बादल का र‍णजीत सिंह आयोग पर निशाना, कहा- सिख विरोधी एजेंडे का हिस्सा न बनें

चंडीगढ़। पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल ने कहा कि जस्टिस रणजीत सिंह आयोग सिख विरोधर एजेंडे से खुद को दूर रखे। बेअदबी मामले की जांच कर रहे आयोग के नोटिस का जवाब देते हुए जस्टिस रणजीत सिंह से अपील की है कि वे सिखों के जज्बात से खेलने के लिए बनाए गए राजनीतिक कमीशन से खुद को अलग करें और पेशे की मर्यादा बरकरार रखें। बादल ने कहा कि आपसे विनती है कि कांग्रेस सरकार के सिख विरोधी एजेंडे का हिस्सा न बनें।बादल का र‍णजीत सिंह आयोग पर निशाना, कहा- सिख विरोधी एजेंडे का हिस्सा न बनें

उन्होंने कहा, हम कांग्रेस के संकुचित सिख विरोधी एजेंडे के लिए न्यायपालिका का दुरुपयोग करने की कोशिश का विरोध करते हैं। इस कमीशन का मुख्य मंतव्य कांग्रेस की तरफ से श्री गुरुग्रंथ साहब जी की बेअदबी की दुर्भाग्यशाली घटनाओं के लिए सिख जत्थेबंदियां व संगठनों को जिम्मेदार ठहराकर सिख भाईचारे में विवाद खड़ा करने की अपनी राजनीतिक चाल को कानूनी चोला पहनाना है।

उन्होंने कहा, इस आयोग की रिपोर्ट इसका गठन किए जाने से पहले ही तैयार हो गई थी। अब तो इस रिपोर्ट पर दस्तखत करने की रस्मी कार्यवाही होनी है। इसलिए मुझे और मेरी पार्टी को इस जाली कार्यवाही का हिस्सा बनने की कोई जरूरत नहीं लगती। उन्होंने जस्टिस रणजीत सिंह को भेजे जवाबी पत्र में लिखा है कि उनको ऐसी पार्टी की सरकार ने नियुक्त किया है, जिसके हाथ हजारों निर्दोष सिखों के ख़ून से रंगे हैं और जिसने श्री हरिमंदिर साहिब में टैंक चलाने का हुक्म दिया था। इस फौजी हमले में गुरु ग्रंथ साहिबों की न सिर्फ बेअदबी की गई थी, बल्कि उनका नामो निशां मिटा दिया गया था। उन्हें न्यायपालिका पर  पूरा भरोसा है और वह इसका पूरा सम्मान करते हैं।

कहा, स्वतंत्र आयोग बनाया जाए

बादल ने कहा कि धार्मिक स्थानों की बेअदबी की घटनाओं के दोषियों का पर्दाफाश करने के लिए सुप्रीम कोर्ट के किसी मौजूदा जज के नेतृत्व में बनाए स्वतंत्र आयोग को वह सहयोग देंगे। इन घटनाओं के पीछे के सच का पर्दाफाश करना जरूरी है। इन मामलों की उच्चस्तरीय जांच होनी चाहिए। बादल ने कहा कि मेरा जीवन एक खुली किताब है। मैं आज भी एक आजाद आदमी की तरह घूमता हूं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

जवानों की हत्या को लेकर केजरीवाल ने PM मोदी से मांगा जवाब

बीएसएफ जवान नरेंद्र सिंह की शहादत के बाद