालाना वसंत हमला ऑपरेशन अल खंदक अमेरिकी सुरक्षा बलों और उनके खुफिया एजेंटों के अलावा उनके स्थानीय समर्थकों को निशाना बनाएगा।

इसमें अमेरिकी आक्रमणकारियों और उनके समर्थकों को मारने और पकड़ने पर मुख्य तौर पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा। यह अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की पिछले साल अगस्त में घोषित नई अफगान रणनीति का जवाब है। तालिबान ने कहा कि अफगानिस्तान में अमेरिकी सेना की मौजूदगी ने शांति के सभी अवसरों को खत्म कर दिया और यह युद्ध लंबा होने का प्रमुख कारण है।

गौरतलब है कि तालिबान शासन को उखाड़ने के लिए अमेरिका के नेतृत्व में 2001 में युद्ध शुरू हुआ था। तालिबान ने फरवरी में किए गए अफगान राष्ट्रपति के शांति वार्ता के प्रस्ताव को साजिश बताया। उसने कहा कि यह प्रस्ताव देश पर अवैध विदेशी कब्जे से लोगों का ध्यान हटाने के लिए है।

अफगान राजनीतिक विश्लेषक अहमद सईदी के मुताबिक, तालिबान मानते हैं कि अमेरिका द्वारा सीधी बातचीत की उनकी पेशकश ठुकराने के बाद युद्ध के अलावा उनके पास कोई विकल्प नहीं है। वे अफगान सरकार को कमजोर करेंगे और चुनाव प्रक्रिया को पटरी से उतारने का प्रयास करेंगे। बता दें कि रविवार को काबुल में मतदाता पंजीकरण केंद्र के बाहर आत्मघाती हमलावर ने विस्फोट किया था जिसमें 60 लोग मारे गए थे। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

चीन का कर्ज बढ़कर 2,580 अरब डॉलर हुआ

चीन का बढ़ता कर्ज अब 2,580 अरब डॉलर