पावरकाम की इंफोर्समेंट विंग टीम ने पकड़ी अब तक की सबसे बड़ी 48 लाख की बिजली चोरी, बेस्ट अधिकारियों ने दिया रेड को अंजाम

पावरकाम की इंफोर्समेंट विंग टीम ने विगत सोमवार को रात 12 बजे सैनी कालोनी में एक उद्योगपति कुंडी लगाकर कई वर्षों से बिजली चोरी कर रहा था। उसके बड़े नेताओं से संबंध हैं। हालांकि पावरकाम को भनक लगी तो छापामारी करके महानगर में अब तक की सबसे बड़ी 48 लाख रुपये की बिजली चोरी पकड़ी गई।  मामले में कार्रवाई रात दो बजे तक चली। पारवकाम ने यह सब कुछ पूरी योजना बनाकर किया था। कारोबारी को पकड़ने के लिए पावरकाम की इंफोर्समेंट विंग ने चार टीमें बनाई। दबिश करने से पहले टीमों ने तीन दिन पहले प्लानिंग कर ली थी। इनमें वे अधिकारी व कर्मचारी शामिल थे जो विभाग से सम्मानित हो चुके हैं। इसके बाद एक्शन शुरू हुआ। 

चार टीमों में जालंधर के विंग के सीनियर एक्सईएन सुखपाल सिंह, जालंधर के सीनियर एक्सईयन राहुल कपूर व होशियारपुर के सीनियर एक्सईयन गुरप्रताप सिंह व जालंधर के इंजीनियर धमेन्द्र कुमार, पावरकाम के एंटी थेफ्ट के एएसआइ शिव कुमार व हेड कांस्टेबल मनजीत सिंह शामिल थे। चोरी को पकड़ने के लिए दो-तीन दिन पहले खपतकार को पकड़ने के लिए प्लानिंग बनाई गई। प्लान के मुताबिक काम किया गया कि कैसे कनेक्शन को चेक किया जाए ताकि किसी को भनक न लग सके।

टीम को लीड करने वाले अधिकारी वीसी से एक दूसरे से जुड़े

देर रात खपतकार के घर दबिश करने से पहले चार टीमों को लीड कर रहे अधिकारी लाइव वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए एक दूसरे के साथ कनेक्ट थे। पल-पल की जानकारी फोन के माध्यम से इंफोर्समेंट विंग के आला-अधिकारियों को मिल रही थी। चोरी करने से पहले मुहल्ले की लाइट बंद की गई ताकि खपतकार के पारिवारिक सदस्य को भनक तक न लगे। टीम लीड कर रहे अधिकारी खपतकार की औद्योगिक इकाई के अंदर दीवार फांद कर गए।

कार्रवाई को रोकने के लिए विधायक दे रहे थे दखल

कार्रवाई रोकने के लिए अधिकारियों के पास विधायकों के फोन भी आए लेकिन विंग के अधिकारी ड्यूटी पर डटे रहे। कहा जा रहा है कि रेड दौरान अधिकारियों को कई जगहों से फोन भी करवाए गए लेकिन कार्रवाई जारी।रही। खपतकार को विंग ने 48 लाख रुपए का जुर्माना लगाया दिया है। एफआईआर भी दर्ज कर ली गई है।

पावरकाम के इंफोर्समेंट विंग के डिप्टी चीफ इंजीनियर रजत शर्मा ने कहा कि रेड प्लानिंग के मुताबिक की गई थी। रेड में वहीं अधिकारी शामिल किए गए थे तो बढ़िया काम किए जाने को लेकर विभाग से सम्मानित हो चुके हैं। 

वर्ष के शुरुआत में विंग ने पकड़ी सबसे बड़ी बिजली चोरी

विंग ने वर्ष के शुरूआत में फिलहाल अभी तक सबसे बड़ी बिजली चोरी पकड़ी है। लीड करने वाले चारों एक्सईयन अब तक पचास से अधिक बड़ी व 600 के करीब छोटी बिजली चोरी पकड़ी है। विंग में बेहतर काम व बिजली चोरों पर शिंकजा कसने के लिए विभाग से सम्मानित हो चुके हैं।

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya

Leave a Reply

Your email address will not be published.

1 × two =

Back to top button