स्मार्टफोन में होती हैं जहरीली गैसें, जो कर रही है लोगों के जीवन को बर्बाद, बचना हैं तो फॉलो करें ये टिप्स

- in जीवनशैली

टेक्नोलॉजी हमारी जीवन का एक अहम् हिस्सा बनते जा रही है आज की आधुनिक टेक्नोलॉजी में सबसे ज्यादा उपयोग स्मार्टफोन का किया जाता है स्मार्टफोन का इस्तेमाल आज के दौर में अत्यधिक तेजी से बढ़ता जा रहा है आधुनिक तकनीक हमारे जीवन का अहम हिस्सा बनती जा रही है

एक तरफ टेक्नोलॉजी हमारे लिए बहुत जरुरी है तो दूसरी तरफ यह हमारे सेहत के लिए हानिकारक भी हो सकती है अधिकतर उपयोग की जाने वाली इलेक्ट्रॉनिक आइटम्स में लिथियम आयन बैटरी का इस्तेमाल होता है जो हमारे सेहत के लिए हानिकारक होती है यदि व्यक्ति अधिक देर तक इसे चार्ज करता है तो इसमें  गेस  उत्सर्जन होने लग जातीं जो  हमारे सेहत के लिए हानिकारक होती है

कोबाल्ट ऑक्साइड  से बनी बैटरी में एनर्जी डेन्सिटी अधिक होती है शोधकर्ताओं ने अपने अध्ययन में बताया कि स्मार्टफोन की बैटरी से कार्बन मोनोऑक्साइड के अलावा 100 से अधिक गेस निकलती है जो मनुष्य के लिए हानिकारक होती है यह स्थिति उस समय आती है जब हम अपने स्मार्टफोन को लोकल चार्जर से चार्ज करते हैं या फिर उसे अधिक देर तक चार्ज करते हैं तब इस तरह की परिस्थिति बन जाती है.

रिसर्च में  करीब 2000 लिथियम बैटरी से रिसर्च में पता चला है कि यदि स्मार्टफोन को लगातार चार्ज किया जाए या फिर यह किसी बंद जगह पर हो तो इसमें से कार्बन मोनो ऑक्साइड जेसी गैस निकलना प्रारंभ हो जाती है जो हमारे लिए घातक साबित हो सकती है यदि हम स्मार्टफोन को अधिक चार्ज करते हैं तो वह बैटरी फट भी सकती है.

एक सफर बर्फ से होते हुए खूबसूरत पहाड़ो का- स्पीति वैली

लीथियम बैटरियों पर रोक :

कुछ देशों में स्मार्टफोन के साथ-साथ इलेक्ट्रॉनिक कार में भी इस तरह की बैटरियों का इस्तेमाल किया जाता है रिसर्च में इस तरह की बैटरियों का इस्तेमाल करने पर पाबंदी की बात कही है इस तरह की बेट्रियो का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए क्योंकि यह हमारे लिए नुकसानदायक साबित हो सकती है. 

वाहनों में भी इस्तेमाल :

दुनियाभर के कई देशों में कुछ इलेक्ट्रॉनिक वाहनों में भी लिथियम आयन बैटरी का इस्तेमाल किया जाता है और इसे बढ़ावा देते हैं इसलिए लोगों को इसके खतरे के खतरे के बारे में सचेत करना जरूरी है.

बचाव :

यदि स्मार्टफोन की बैटरी गर्म  हो जाए तो उसका इस्तेमाल ना करें.

अपने फोन की बैटरी को कभी भी फुल चार्ज ना करें.

सोते समय मोबाइल चार्जिंग पर न लगाएं.

बार-बार बैटरी को चार्ज ना करें.

बैटरी चार्ज करते समय फोन के ओरिजिनल चार्जर का इस्तेमाल अवश्य करें.

डाटा बैंक या USB से मोबाइल चार्जिंग ना करें.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

मां का दूध बच्चे के लिए सर्वोत्तम आहार : डॉ. सुहासिनी

हिमालया ड्रग कंपनी की आयुर्वेद एक्सपर्ट ने दिये